Thursday, November 26, 2020
Home Business 2020 में खरीफ खाद्य उत्पादन 1445 अंक 2 लाख टन होने का...

2020 में खरीफ खाद्य उत्पादन 1445 अंक 2 लाख टन होने का अनुमान है


कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कृषि क्षेत्र पर कोरोनावायरस महामारी का अधिक असर नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि 2020-21 के अमलफ सत्र में 1,445.2 लाख टन खाद्यान्न का उत्पादन होने का अनुमान है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार 2019-20 के मापफ सत्र के दौरान खाद्यान्न उत्पादन 1,433.8 लाख टन था।
अभी देश में इमफ फसलों की कटाई चल रही है। चावल मुख्य इमफ फसल है।

तोमर ने उद्योग संगठन सीएसआई द्वारा आयोजित एक डिजिटल सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "खाद्यान्न उत्पादन पिछले साल की तुलना में बेहतर होगा। पत्रों अनुमानों के अनुसार, 2020-21 खरीफ सीजन में खाद्यान्न उत्पादन 1,445.2 लाख टन होने का अनुमान है।"

उन्होंने कहा कि गन्ने और कपास जैसी फसलों का उत्पादन भी अच्छा होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि कोटि -19 महामारी के बावजूद इस साल खरीफ फसलों की बुवाई क्षेत्र में रिकॉर्ड 4.51 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और यह 1,121.75 लाख हेक्टेयर हो गई है।

तोमर ने कहा कि कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का आधार है। वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के दौरान भी यह क्षेत्र 3.4 प्रतिशत बढ़ा है। नए कृषि कानूनों पर, मंत्री ने कहा कि किसानों को सुधारों के बारे में "गुमराह" किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद के साथ-साथ मंडियां देश भर में काम करती रहेंगी।

बिना ओटीपी के एलपीजी सिलेंडर नहीं मिलेगा, एक नवंबर से बदलकर होम ऑफर सिस्टम



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यूपी: 28 विदेशी कंपनियां करेंगी नौ हजार करोड़ का निवेश | उप्र: 28 विदेशी कंपनियां नौ हजार करोड़ का करेंगी निवेश

लखनऊ, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर संदेह छाई थी, उस समय उत्तर प्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की...

फारूक अब्दुल्ला ने भूमि घोटाले के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी, 10 अंक – भूमि संरक्षण के आरोपों पर फारुक अब्बीदुल्ला बोले-झूठ फैलाया जा रहा...

फारुक अब्सीदुल्ला ने आरोपों को उनकी छवि प्रदान करने के समझौते पर दिया हैश्रीनगर: जम्ममू -श्सिर (जम्मू और कश्मीर)...

भोपल गैस पीड़ितों के लिए घातक COVID-19, यूनियन कार्बाइड से अधिक मुआवजा चाहता है – भोपाल के गैस पीड़ितों के लिए जानलेवा साबित हो...

भोपाल गैस त्रासदी के शिशु अभी भी कई आत्मसात नई समसयाओं का सामना कर रहे हैं (प्रतीकात्मक शब्द)खास बातेंगैस पीडिआतों के लिए कन्फरत...

कोरोनावायरस के मामले बढ़ने से एयलाइंस कंपनियों की बढ़ी मुश्किलें

यूरोप और अमेरिकी में कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि के साथ ही दुनिया भर की विमानन कंपनियों का वित्तीय परिदृश्य खराब हो रहा...

Recent Comments