Wednesday, December 7, 2022
HomeUttar PradeshNoida Rape Accused Arrested from Gurugram: नोएडा के रेप आरोपी को गुरुग्राम...

Noida Rape Accused Arrested from Gurugram: नोएडा के रेप आरोपी को गुरुग्राम से अरेस्ट किया गया नोएडा की हाइराइज सोसायटी से आरोपी नीरज सिंह सिक्यूरिटी गार्ड को कुचलने का प्रयास करते हुए भाग निकला था

नोएडा: उत्तर प्रदेश के नोएडा में सिक्यूरिटी गार्ड को कथित तौर पर कुचलकर भागने वाले रेप के आरोपी को गौतमबुद्धनगर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गुरुवार को यह कार्रवाई हुई है। सप्ताह शुरू में नोएडा में एक हाईराइज सोसाइटी के एक सुरक्षा गार्ड को कथित रूप से कुचलने का मामला सामने आया। वीडियो वायरल होने के बाद यह मामला गरमाया। इसके बाद आरोपी की पहचान रेप आरोपी के रूप में हुई। गुरुग्राम में एक निजी फर्म के महाप्रबंधक और सेक्टर 120 के आम्रपाली राशि अपार्टमेंट के निवासी नीरज सिंह के रूप में पहचाने जाने वाले संदिग्ध को गुरुवार को गुरुग्राम में उसके कार्यस्थल से गिरफ्तार किया गया।

सेक्टर 113 पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर शरद कांत ने कहा है कि नीरज सिंह पर धारा 376(बलात्कार), 377(अप्राकृतिक अपराध), 504(जानबूझकर अपमान), 506(आपराधिक धमकी) और 323(स्वेच्छा से चोट पहुंचाना) के तहत मामला दर्ज किया गया था। उन पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं में पिछले दिसंबर में केस दर्ज कराया गया था। उन्होंने कहा कि नीरज सिंह पिछले डेढ़ महीने से इस मामले में वांटेड था। दरअसल, वह मामला दर्ज होने के बाद से फरार हो गया था। मंगलवार को हमें सूचना मिली कि वह सेक्टर 120 स्थित अपने आवास पर लौट आया है। मंगलवार शाम को एक जांच अधिकारी उसे गिरफ्तार करने के लिए सोसायटी पहुंचा और सोसाइटी के गार्डों को इसकी सूचना दी।

संदिग्ध को जब पुलिस के आने की जानकारी हुई तो उसने अपनी कार में सोसायटी से भागने का प्रयास किया। एसएचओ ने कहा कि जब सुरक्षा गार्डों ने उसे परिसर से भागने से रोकने की कोशिश की, तो संदिग्ध ने तेज गति से गाड़ी चलाई। गेट पर खड़े सुरक्षा प्रभारी अशोक मावी को टक्कर मार दी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया।

फरार हो गया था नीरज
शरद कांत ने कहा कि आरोपी नीरज सिंह उस दिन मौके से फरार हो गया। वहीं, इस दौरान सिक्यूरिटी गार्ड अशोक मावी के कंधे और पैर में गंभीर चोटें आई। सुरक्षा प्रभारी की ओर से दर्ज कराई गई एक शिकायत के आधार पर, संदिग्ध के खिलाफ आईपीसी की धारा 279 (रैश ड्राइविंग), 338 (गंभीर चोट पहुंचाना) और अन्य संबंधित धाराओं के तहत एक और मामला दर्ज किया गया। सिक्यूरिटी गार्ड को इलाज मुहैया कराया गया और अभी उनकी हालत स्थिर है। संदिग्ध को पकड़ने के लिए एक पुलिस टीम लगी हुई है। इसके बाद पुलिस ने नीरज सिंह को पकड़ने के लिए जिले और उसके आसपास टीमों को तैनात किया।

आधुनिक तकनीकों का हुआ प्रयोग
नोएडा के पुलिस उपायुक्त हरीश चंदर ने कहा कि नरज सिंह को ट्रैक करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक निगरानी और स्रोत-आधारित इनपुट का इस्तेमाल किया गया था। डीसीपी ने कहा कि जांच के क्रम में यह पाया गया कि वह गुरुग्राम से अपने कार्यालय मुख्यालय भाग गया था। आशंका जताई जा रही है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए वह यहीं छिपा था। गुरुवार की सुबह, पुलिस ने उसे गुरुग्राम में अपने कार्यालय में बुलाने के लिए जाल बिछाया और जब वह वहां पहुंचा, तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद उसे वापस गौतमबुद्ध नगर लाया गया।


Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments