Monday, May 17, 2021
Home Desh हेलिकॉप्टर मामला: आईडीएस ने दसॉ के भुगतान के बाद इंटरस्टेलर को 7.4...

हेलिकॉप्टर मामला: आईडीएस ने दसॉ के भुगतान के बाद इंटरस्टेलर को 7.4 लाख यूरो भेजा


चंडीगढ़ स्थित आईडीएस इंफोटेक लिमिटेड ने इंटरस्टेलर होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड को 7,40,128 यूरो का कमीशन दिया, जिसे अब इंटरस्टेलर तकनीक के नाम से जाना जाता है।

आईएएनएस | Updated पर: 14 Apr 2021, 07:38:11 AM

अगस्ता वेस्टलैंड

आईडीएस ने दसॉ के भुगतान के बाद इंटरस्टेलर को 7.4 लाख यूरो भेजा (फोटो क्रेडिट: आईएएनएस)

हाइलाइट

  • इंटरस्टेलर होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड को 7,40,128 यूरो का कमीशन दिया गया
  • सीबीआई ने अगस्टेस्टलैंड मामले में अपनी चार्जशीट में दावा किया है

नई दिल्ली:

चंडीगढ़ स्थित आईडीएस इंफोटेक लिमिटेड ने इंटरस्टेलर होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड को 7,40,128 यूरो का कमीशन दिया, जिसे अब इंटरस्टेलर तकनीक के नाम से जाना जाता है। मई 2003 से नवंबर 2006 के बीच एक परियोजना के लिए फ्रांसीसी रक्षा प्रमुख दसॉ एविएशन से भुगतान प्राप्त होने पर सीबीआई ने 3,600 करोड़ रुपये के वीवीआईपी अगस्टेस्टलैंड मामले में अपनी चार्जशीट में दावा किया है। दसॉ एविएशन ने बाद में 36 राफेल लड़ाकू विमानों की आपूर्ति के लिए भारत के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे। पिछले साल सितंबर में दाखिल 12,421 पेज की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की सप्लीमेंट्री चार्जशीट को आईएट्स ने देखा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से हाहकार, सभी राज्यों के गवर्नर आज की बैठक करेंगे पीएम मोदी

सीबीआई ने कहा कि आईडीएस इन्फोटेक लिमिटेड के मुख्य वित्तीय अधिकारी के रूप में काम करने वाले धीरज अग्रवाल ने 18 मार्च, 2019 को एजेंसी को दिए अपने बयान में दावा किया था कि वह चरित्र सुशेन मोहन गुप्ता को जानता था क्योंकि आईडीएस इंफोटेक के अध्यक्ष और कंपनी के समग्र प्रभारी स्वर्गीय सतीश बगरोडिया के बेटे मनीष बगरोडिया के रिश्तेदार थे। उन्होंने कहा, आईडीएस इन्फोटेक लिमिटेड ने इंटरस्टेलर टेक्नोलॉजीज के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसे तब तारे के बीच होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के रूप में जाना जाता था। उन्होंने कहा, आईडीएस इन्फोटेक को जोड़ने से वकील गौतम खेतान द्वारा प्रेषित एक समझौता प्राप्त हुआ, जो पहले से ही तारे के बीच होल्डिंग्स लिमिटेड की ओर से साइनित था। खेतान को सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दो बार गिरफ्तार किया था। वर्तमान में वह जमानत पर बाहर है। अग्रवाल ने हालांकि कहा कि केवल खेतान ही बता सकते हैं कि तारे के बीच होल्डिंग्स लिमिटेड की ओर से समझौते पर किसने हस्ताक्षर किए थे।

यह भी पद्येँ: ‘महाराष्ट्र में जरूरी सेवाओं के अलावा सब कुछ बंद, आज से राज्य में धारा 144 लागू’

सीबीआई को दिए गए अपने बयान में उन्होंने कहा- समझौते के अनुसार, दसॉ एविएशन के साथ कुल कॉन्ट्रैक्ट वेल्यू के कमीशन का 40 फीसदी हिस्सा एजेंट को इंटरस्टेलर होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड के खाने में देना था। उन्होंने आगे बताया कि खेतान ने कमीशन के लिए समझौते की संरचना की, क्योंकि वह आईडीएस इन्फोटेक लिमिटेड, चंडीगढ़ के अटॉर्नी थे। अग्रवाल ने यह भी कहा कि खेतान ने उन्हें और आईडीएस इन्फोटेक लिमिटेड के प्रबंध निदेशक प्रताप कृष्ण अग्रवाल को बैंकिंग संस्थानों के माध्यम से भुगतान तारे के बीच होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड को प्रेषक के लिए कहा था। उन्होंने कहा कि आईडीएस इन्फोटेक लिमिटेड ने भारतीय रिजर्व बैंक से अनुमोदन प्राप्त करने के बाद खेतान के निर्देशों के अनुसार, इंटरस्टेलर होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, मॉरीशस के खातों में बैंकिंग शिक्षकों के माध्यम से भुगतान प्रेषित किया था।



संबंधित लेख

पहली प्रकाशित: 14 अप्रैल 2021, 07:36:01 पूर्वाह्न

सभी के लिए नवीनतम भारत समाचार, न्यूज नेशन डाउनलोड करें एंड्रॉयड तथा आईओएस मोबाईल ऐप्स।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

2021 वोक्सवैगन टी-आरओसी की भारत में लॉन्च करने के लिए,…

डिजिटल नई दिल्ली। संचार के मामले में नियामक वोक्सवैगन (क्वाक्सवेगन) ने मार्च 2021 में टी-रॉक (टी-रोक) को भारत में इस्तेमाल किया...

छोटे कद का बड़ा धमाल, इन स्‍तंभों में कैमरा ने कहा कि कम माटा

बाजार में तेज गति से चलने वाला ने धमाल मचाते हुए अपने दिमाग को हल्का कर दिया।'' ऐरान ने जहां 20...

Recent Comments