Tuesday, January 18, 2022
HomeUttar Pradeshghaziabad assembly election 2022: गाजियाबाद में क्या है विधानसभा सीटों का सीमीकरण,...

ghaziabad assembly election 2022: गाजियाबाद में क्या है विधानसभा सीटों का सीमीकरण, 5 विधायकों का 28 लाख वोटर करेगें फैसला,What is the delimitation of assembly seats in Ghaziabad, 28 lakh voters will decide 5 MLAs


हाइलाइट्स

  • गाजियाबाद में पांच विधानसभा सीटे हैं।
  • इस बार जिले के 5 विधायकों को करीब 28 लाख मतदाता चुनेंगे।
  • 2017 के विधानसभा चुनाव में सभी पांचों सीटें बीजेपी के खाते में गई थीं।

गाजियाबाद
विधानसभा चुनाव 2022 का बिगुल बज चुका है। राजनीतिक दलों ने तैयारियां तेज कर दी हैं। बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं को एक्टिव किया जा रहा है। वहीं, टिकट हासिल करने के लिए भी जोर आजमाइश तेज हो चुकी है। इस बार जिले के 5 विधायकों को करीब 28 लाख मतदाता चुनेंगे। इसमें करीब 50 फीसदी महिलाएं हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में सभी पांचों सीटें बीजेपी के खाते में गई थीं।

मतदान भले ही 60 फीसदी से कम हुआ था, लेकिन नतीजे आने के बाद यह साफ हो गया कि जितने लोगों ने भी वोट डाला, उनमें से ज्यादातर की पसंद लगभग एक-सी ही थी। बीजेपी नेता इस बार भी पांचों सीट पर जीत का दावा कर रहे हैं, जबकि विपक्ष का कहना है कि पिछली बार जैसे हालात इस बार नहीं हैं। बीजेपी में एकजुटता की कमी है। किसान अभी भी बीजेपी से खुश नहीं हैं। इसका भी असर इस चुनाव में देखने को मिलेगा।

UP Chunav: वोट डालने जाएं…उससे पहले जान लें क्या हैं वोटिंग के नए नियम, इन बदलावों के साथ होगा मतदान, नहीं लगेंगी कतारें

4 सीटों पर बसपा थी दूसरे नंबर पर
विधानसभा चुनाव 2017 के समय में बीजेपी से सिर्फ बसपा ही टक्कर ले सकी थी। लेकिन, विजेता और दूसरे नंबर के प्रत्याशी के वोटों में काफी अंतर था। पांच विधानसभा सीटों में से 4 पर बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रहे। जबकि, साहिबाबाद में कांग्रेस प्रत्याशी अमरपाल शर्मा दूसरे स्थान पर रहे थे।

1991 में पहली बार जीती थी
1991 में पहली बार गाजियाबाद सीट से बीजेपी के प्रत्याशी बालेश्वर त्यागी ने जीत हासिल की थी। फिर 1993 में बालेश्वर त्यागी के अलावा मोदीनगर से बीजेपी प्रत्याशी नरेंद्र सिंह सिसोदिया भी जीते। 1996 में फिर बालेश्वर त्यागी और नरेंद्र सिंह सिसोदिया ने जीत को दोहराया। 2003 में बीजेपी को केवल मोदीनगर से जीत मिली। 2007 में गाजियाबाद से बीजेपी से सुनील कुमार शर्मा जीते। 2012 के चुनाव में बीजेपी के खाते में एक भी सीट नहीं आई। 4 सीटें बसपा ने जीतीं और मोदीनगर की सीट रालोद के खाते में गई। फिर 2017 में बीजेपी ने पांचों सीटें जीत लीं।

पांचों सीटों पर जीत के ये थे फैक्टर
राजनीतिक जानकारों का कहना है कि पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत के पीछे मोदी लहर थी, और इस लहर की वजह से कार्यकर्ता संगठित थे। संगठन मजबूत हाथों में था। नोटबंदी की वजह से भी लोगों को अच्छे दिन की उम्मीद दिखाई दे रही थी। पार्टी ने टिकट वितरण में सभी वर्गों को साधने का पूरा प्रयास किया था।

2017 विधानसभा चुनाव परिणाम, एक नजर में

गाजियाबाद
अतुल गर्ग (भाजपा) 124,201 (विजेता)

सुरेश बंसल (बसपा) 53,696 (दूसरे स्थान पर)

केके शर्मा (कांग्रेस) 39648(तीसरे स्थान पर)

मोदीनगर
डा. मंजू शिवाच (भाजपा) 108,631 (विजेता)

वहाब चौधरी (बसपा) 42,049 (दूसरे स्थान पर)

राम आसरे शर्मा (सपा) 32507 (तीसरे स्थान पर)

मुरादनगर
अजित पाल त्यागी (भाजपा) 140,759 (विजेता)

सुधन कुमार (बसपा) 51,147 (दूसरे स्थान पर),

सुरेंद्र प्रकाश (कांग्रेस) 49989 (तीसरे स्थान पर)

साहिबाबाद
सुनील कुमार शर्मा (भाजपा) 262,741 (विजेता)

अमरपाल (कांग्रेस) 112,056 (दूसरे स्थान पर)

जलालुद्दीन (बसपा) 41654 (तीसरे स्थान पर)

लोनी
नंदकिशोर (भाजपा) 113,088 (विजेता)

जाकिर अली (बसपा) 70,275 (दूसरे स्थान पर)

मदन भैया (रालोद) 42539 (तीसरे स्थान पर)

प्रतीकात्मक तस्वीर



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments