Monday, June 27, 2022
HomeUttar PradeshNoida Liquor Sale Down: Liquor sales have plummeted in Noida The sale...

Noida Liquor Sale Down: Liquor sales have plummeted in Noida The sale of foreign liquor has been significantly impacted by the offers on liquor in Delhi Gautam Budh Nagar Excise Department is now trying to deal with the situation | दिल्ली में शराब पर मिलने वाले ऑफर ने नोएडा में शराब की बिक्री को घटा दिया है इसके बाद गौतमबुद्धनगर आबकारी विभाग स्थिति से निपटने की रणनीति बना रहा है – Navbharat Times


नोएडा: दिल्ली की नई आबकारी नीति (Delhi Liquor Policy) ने गौतमबुद्धनगर के आबकारी विभाग की मुश्किलें बढ़ा दी है। शराब के शौकीन नोएडा-गाजियाबाद में महंगी शराब को थोड़ी-थोड़ी पी रहे हैं। वहीं, दिल्ली जाकर खूब शराब गटक रहे हैं। आबकारी विभाग के अधिकारी भी इस बात को मानने लगे हैं। गौतमबुद्धनगर आबकारी विभाग के अधिकारियों का कहना है कि पिछले कुछ माह में पूरे जिले में शराब की बिक्री से होने वाले राजस्व संग्रह में गिरावट आई है। इसका कारण पड़ोसी राज्य दिल्ली में शराब पर मिलने वाली भारी छूट है। आबकारी विभाग पिछले वर्षों की तुलना में आबकारी राजस्व में आ रही कमी के कारण चिंतित है। वहीं, इस प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए नई रणनीति तैयार की जा रही है।

दिल्ली के ऑफर के कारण नोएडा और गाजियाबाद में होने वाली शराब की तस्करी मामलों को लेकर पिछले दिनों यूपी और दिल्ली के आबकारी विभाग के अधिकारियों की बैठक भी हुई थी। इसमें दिल्ली में एक व्यक्ति को 8 लीटर से अधिक शराब न देने और तस्करी पर रोक के लिए छापेमारी के फैसले लिए गए। लेकिन, दिल्ली और यूपी की सीमा में आसानी से शराब को लाने-जाने का कार्य लगातार जारी है। पिछले दिनों एक रेस्टोरेंट में छापे के क्रम में बड़ी मात्रा में दिल्ली की बीयर बरामद की गई। इस पूरी स्थिति ने सरकार से लेकर जिला प्रशासन के अधिकारियों की परेशानी को बढ़ाया हुआ है।

लक्ष्य को पूरा कराना हो रहा है मुश्किल
गौतमबुद्धनगर के जिला आबकारी अधिकारी राकेश बहादुर सिंह ने कहा कि पिछले वित्तीय वर्ष में राजस्व संग्रह के मामले में जिला पूरे राज्य में सातवें स्थान पर रहा। अब हम निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। हम उन कुछ जिलों में से हैं, जहां महंगी विदेशी शराब की बिक्री काफी हुआ करती थी। अब स्थिति बदल गई है। हम इस महीने के लिए अपने लक्ष्य का लगभग 62 फीसदी ही पूरा कर पाए हैं, केवल चार दिन शेष हैं। हम आमतौर पर हमेशा अपने लक्ष्य को पार करते हैं।

जिले आबकारी विभाग की ओर से जनवरी में आबकारी टैक्स से 143 करोड़ रुपये, फरवरी में 155 करोड़ रुपये और मार्च में 130 करोड़ रुपये कमाए। अप्रैल में राजस्व 116 करोड़ रुपये और 25 मई तक 85 करोड़ रुपये तक गिर गया। राज्य द्वारा मई महीने के लिए जिले को 137 करोड़ रुपये का लक्ष्य दिया गया था, जिसमें से अब तक केवल 62 फीसदी ही हासिल किया जा सका है।

पिछले साल मई में बिकी थी 10 लाख शराब की बोतलें
राकेश बहादुर सिंह ने कहा कि पिछले साल मई में 10 लाख से अधिक शराब की बोतलें जिले में बिकी थी। इस साल मई में हम अब तक मुश्किल से 6 लाख बोतलें बेचने में कामयाब रहे हैं। हमने अपना अधिकांश राजस्व विदेशी शराब की श्रेणी में खो दिया है। बीयर के अधिकांश ब्रांडों में नुकसान कम रहा है, लगभग 10 से 15 फीसदी। बीयर का सेवन आमतौर पर ठंडा और तुरंत किया जाता है, इसलिए इस प्रकार की स्थिति है। इस कारण इसे खरीदने लोग दूर-दूर तक नहीं जाते हैं। देशी शराब पसंद करने वाले लोग भी इसे घर के पास ही खरीदना पसंद करते हैं। सबसे अधिक गिरावट विदेशी शराब और भारतीय निर्मित विदेशी शराब श्रेणियों में दर्ज की गई है।

कई ब्रांडों की बिक्री में आई है गिरावट
विदेशी शराब के कई ब्रांडों की बिक्री में बड़ी गिरावट गई है। इस बारे में अधिकारियों का कहना है कि ब्लेंडर्स प्राइड, मैकडॉवेल्स, ब्लैक डॉग, रॉयल स्टैग, इंपीरियल ब्लू और 100 पाइपर्स ब्रांड की शराब की बिक्री में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। इस मामले ने अब आबकारी विभाग को रणनीति में बदलाव करने पर मजबूर कर दिया है। आने वाले दिनों में आबकारी विभाग दिल्ली और अन्य राज्यों से शराब लेकर आने वालों पर रोक लगाने की रणनीति पर काम शुरू करने जा रहा है। जिले की सीमाओं पर सख्त जांच, जागरूकता अभियान, अन्य विभागों के साथ समन्वय और पब एवं बार में औचक जांच का अभियान चलाने का निर्णय लिया गया है।

6 आबकारी इंस्पेक्टरों की तैनाती
आबकारी विभाग की ओर से गाजियाबाद और अन्य जिलों से छह अतिरिक्त आबकारी इंस्पेक्टर को तैनात किया है। इन्हें दो टीमों में बांटा गया है। गौतमबुद्धनगर और दिल्ली की 15 किलोमीटर की सीमा के साथ तीन प्रमुख एंट्री प्वाइंट पर चेकिंग बढ़ाने की तैयारी की गई है। राकेश बहादुर सिंह ने कहा कि हमने इन तीन टीमों को सेक्टर 14 ए, अशोक नगर और कोंडली बॉर्डर एंट्री प्वाइंट पर तैनात किया है। इसके अलावा सर्कल इंस्पेक्टरों वाली मोबाइल टीमें अन्य छोटे प्रवेश बिंदुओं और गुप्त मार्गों की जांच कर रही हैं। हमने किसी भी असामान्य गतिविधि की जानकारी देने के लिए अपने स्रोतों को भी सक्रिय कर दिया है।

इसके साथ-साथ आबकारी विभाग डिस्प्ले बोर्ड के जन-जागरूकता अभियान भी चला रही है। पंपलेट और सीमा चौकियों पर कानून के बारे में जानकारी की घोषणा भी की जा रही है। जिला आबकारी अधिकारी ने कहा कि हमने अन्य विभागों के साथ समन्वय बढ़ाया है। डीएम ने निर्देश दिया है कि परिवहन और पुलिस अधिकारी भी सीमाओं पर जांच शुरू करें। परिवहन और जीएसटी की टीमें सीमा पर चेकिंग होगी। इसके बाद पब और बार पर छापेमारी अभियान के जरिए जांच होगी।



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments