Tuesday, January 18, 2022
HomeUttar Pradeshjhansi babena seat: इस सीट पर कभी अखिलेश तो कभी उमा भारती...

jhansi babena seat: इस सीट पर कभी अखिलेश तो कभी उमा भारती के चुनाव लड़ने के लगे थे कयास, दिलचस्प होगी 2022 की जंग, jhansi ki babina seat


लक्ष्मी नारायण शर्मा, झांसी
बबीना सीट पर विधानसभा चुनाव 2022 के लिए चुनावी जंग बेहद दिलचस्प और संघर्षमय होगी। यह सीट बुंदेलखंड की बेहद महत्वपूर्ण सीटों में से एक है। साल 2012 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से उमा भारती के विधानसभा चुनाव लड़ने के कयास लगाए गए तो साल 2017 में इस बात की चर्चा चली कि अखिलेश यादव इस सीट से चुनाव लड़ेंगे।
इन चर्चाओं के बीच यह सीट हाई प्रोफाइल हो गई। वर्तमान में बीजेपी इस सीट पर काबिज है और सपा इस सीट को अपने पाले में लाने के लिए दमखम दिखा रही है। वहीं बसपा इस सीट पर लड़ाई को त्रिकोणीय बनाने की कोशिश कर रही है।

बीजेपी के राजीव सिंह हैं वर्तमान में विधायक
बबीना विधानसभा सीट पर वर्तमान में बीजेपी के राजीव सिंह पारीछा विधायक हैं। साल 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने समाजवादी पार्टी के बुंदेलखंड के कद्दावर नेता डॉ चंद्रपाल सिंह यादव के बेटे यशपाल सिंह यादव को 16,837 वोटों के अंतर से हराकर जीत हासिल की थी। बीजेपी के राजीव सिंह पारीछा को इस चुनाव में 96713, सपा के यशपाल सिंह यादव को 79876 और बसपा के कृष्णपाल सिंह राजपूत को 42614 वोट मिले थे। इससे पहले साल 2012 में बसपा के कृष्णपाल सिंह राजपूत इस सीट से विधायक चुने गए थे। कृष्णपाल ने समाजवादी पार्टी के नेता डॉ चंद्रपाल सिंह यादव को हराकर इस सीट पर जीत हासिल की थी।
UP Vidhan Sabha Chunav: विकास के बहाने मिशन UP! 10 दिन में 4 बार यूपी आएंगे प्रधानमंत्री मोदी

दलित और ओबीसी मतदाता रहते हैं निर्णायक

इस बार के चुनाव में बबीना विधानसभा क्षेत्र के 3,26,097 मतदाता आने वाले दिनों में अपने भावी विधायक का चुनाव करेंगे। इनमें से 1,73,472 मतदाता पुरुष, 1,52,591 मतदाता महिला और 34 मतदाता थर्ड जेंडर हैं। आबादी के लिहाज से यह क्षेत्र मिश्रित आबादी का इलाका है। प्रमुख रूप से लोधी राजपूत, कुशवाहा, यादव और अहिरवार बिरादरी के मतदाता संख्या के लिहाज से महत्वपूर्ण हैं और चुनाव में इनकी भूमिका महत्वपूर्ण मानी जाती है। इनके अलावा अन्य बिरादरी के लोगों की आबादी भी विधानसभा क्षेत्र के अलग-अलग हिस्सों में निवास करती है जो चुनाव के समय समीकरणों को बनाने-बिगाड़ने में अपनी भूमिका निभा सकते हैं।

औद्योगिक इकाइयों की बहुलता का क्षेत्र
बबीना विधानसभा क्षेत्र कृषि, औद्योगिक, सैन्य और रेलवे की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण हैं। झांसी जिले में स्थित बबीना छावनी परिषद के अलावा झांसी छावनी परिषद का भी एक बड़ा हिस्सा इस क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इसके अलावा झांसी रेलवे मण्डल के कई प्रमुख कार्यालय, कॉलोनी व स्टेशन इन विधानसभा क्षेत्र में आते हैं।
पारीछा थर्मल पावर प्लांट, भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड की फैक्ट्री, बिजौली औद्योगिक इकाई, बड़ागांव की सीमेंट फैक्ट्री सहित कई अन्य लघु-मध्यम औद्योगिक प्रतिष्ठान व महत्वपूर्ण शिक्षण संस्थान इस क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं।

बड़ी आबादी कृषि पर निर्भर
इस क्षेत्र की बड़ी आबादी कृषि पर निर्भर है और कई तरह की फसलें व सब्जियां यहां उगाई जाती है। मूंगफली, अदरक, मूंग, तिल, उर्द के अलावा कई तरह की सब्जियों का भी उत्पादन इस क्षेत्र में होता है। बरुआसागर का अदरक तो अपनी विशिष्ट पहचान रखता है।

बड़ागांव के मटर की भी काफी प्रसिद्धि है। इस क्षेत्र का एक बड़ा हिस्सा अभी भी पेयजल और सिंचाई के पानी का संकट झेल रहा है। अलग-अलग सरकारों के कार्यकाल में इस क्षेत्र में सिंचाई और पेयजल की विभिन्न योजनाओं का ऐलान हुआ और कई तरह के प्रयास भी हुए लेकिन समस्या का स्थायी समाधान अभी बाकी है।



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments