Monday, April 15, 2024
HomePradeshBiharविद्यार्थियों की उपस्थिति बढ़ाने में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका

विद्यार्थियों की उपस्थिति बढ़ाने में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका

ध्रुव कुमार सिंह, मुजफ्फरपुर, बिहार,  

रामदयालु सिंह महाविद्यालय में निरीक्षण के दौरान शिक्षकों से संवाद करते हुए प्रतिकुलपति ने कहा कि विद्यार्थियों की उपस्थिति बढ़ाने में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका

रामदयालु सिंह महाविद्यालय में निरीक्षण के दौरान बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय के प्रति-कुलपति प्रो.रविन्द्र कुमार ने शिक्षकों से संवाद करते हुए कहा कि छात्रों की उपस्थित बढ़े, इसमें शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। उन्होंने बताया कि नई शिक्षा पद्धति के तहत सभी विषयों के सिलेबस बदल गए हैं। शिक्षक स्वाध्याय करें, विभिन्न पाठ्य पुस्तकों का अध्ययन कर अपने को तैयार करें। पूरी तैयारी के साथ वर्ग में जाएं तो छात्रों को संतुष्टि होगी। छात्र वर्ग में जरूर आएंगे। उन्होंने छात्रों की बढ़ती उपस्थिति को देखते हुए संतोष व्यक्त किया और शिक्षकों को अच्छे से अध्यापन के लिए प्रेरित किया। छात्रों से संवाद करने पर उन्होंने संतोष व्यक्त किया कि शिक्षक मेहनत कर अच्छा पढ़ रहे हैं। उन्होंने एनएसएस,एनसीसी, एवं खेल की गतिविधि को बढ़ाने को कहा। इसके साथ ही हर विभाग की तरफ से सेमिनार, संगोष्ठी एवं वर्कशॉप होने चाहिए ताकि छात्रों का कैंपस से जुड़ाव हो सके और ज्यादा उपस्थिति बढ़ाने को निर्देशित करते हुए उन्होंने कहा कि महाविद्यालय की तरफ से अभिभावकों को फोन एवं पत्र के माध्यम से सूचित करें कि उनके बच्चे वर्ग में आएं। निरीक्षण के दौरान उन्होंने लाइब्रेरी की स्थिति, पेयजल और टॉयलेट की व्यवस्था, सर्विस बुक कैश बुक संबंधित कई बिंदुओं पर  भी पड़ताल की। उन्होंने निर्देशित किया कि हर हाल में जल्द से जल्द सारे पेंडिंग वर्क को अपडेट कर लिया जाए। इस अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ.अमिता शर्मा ने कहा कि वरिष्ठ शिक्षक, बीपीएससी एवं विश्वविद्यालय सेवा आयोग से आए शिक्षक, एवं अतिथि शिक्षकों के द्वारा अच्छे ढंग से अध्यापन कार्य हो रहा है, जिसके कारण छात्रों की उपस्थिति लगातार बढ़ रही है। इसके बाद भी जिन छात्रों की उपस्थिति नगण्य हो रही है, उन छात्रों का नामांकन रद्द कर दिया जाएगा। बिहार सरकार, राजभवन एवं विश्वविद्यालय के निर्देशों का अनुपालन शत-प्रतिशत सुनिश्चित किया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान प्रति-कुलपति के द्वारा दिए गए सुझावों को त्वरित गति से अमल में लाया जाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments