Thursday, June 30, 2022
HomeBihar20 जून को चक्का जाम करने के आह्वान को देखते हुए जिला और...

20 जून को चक्का जाम करने के आह्वान को देखते हुए जिला और पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड में, विधि व्यवस्था संधारण को लेकर दिए गए सख्त निर्देश

ध्रुव कुमार सिंहमुजफ्फरपुर, बिहार,  

20 जून 2022 को चक्का जाम करने एवं दिल्ली मार्च का आह्वान को देखते हुए मुजफ्फरपुर के  जिलाधिकारी प्रणव कुमार एवं वरीय पुलिस अधीक्षक जयंत कांत ने सभी बीडीओ,सीओ,एसएचओ सहित सभी डीएसपी,रेलवे डीएसपी एवं दोनों अनुमंडल अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में जिलाधिकारी श्री कुमार  ने कल चक्का जाम को देखते हुए उपद्रव करने वाले तत्वों के विरुद्ध सख्ती से निपटने का निर्देश दिया है। कोचिंग संस्थानों पर विशेष तौर पर नजर रखने का निर्देश भी दिया है। उन सभी स्थलों को खंगालने का निर्देश दिया गया है जहां पर विधि व्यवस्था का उल्लंघन करने की संभावनाएं है। वैसे सभी तत्वों को चिन्हित किया जा रहा है जिसके द्वारा विद्यार्थियों को भड़काने या उन्हें दिग्भ्रमित करने की कोशिश करते हुए माहौल को बिगाड़ने का कार्य किए जाने की संभावना है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया है कि सभी वरीय पदाधिकारी कल सुबह 5:00 बजे से ही भ्रमणशील रहेंगे और विधि व्यवस्था बिगाड़ने वाले असामाजिक तत्वों पर नकेल कसने की दिशा में प्रभावी कार्य करना सुनिश्चित करेंगे।रेलवे स्टेशनों एवं जिले के महत्वपूर्ण स्थलों पर ड्रोन कैमरे से निगरानी करने का भी निर्देश दिया है। साथ ही केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार की सभी एजेंसियों यथा- रेलवे, टोल प्लाजा, पोस्ट ऑफिस,बैंक,बस स्टॉप पर लगातार वीडियोग्राफी कराने का भी निर्देश दिया गया। सभी सीसीटीवी कैमरे के निगरानी में रहेंगे। कोचिंग संस्थानों पर विशेष रूप से नजर रखी जाएगी।जिलाधिकारी ने कहा है कि अग्निपथ भर्ती योजना के विरोध में हिंसक प्रदर्शन करने वालों से कानून के अनुसार सख्ती से निपटा जाएगा। सीसीटीवी फुटेज, वीडियो कैमरा, सोशल मीडिया पोस्ट के आधार पर दोषियों की पहचान  कर चिन्हित करते हुए कार्रवाई की जाएगी।उन्होंने कहा है कि विधि व्यवस्था सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें व्यवधान उत्पन्न करने वालों के विरुद्ध विधि सम्मत कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वही वरीय पुलिस अधीक्षक जयंत कान्त ने निर्देश दिया है कि सोशल मीडिया तथा फेसबुक टि्वटर,व्हाट्सएप,इंस्टाग्राम इत्यादि पर विशेष नजर रखें। उन्होंने कहा कि व्हाट्सएप ग्रुप और यूट्यूब चैनलों के माध्यम से भ्रामक,मिथ्या और हिंसक मैसेज, फोटो, वीडियो पोस्ट, करने वाले तत्वों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि सोशल मीडिया का बेजा इस्तेमाल करने वाले सलाखों के पीछे रहेंगे।उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी एसएचओ, सभी डीएसपी को विधि व्यवस्था में व्यवधान उत्पन्न करने वाले तत्वों से सख्ती से निपटने का निर्देश दिया है। जिला जनसम्पर्क अधिकारी कमल सिंह ने बताया की जिलाधिकारी ने जिले वासियों से अपील की है कि अफवाहों एवं अपुष्ट सूचनाओं पर ध्यान ना दें। सोशल मीडिया यथा फेसबुक, टि्वटर, व्हाट्सएप इंस्टाग्राम इत्यादि पर किसी भी तरह के तथ्यहीन,हिंसक, भ्रामक मैसेज, फोटो, वीडियो को शेयर/कमेंट ना करें। एक अच्छे नागरिक के तौर पर कानून का पालन करें। प्रजातांत्रिक तरीके से शांतिपूर्ण ढंग से अपनी बात रखें। सरकारी संपत्ति आप ही की संपत्ति है।इसे नुकसान न पहुंचाएं।रेलवे यातायात को बाधित न करें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments