Monday, April 15, 2024
HomePradeshBiharविश्व अंगदान दिवस पर परिचर्चा आयोजित

विश्व अंगदान दिवस पर परिचर्चा आयोजित

ध्रुव कुमार सिंह, मुजफ्फरपुर, बिहार,  

रामदयालु सिंह महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) इकाई द्वारा “विश्व अंगदान दिवस” पर परिचर्चा आयोजित

रामदयालु सिंह महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा आयोजित स्पेशल कैंप के छठे दिन “विश्व अंगदान दिवस” पर परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा में मुख्य वक्ता के रूप में डे लाइट हॉस्पिटल के डॉ.अफाक अहमद ने कहा कि अंगदान महादान है। विश्व अंगदान दिवस के अवसर पर दुनियाभर में लोगों को अंगदान के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 65 वर्ष की आयु तक का कोई भी व्यक्ति अंग दान कर सकता है। अंगदान के रूप में किडनी, हार्ट,आंख,अग्नाशय आदि महत्वपूर्ण अंगों का दान दिया जाता है। एक अंग दाता आठ से ज्यादा जीवन को बचा सकता है। भारत सरकार मानव अंग अधिनियम 1994, अंगदान की अनुमति देता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्राचार्या डॉ.अमिता शर्मा ने कहा कि 1954 में पहली बार अंगदान किया गया था। उस समय पहली बार रोनाल्ड ली हेरिक ने अपने भाई को किडनी दान देकर नया जीवन प्रदान किया था। डॉ.जोसेफ मरे ने पहली बार किडनी ट्रांसप्लांट किया था। इस मानवीय कार्य हेतु साल 1990 में डॉ जोसेफ मरे को फिजियोलॉजी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने बताया कि हमारे पौराणिक आख्यानों में दधीचि द्वारा हड्डी दान की कथा है जो हमें बताती है कि शरीर के अंगों का दान कितना महत्वपूर्ण है। रामदयालु सिंह महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना की कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ.पयोली ने कहा कि अंगदान दिवस लोगों के जान बचाने का एक बेहतरीन मौका देता है। हर व्यक्ति को अपने बहुमूल्य अंगों को दान देने का संकल्प लेना चाहिए। इस अवसर पर डे लाइट हॉस्पिटल के द्वारा मेडिकल कैंप भी लगाया गया. जिसमें डॉ.फिलजा अशरफ, डॉ.शाहनवाज, रवि शंकर, ओम प्रकाश, अजय, सुमन, अरबाज, सुधा कुमारी एवं आमिर मेडिकल टीम के सदस्य के रूप में शिरकत किये। कार्यक्रम में डॉ. पयोली, डॉ.रजनीश कुमार गुप्ता, डॉ.ललित किशोर, चंद्र विवेक, सतीश, श्रावणी, कृष्णा, रत्ना एवं शिवम ने अंगदान का संकल्प लिया। कार्यक्रम में पर महाविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ.राजीव कुमार, डॉ.मीनू, डॉ.गणेश कुमार शर्मा, पंकज भूषण,मनीष कुमार सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएंउपस्थित थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments