Sunday, September 25, 2022
HomeIndiaBSF मामला: परगट सिंह ने अमरिंदर की निंदा की, पूर्व CM ने...

BSF मामला: परगट सिंह ने अमरिंदर की निंदा की, पूर्व CM ने किया पलटवार


Image Source : PTI FILE
पंजाब सरकार के मंत्री परगट सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा।

चंडीगढ़: पंजाब सरकार के मंत्री परगट सिंह ने राज्य में सीमा सुरक्षा बल का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने के केंद्र के फैसले का समर्थन करने पर पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की गुरुवार को निंदा की और इस कदम के पीछे उनकी भूमिका होने का आरोप लगाया। वहीं, अमरिंदर सिंह ने जवाबी हमला किया और कहा कि परगट सिंह तथा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू सस्ती लोकिप्रयता पाने के लिए हास्यास्पद कहानियां बनाने से बेहतर कुछ और नहीं कर सकते। पंजाब के मंत्रियों, परगट सिंह और विजय इंदर सिंगला ने जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि राज्य में BSF का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने का केंद्र का फैसला ‘संघीय ढांचे पर हमला’ है।

परगट ने साधा अमरिंदर पर निशाना

केंद्र की निंदा करते हुए परगट सिंह ने अमरिंदर सिंह पर भी निशाना साधा और उन पर बीजेपी के साथ मिलीभगत करने का आरोप लगाया। अमरिंदर ने केंद्र के निर्णय का समर्थन करते हुए बुधवार को कहा था कि यह कदम ‘हमें मजबूत बनाएगा तथा केंद्रीय सशस्त्र बलों को राजनीति में नहीं घसीटा जाना चाहिए।’ भारतीय हॉकी टीम के कप्तान रह चुके परगट ने उनके बयान को ‘दुर्भाग्यूपर्ण’ करार देते हुए कहा कि वह ‘बीजेपी की तरह काम कर रहे हैं।’ अमरिंदर ने परगट सिंह पर जवाबी हमला करते हुए कहा कि यह राज्य के किसी मंत्री की अत्यधिक गैर-जिम्मेदारी को दिखाता है।

अमरिंदर ने किया जोरदार पलटवार
अमरिंदर ने एक ट्वीट में कहा कि परगट और सिद्धू सस्ती लोकिप्रयता पाने के लिए हास्यास्पद कहानियां बनाने से बेहतर कुछ और नहीं कर सकते। उन्होंने कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला पर भी हमला बोला जिन्होंने केंद्र के निर्णय का समर्थन करने पर कहा कि अमरिंदर ने BSF का अधिकार क्षेत्र 15 किलोमीटर से बढ़ाकर 50 किलोमीटर करने के लिए पहले क्यों नहीं लिखा था। अमरिंदर ने सुरजेवाला से पूछा, ‘कितना हास्यास्पद है। आपका मतलब है कि मैं केंद्रीय गृह मंत्रालय को फैसले लेने का आदेश देता हूं और न सिर्फ पंजाब बल्कि गुजरात, पश्चिम बंगाल, असम आदि में भी।’ अमरिंदर ने कहा कि जो शख्स अपने ही राज्य (हरियाणा) में चुनाव नहीं जीत पाया, उसे राष्ट्रीय मुद्दों पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है।





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments