Sunday, November 27, 2022
HomeUttar Pradeshसांवली थी बेटी, हर महीने देते थे 30 हजार... फिर भी मार...

सांवली थी बेटी, हर महीने देते थे 30 हजार… फिर भी मार डाला

 

काशीपुर के उद्यमी ने बेटी के पति समेत चार के खिलाफ लिखाई दहेज हत्या की रिपोर्ट
श्यामगंज की आंचल कॉलोनी के सराफा कारोबारी की पत्नी की मौत का मामला

बरेली। आंचल कॉलोनी के सराफा कारोबारी नितेश जिंदल की पत्नी निकिता जिंदल की मौत के मामले में निकिता के पिता हरिओम अग्रवाल ने नितेश, उसके पिता सुरेश अग्रवाल, मां संतोष अग्रवाल समेत चार लोगों के खिलाफ दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। हरिओम ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी सांवली थी, इसलिए ससुराल वाले दहेज की खातिर उसका उत्पीड़न करते थे। बेटी की खुशी की खातिर वह हर महीने उसके पति को 30 हजार रुपये भी देते थे, इसके बावजूद ससुराल वालों ने उनकी बेटी की हत्या कर दी।
काशीपुर (उत्तराखंड) के मोहल्ला सिंघयान में रहने वाले फ्लोर मिल मालिक हरिओम अग्रवाल ने अपनी पुत्री निकिता की शादी करीब दस साल पहले डायमंड पैराडाइज के मालिक सराफा कारोबारी नितेश से की थी। 26 सितंबर की शाम निकिता का शव घर में ही फंदे पर लटका मिला था। हरिओम ने आरोप लगाया है कि काफी दहेज देने के बाद भी ससुराल वाले संतुष्ट नहीं थे और उसे प्रताड़ित करते थे। कई बार उन लोगों ने मामला सुलझाया। फ्रिज, मोबाइल जैसे उपहार भी दिए। वर्ष 2014 में कार भी दी, जिसे नितेश चलाता है। मगर सास संतोष उनकी बेटी के सांवले रंग को लेकर ताने देती थी।

खाने में जहर देने का आरोप

उन्होंने आरोप लगाया है कि शादी के दो साल बाद ही निकिता के खाने में जहर मिलाकर हत्या की कोशिश की गई। उन लोगों ने इलाज कराया तो वह बची। फिर ससुराल वालों ने माफी मांग ली तो उन लोगों ने रिपोर्ट नहीं कराई। मगर इसके बाद भी ससुराल वालों का उत्पीड़न नहीं रुका। उससे कहते कि वह खुदकुशी कर ले तो किसी सुंदर लड़की से नितेश की शादी हो जाएगी। बेटी का घर न बिगड़े इस वजह से वह नितेश को हर महीने 30 हजार रुपये भी देते थे।

डायरी से खुला उत्पीड़न का राज

हरिओम ने रिपोर्ट में लिखाया है कि उनकी बेटी निकिता डायरी लिखती थी। मौत से कुछ दिन पहले ही उसने वह डायरी अपनी मां को दे दी। जब उन लोगों ने डायरी खोली तो उसमें उत्पीड़न की पूरी दास्तान दर्ज थी। पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

काशीपुर के उद्यमी ने बेटी के पति समेत चार के खिलाफ लिखाई दहेज हत्या की रिपोर्ट

श्यामगंज की आंचल कॉलोनी के सराफा कारोबारी की पत्नी की मौत का मामला

बरेली। आंचल कॉलोनी के सराफा कारोबारी नितेश जिंदल की पत्नी निकिता जिंदल की मौत के मामले में निकिता के पिता हरिओम अग्रवाल ने नितेश, उसके पिता सुरेश अग्रवाल, मां संतोष अग्रवाल समेत चार लोगों के खिलाफ दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है। हरिओम ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी सांवली थी, इसलिए ससुराल वाले दहेज की खातिर उसका उत्पीड़न करते थे। बेटी की खुशी की खातिर वह हर महीने उसके पति को 30 हजार रुपये भी देते थे, इसके बावजूद ससुराल वालों ने उनकी बेटी की हत्या कर दी।

काशीपुर (उत्तराखंड) के मोहल्ला सिंघयान में रहने वाले फ्लोर मिल मालिक हरिओम अग्रवाल ने अपनी पुत्री निकिता की शादी करीब दस साल पहले डायमंड पैराडाइज के मालिक सराफा कारोबारी नितेश से की थी। 26 सितंबर की शाम निकिता का शव घर में ही फंदे पर लटका मिला था। हरिओम ने आरोप लगाया है कि काफी दहेज देने के बाद भी ससुराल वाले संतुष्ट नहीं थे और उसे प्रताड़ित करते थे। कई बार उन लोगों ने मामला सुलझाया। फ्रिज, मोबाइल जैसे उपहार भी दिए। वर्ष 2014 में कार भी दी, जिसे नितेश चलाता है। मगर सास संतोष उनकी बेटी के सांवले रंग को लेकर ताने देती थी।

खाने में जहर देने का आरोप

उन्होंने आरोप लगाया है कि शादी के दो साल बाद ही निकिता के खाने में जहर मिलाकर हत्या की कोशिश की गई। उन लोगों ने इलाज कराया तो वह बची। फिर ससुराल वालों ने माफी मांग ली तो उन लोगों ने रिपोर्ट नहीं कराई। मगर इसके बाद भी ससुराल वालों का उत्पीड़न नहीं रुका। उससे कहते कि वह खुदकुशी कर ले तो किसी सुंदर लड़की से नितेश की शादी हो जाएगी। बेटी का घर न बिगड़े इस वजह से वह नितेश को हर महीने 30 हजार रुपये भी देते थे।

डायरी से खुला उत्पीड़न का राज

हरिओम ने रिपोर्ट में लिखाया है कि उनकी बेटी निकिता डायरी लिखती थी। मौत से कुछ दिन पहले ही उसने वह डायरी अपनी मां को दे दी। जब उन लोगों ने डायरी खोली तो उसमें उत्पीड़न की पूरी दास्तान दर्ज थी। पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments