Monday, April 15, 2024
HomeIndiaग्लेनमार्क फार्मा और ओमरॉन हेल्थकेयर इंडिया ने मिलाया हाथ

ग्लेनमार्क फार्मा और ओमरॉन हेल्थकेयर इंडिया ने मिलाया हाथ

उच्च रक्तचाप में अज्ञानता से निपटने के लिए ग्लेनमार्क फार्मा और ओमरॉन हेल्थकेयर इंडिया ने मिलाया हाथ
अनिल बेदाग
मुंबई : रिसर्च में अग्रणी एक इंटीग्रेटेड ग्लोबल फार्मास्युटिकल कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड (ग्लेनमार्क) ने होम ब्लडप्रेशर मॉनिटरिंग और हृदय रोग प्रबंधन के लिए सॉल्यूशन उपलब्ध कराने वाली ग्लोबल जापानी कंपनी की भारतीय इकाई ओमरॉन हेल्थकेयर इंडिया के साथ हाथ मिलाया है। यह साझेदारी घर पर रक्तचाप की निगरानी के लिए सही उम्र (18 वर्ष) पर जागरूकता पैदा करने के लिए की गई है।
     सही उम्र पर रक्तचाप की जांच शुरू करने से संबंधित दिशानिर्देशों की कमी के कारण जांच शुरू करने में उपेक्षा हुई है, जिसका नतीजा यह हुआ है कि कई लोग उच्च रक्तचाप और इसकी जटिलताओं की चपेट में आ गए हैं। इस गंभीर मुद्दे से निपटने के लिए ग्लेनमार्क ने पूरे भारत में 94 हृदय रोग विशेषज्ञों के साथ चर्चा शुरू की, जिससे इस बात पर सर्वसम्मति बनी कि रक्तचाप की जांच शुरू करने के लिए 18 वर्ष एक आदर्श उम्र है। विशेषज्ञों का यह सर्वसम्मत बयान ‘जर्नल ऑफ द एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ऑफ इंडिया (जेएपीआई)’ में 2020 में प्रकाशित हुआ था।
     इस जागरूकता अभियान को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए लगभग 92,000 हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स (एचसीपी) तक पहुंचने का प्रयास किया जाएगा। इस व्यापक दृष्टिकोण का उद्देश्य रक्तचाप की शीघ्र जांच को बढ़ावा देना और उच्च रक्तचाप जागरूकता को लेकर व्यापक प्रभाव कायम करना है।
    इस सहयोग के बारे में बोलते हुए ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड के एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट और हैड ऑफ इंडिया फॉर्मूलेशन आलोक मलिक ने कहा, ‘‘उच्च रक्तचाप चिकित्सा में अग्रणी होने के नाते हम सार्वजनिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए समर्पित होकर काम कर रहे हैं। ओमरॉन हेल्थकेयर इंडिया के साथ हमारा सहयोग उच्च रक्तचाप और प्रारंभिक रक्तचाप जांच के बारे में जागरूकता बढ़ाने की हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है।
     ओमरॉन हेल्थकेयर इंडिया के मैनेजिंग
भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) द्वारा किए गए एक हालिया क्रॉस-सेक्शनल अध्ययन के अनुसार, उच्च रक्तचाप की व्यापकता में चिंताजनक वृद्धि दर्ज की गई है। 2014 में 20$ आयु वर्ग के लोगों में 29.8 प्रतिशत लोग उच्च रक्तचाप से पीड़ित थे, जबकि वर्तमान दौर में यह समस्या 35.5 प्रतिशत लोगों तक पहुंच गई है। शहरी क्षेत्रों में, यह प्रचलन और भी अधिक है, जो बढ़कर 40.7 प्रतिशत हो गया है। चौंकाने वाली बात यह है कि भारत की आधी आबादी इस बात से अनजान है कि वे उच्च रक्तचाप से प्रभावित हैं। उम्रदराज लोगों की तुलना में युवा पीढ़ी में जागरूकता बहुत कम है। भारत ने इस मुद्दे से प्रभावी रूप से निपटने के अपने प्रयासों के तहत, 2025 तक 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों में उच्च रक्तचाप (बीपी) के प्रसार में 25 प्रतिशत की सापेक्ष कमी लाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उच्च रक्तचाप के बारे में जागरूकता बढ़ाने की दिशा में ठोस प्रयास करने की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त, लोग अगर अधिक जागरूक होंगे, तो वे प्रबंधन संबंधी रणनीतियों को ज्यादा प्रभावी तरीके से अपना सकेंगे।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments