Thursday, January 20, 2022
HomeUttar Pradeshnoida Vidhansabha chunav 2022: UP Vidhan Sabha Chunav: ब्राह्मण चेहरे पर विपक्षी...

noida Vidhansabha chunav 2022: UP Vidhan Sabha Chunav: ब्राह्मण चेहरे पर विपक्षी दलों का दांव, BJP की सुरक्षित सीट पर ‘ब्राह्मण’ प्रत्याशी उतारे – know everything about noida assembly seats of gautam budh nagar districts


वीरेंद्र शर्मा, नोएडा
दिल्ली से सटी नोएडा विधानसभा सीट अहम मानी जाती है। यह सीट बीजेपी के लिए सुरक्षित भी मानी जाती है। यहीं वजह है कि 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने नोएडा से पंकज सिंह को टिकट देकर चुनाव लड़ाया और जीत दर्ज की। पंकज सिंह (Pankaj Singh) रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के बेटे हैं। यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 (UP Vidhan Sabha Chunav) से पहले विपक्षी दलों की नजर भी इस सुरक्षित सीट पर टिकी हुई है। इस सीट पर शहरी वोटर्स का दबदबा हमेशा से रहा है। एसपी, बीएसपी समेत कई पार्टियां शहरी वोटरों को रुझाने के लिए ब्राह्मण चेहरे पर दांव लगा रही हैं।

यूपी चुनाव से पहले सभी राजनीतिक दलों में जोड़तोड़ शुरू हो गई है। अपनी पार्टी छोड़कर नेता दूसरे दल में खुद को सुरक्षित देख रहे हैं। बीजेपी की सुरक्षित सीट पर इस बार चुनावी दंगल में कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती है। 2012 विधानसभा चुनाव में बीजेपी से डॉ. महेश शर्मा ने जीत दर्ज की थी। हालांकि, 2014 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने विमला बाथम को अपना प्रत्याशी बनाया और उन्होंने जीत दर्ज की। बीजेपी की सुरक्षित सीट मानी जाने वाली नोएडा सीट से 2017 में रक्षामंत्री राजनाथ सिंट के बेटे पंकज सिंह को चुनाव लड़ाया था। उस दौरान स्थानीय नेताओं ने भी बीजेपी से टिकट पाने के लिए अपनी दावेदारी ठोंकी हुई थी। हालांकि, आलाकमान के फैसले से भी कुछेक नेता नाराज भी दिखाई दिए थे। इस सीट पर शहरी वोटर्स का दबदबा अधिक है। लिहाजा जातिगत गठजोड़ में भी विपक्षी दल लगे हुए हैं।

सीट जीतने के लिए एसपी भी लगा रही है पूरा जोर
नोएडा सीट पर शहरी वोटर्स की संख्या अधिक होने की वजह से एसपी ब्राह्मण चेहरे पर दांव लगा सकती है। एसपी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने हाल ही में दफ्तर बुलाकर फेडरेशन ऑफ नोएडा रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (फोनरवा) के अध्यक्ष योगेंद्र शर्मा को पार्टी की सदस्यता दिलाई है। सेक्टर और सोसाइटी में इनकी पकड़ अधिक मानी जाती है। यहीं वजह है कि फोनरवा के पिछले चार माह पहले हुए चुनाव में योगेन्द्र शर्मा लगातार दूसरी बार अध्यक्ष बने थे। डिस्ट्रिक्ट डेवलपमेंट रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन (डीडीआरडब्ल्यूए) के अध्यक्ष एनपी सिंह को इनके पैनल ने करारी शिकस्त दी थी। ये लगातार नोएडा अथॉरिटी और सरकार के सामने सेक्टरों और सोसाइटियों की समस्या उठाते रहे हैं। माना जा रहा है कि 2022 में एसपी की तरफ से योगेंद्र शर्मा चुनाव लड़ेंगे।

मायावती के लिए भी है अहम
यूपी की पूर्व सीएम मायावती (Mayawati) गौतमबुद्ध नगर के बादलपुर गांव की रहने वाली है। ऐसे में नोएडा की तीनों सीट नोएडा, दादरी और जेवर इनके लिए अहम है। चर्चा है कि जल्द ही नोएडा से मायावती भी ब्राह्मण चेहरे को विधानसभा चुनाव 2022 में उतार सकती हैं। हाल ही में कांग्रेस के कृपाराम शर्मा बीएसपी में शामिल हुए थे। कांग्रेस में लबी पारी खेलने के बाद कृपाराम शर्मा का बीएसपी में आना एक कास्ट फैक्टर माना जा रहा है। शहरी वोटरों को साधने के लिए नोएडा में ब्राह्मण चेहरा भी एक फैक्टर बनकर जीत की राह आसान कर सकता है।

यह भी है समीकरण
शहरी वोटर्स के साथ इस सीट पर एसपी का गढ़ भी माना जाता है। गांवों में एसपी के वोटर है। माना जा रहा है कि एसपी ब्राह्मण चेहरे को अपना प्रत्याशी बनाती है तो फायदा हो सकता है। साथ ही बीजेपी के वोट बैंक में सेंध लग सकती है। उधर, मायावती की गृह जनपद की सीट होने से बीएसपी को भी फायदा हो सकता है।



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments