Monday, August 8, 2022
HomeUttar PradeshHamirpur News: जापानी इंसेफ्लाइटिस से सुअरों की मौत की पुष्टि के बाद...

Hamirpur News: जापानी इंसेफ्लाइटिस से सुअरों की मौत की पुष्टि के बाद हरकत में आया पशु विभाग, बनाया ऐक्शन प्लान – up news animal husbandry department made a plan in hamirpur regarding the cases of japanese encephalitis


हमीरपुर : उत्तर प्रदेश के कई जिलों में सूकरों में जापानी इंसेफ्लाइटिस (जेई) के मामले जांच में सामने आने के बाद यहां पशुपालन डिपार्टमेंट ने बड़ा प्लान बनाया है। डिपार्टमेंट ने सूकर पालकों को इस बीमारी को लेकर जागरूक करने के साथ ही चिकित्सकों की टीमें सूकर बाड़ों में छिड़काव कराने में जुट गई है। सूकर बाड़ों में सैम्पल लेकर जांच भी शुरू कर दी गई है।

हमीरपुर जिले के 143 ग्राम पंचायतों में सूकर बाड़े चल रहे है। 414 लोग सूकर पालन के कारोबार में लगे है। हाल में ही लखनऊ में एक साथ बड़ी तादात में सूकरों की मौत होने और पूर्वांचल के मऊ, संत कबीरनगर, आजमगढ़, बलिया में बड़ी संख्या में सूकरों के जेई पाजिटिव मिलने के बाद यहां पशुपालन डिपार्टमेंट अब एलर्ट हो गया है। हालांकि यहां जिले में अभी जेई के मामलों की अभी पुष्टि नहीं हो सकी लेकिन एहतियात के तौर पर पशुपालन डिपार्टमेंट की टीमें सूकर बाड़ों की जांच पड़ताल में जुट गई है।

यहां के प्रभारी पशु चिकित्साधिकारी डाँ.देवेन्द्र सिंह ने बताया कि जिले में सूकर के अचानक मरने और बीमार होने के मामले अभी सामने नहीं आए है। बताया कि प्रदेश के अन्य जिलों हर साल इस मौसम में जेई के केस मिलने के कारण यहां भी एहतियाती कदम उठाए गए है। बताया कि पशुपालन डिपार्टमेंट के चिकित्सकों की टीमें गठित की गई है जो सूकर पालकों को जागरूक करने में लगी है। साथ ही सूकर बाड़ों की साफ सफाई के साथ ही दवा का छिड़काव भी कराया जा रहा है। सैम्पल भी लेकर जांच के लिए भेजे गए है।

ऐसे फैलती है जापानी इंसेफ्लाइटिस बीमारी
प्रभारी पशु चिकित्साधिकारी ने बताया कि जापानी इंसेफ्लाइटिस एक ऐसी बीमारी है जो मच्छरों के काटने से होती है। यह मच्छर फ्लेविवायरेस संक्रमित होते है। बताया कि यह संक्रामक बुखार नहीं है। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है। जापानी इंसेफ्लाइटिस वायरस से संक्रमित पालतू सूकर (सुअर) और जंगली पक्षियों को काटने के कारण मच्छर संक्रमित हो जाते है और फिर यह इंसानों तक पहुंच जाते है। बताया कि इस वायरस में ज्यादातर एक से 14 साल के बच्चे और 65 साल से अधिक उम्र के लोग ही चपेट में आते है।
रिपोर्ट-पंकज मिश्रा

अब NBT ऐप पर खबरें पढ़िए, डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें
https://navbharattimes.onelink.me/cMxT/Share



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments