Monday, August 8, 2022
HomeIndiaPresident Election: राष्ट्रपति चुनाव के लिए किसान ने भरा भर्चा, कहा- महादेव...

President Election: राष्ट्रपति चुनाव के लिए किसान ने भरा भर्चा, कहा- महादेव के आदेश को कैसे टाल सकता था


Image Source : SOCIAL MEDIA
Chandauli Farmer Filed Nomination for Presidential Election
 

Highlights

  • ‘मैं किसान का बेटा हूं और 10वीं तक की पढ़ाई की है’
  • ’10 राज्यों के सांसदों ने समर्थन करने का भरोसा दिया’
  • ‘कुछ समस्याओं के समाधान के लिए चुनाव लड़ रहा’

President Election: उत्तर प्रदेश के चंदौली के किसान विनोद कुमार यादव ने आज सोमवार को दिल्ली में राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया। पर्चा भरने के बाद उन्होंने कहा, ”सपने में नंदी पर सवार होकर आए महादेव ने आदेश दिया था कि राष्ट्रपति का चुनाव लड़ो। उनके आदेश को भला कैसे टाल सकता था।”

विनोद ने कहा, “रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के गांव के बगल में मेरा गांव है। मैंने नामांकन कर दिया है। अब वापस गांव लौट रहा हूं। देश के 10 राज्यों के सांसदों से मेरी बात हुई है। सभी ने मेरा समर्थन करने का भरोसा दिया है। अब सांसदों-विधायकों का समर्थन जुटाकर मैं राष्ट्रपति का चुनाव जीतूंगा। इसमें जीत दर्ज कर अपने चंदौली जिले का नाम रोशन करूंगा।”

कई राज्यों के सांसदों ने आश्वस्त किया है कि वे हमारा सहयोग करेंगे’

विनोद कुमार यादव, चंदौली जिले के इलिया क्षेत्र के कलानी गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया, “मैं किसान का बेटा हूं और 10वीं तक की पढ़ाई की है। 2005-06 से चुनाव लड़ना शुरू किया था। बीडीसी, ग्राम प्रधान, जिला पंचायत सदस्य, विधानसभा और लोकसभा सबका चुनाव लड़ा। हालांकि, किसी भी चुनाव में जीत नहीं मिली।” उन्होंने कहा, “चुनाव लड़ने के लिए यूपी, बिहार, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, गोवा, दिल्ली, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश और कर्नाटक सहित सभी राज्यों के सांसदों से बात चल रही है। सभी ने आश्वस्त किया है कि वे हमारा सहयोग करेंगे।”

‘कुछ समस्याओं के समाधान के लिए राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहा हूं’

उन्होंने कहा, “कुछ समस्याओं के समाधान के लिए मैं राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहा हूं। 15 साल की लड़कियों को पढ़ने-लिखने के लिए आने-जाने का किराया फ्री होना चाहिए। सभी प्राइमरी स्कूल में इंग्लिश के दो-दो शिक्षक होने चाहिए। हर गांव में ट्यूबवेल लगना चाहिए, ताकि किसानों को खेत की सिंचाई में दिक्कत न हो। लड़की की शादी हो, तो सारा खर्च लड़के वालों को उठाना चाहिए। मेरी प्राथमिकता में गांव, किसान और नौजवान के साथ ही समाज के सभी वर्ग के लोग हैं।”





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments