Sunday, October 2, 2022
HomeIndiaRahul Gandhi Bharat Jodo yatra: 'यह काफी पुराना संदेश है', 'भारत जोड़ो'...

Rahul Gandhi Bharat Jodo yatra: 'यह काफी पुराना संदेश है', 'भारत जोड़ो' यात्रा को लेकर राहुल गांधी का बयान, केरल को लेकर कही ये बात


Image Source : PTI
Rahul Gandhi’s Bharat Jodo yatra

Highlights

  • ‘केरल में एक अच्छी शिक्षा प्रणाली है’
  • ‘राज्य में सबसे अधिक करुणामय नर्स’
  • ‘केरल इस राज्य में सभी का सम्मान करता है’

 

Rahul Gandhi Bharat Jodo yatra: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को कहा कि केरल राज्य में सभी का सम्मान करता है और यह खुद को विभाजित होने या नफरत फैलाने की अनुमति नहीं देता है और ‘भारत जोड़ो’ यात्रा इन्हीं विचारों का विस्तार है। राहुल गांधी ने यात्रा के 5वें दिन की समाप्ति पर बड़ी संख्या में लोगों को संबोधित करते हुए तिरुवनंतपुरम में कहा, “केरल के लोगों के लिए एक साथ खड़े होना, सद्भाव में एक साथ काम करना स्वाभाविक और सामान्य है और आपने इसे देश के बाकी हिस्सों को दिखाया है।” उन्होंने कहा कि राज्य में एक अच्छी शिक्षा प्रणाली है और सबसे अधिक करुणामय नर्स हैं और इसकी वजह यह है कि केरल इस राज्य में सभी का सम्मान करता है। 

 ‘भारत जोड़ो’ यात्रा इन्हीं विचारों का विस्तार है- राहुल गांधी

उन्होंने कहा, “यह खुद को विभाजित नहीं होने देता और न ही राज्य में नफरत फैलाने देता है और ‘भारत जोड़ो’ यात्रा इन्हीं विचारों का विस्तार है।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस यात्रा के माध्यम से जो संदेश फैलाने की कोशिश कर रही है, वह कोई नया संदेश नहीं है। उन्होंने कहा, “यह काफी पुराना संदेश है, जो केरल के डीएनए में है।” गांधी ने यात्रा का समर्थन करने के लिए इतनी बड़ी संख्या में आने के लिए लोगों को धन्यवाद दिया। कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो’ यात्रा का केरल में 19 दिन का सफर राजधानी तिरुवनंतपुरम के पारस्साला इलाके से रविवार सुबह शुरू हुआ। तीन घंटे की यात्रा का पहला चरण यहां नेय्यत्तिनकारा में पूर्वाह्न लगभग साढ़े दस बजे समाप्त हुआ और तीन घंटे का दूसरा चरण शाम पांच बजे से शुरू हुआ। 

Rahul Gandhi

Image Source : PTI

Rahul Gandhi

राहुल गांधी ने जीआर पब्लिक स्कूल के छात्रों और बलरामपुरम के हथकरघा श्रमिकों के साथ बातचीत की। कांग्रेस की केरल इकाई की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि गांधी ने कम वेतन, सरकार से लाभ की कमी और कच्चे माल की बढ़ती लागत जैसी बुनकरों की चिंताओं को सुना और कहा कि वह उन्हें न केवल हथकरघा श्रमिकों के रूप में देखते हैं, बल्कि उन लोगों के रूप में देखते हैं, जो एक ऐतिहासिक और पारंपरिक उद्योग की रक्षा कर रहे हैं। उनके काम की प्रशंसा करते हुए, उन्होंने सुझाव दिया कि वे नए डिजाइन और नवाचारों के साथ आते हैं। कार्यकर्ताओं ने उन्हें हथकरघा से बना कांग्रेस का चिन्ह भी भेंट किया। 

Latest India News





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments