Thursday, November 26, 2020
Home Pradesh Uttar Pradesh हाथरस मामला: सीबीआई ने 15 दिन के लिए शहर में बनाया कैंप...

हाथरस मामला: सीबीआई ने 15 दिन के लिए शहर में बनाया कैंप कार्यालय, सबूत जुटाने के लिए पहुंची शमशान | हाथरस – समाचार हिंदी में


हाथरस मामला: सीबीआई ने 15 दिन के लिए शहर में बनाया कैंप कार्यालय, सबूत जुटाने के लिए पहुंची शमशान

सीबीआई ने हाथरस के उप कृषि निदेशक कार्यालय की भागीदारी में अपना कैंप कार्यालय बनाया है।

हाथरस मामला: सीबीआई (CBI) की टीम ने हाथरस में 19 साल की दलित युवती के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और मौत के मामले की जांच के लिए ढेरा डाल लिया है। वह 15 दिन तक शहर में रहकर मामले के सबूत जुटाएगी।

हाथरस। इलाहाबाद उच्च न्यायालय (इलाहाबाद उच्च न्यायालय) की लखनऊ खंडपीठ में हाथरस में 19 साल की दलित युवती के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और मौत के मामले की अगली सुनवाई की तारीख 2 नवंबर तय की है। जबकि हाथरस केस (हाथरस केस) में सीबीआई (CBI) की टीम ने अपनी छानबीन की एक्सपायर शुरुआत कर दी है। टीम में शामिल अधिकारी मंगलवार को क्राइम शपॉट पर पहुंचे और पीड़िता के भाई को भी घटनासथल पर बुलाया, ताकि घटना के बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा सके। यही नहीं, सीबीआई ने हाथरस के उप कृषि निदेशक कार्यालय की भागीदारी में अपना कैंप कार्यालय बनाया है। इस टीमें में 15 लोग शामिल हैं। वहीं, सीबीआई की सीमा पाहूजा मामले की इन्वेस्टिगेशन अधिकारी हैं। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक वी के शुक्ला, पुलिस उपाधीक्षक आर आर त्रिपाठी और निरीक्षक एस। श्रीमती को भी जांच दल में शामिल किया गया है। जानकारी के मुताबिक, सीबीआई टीम 15 दिन हाथरस में रहकर इस केस की जांच करेगी।

आपको बता दें कि केस को लेकर पीड़ित परिवार के लोगों के साथ अधिकारियों ने भी अपनी पक्ष रक्षा की थी। जबकि कोर्ट में पीड़ित परिवार ने रात में अंतिम संस्कार पर नाराजगी जताते हुए कहा था कि उन्हें पता नहीं है कि अंतिम संस्कार किया गया है। पीड़ित परिवार के बयान के बाद हाईकोर्ट में हाथरस के डीएम ने कहा था कि पीड़िता का रात में अंतिम संस्कार का फैसला स्थानीय प्रशासन का था। ऊपर से रात में अंतिम संस्कार को लेकर कोई निर्देश नहीं था। कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका के चलते रात में अंतिम संस्कार का फैसला लिया गया था। वहाँ, आज सीबीआई काफी देर तक अंतिम संकेतकार वाली जगह रही, इसलिए सबूत जुटाए जा सकते हैं।

लखनऊ पीठ ने लिया था हाथरस का संज्ञा

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने हाथरस कांड पर स्वत: संज्ञान लेते हुए इस मामले में आला अधिकारियों को गत एक अक्टूबर को तलब किया था। न्यायालय ने गत एक अक्टूबर को घटना के बारे में बयान देने के लिए मृत पीड़िता के परिजनों को बुलाया था। जबकि एक अक्टूबर को न्यायमूर्ति राजन रॉय और न्यायमूर्ति जसप्रीत सिंह ने प्रदेश के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और अपर पुलिस महानिदेशक, जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक हाथरस को घटना के बारे में स्पष्टीकरण देने के लिए 12 अक्टूबर को अदालत में तलब किया था। .गौरतलब है कि गत 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र में 19 साल की एक दलित लड़की से अगड़ी जाति के चार युवकों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया था। इस घटना के बाद हालत खराब होने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था, जहां गत 29 सितंबर को उसकी मौत हो गई थी। इस घटना को लेकर विपक्ष ने राज्य सरकार पर जबरदस्त हमला बोला था। वहीं, अब इस मामले को सीबीआई को सौंप दिया गया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

1 दिसंबर से नए कोरोनोवायरस दिशा-निर्देश, राज्यों ने रोकथाम के कदमों को लागू करने, COVID-19-उपयुक्त व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए कहा – कोरोना...

गृह मंत्रालय (एमएचए) ने निगरानी, ​​रोकथाम और सावधानी के लिए दिशानिर्देश के साथ आज एक आदेश जारी किया, जो 1 दिसंबर, 2020 से...

यूपी: 28 विदेशी कंपनियां करेंगी नौ हजार करोड़ का निवेश | उप्र: 28 विदेशी कंपनियां नौ हजार करोड़ का करेंगी निवेश

लखनऊ, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर संदेह छाई थी, उस समय उत्तर प्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की...

फारूक अब्दुल्ला ने भूमि घोटाले के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी, 10 अंक – भूमि संरक्षण के आरोपों पर फारुक अब्बीदुल्ला बोले-झूठ फैलाया जा रहा...

फारुक अब्सीदुल्ला ने आरोपों को उनकी छवि प्रदान करने के समझौते पर दिया हैश्रीनगर: जम्ममू -श्सिर (जम्मू और कश्मीर)...

भोपल गैस पीड़ितों के लिए घातक COVID-19, यूनियन कार्बाइड से अधिक मुआवजा चाहता है – भोपाल के गैस पीड़ितों के लिए जानलेवा साबित हो...

भोपाल गैस त्रासदी के शिशु अभी भी कई आत्मसात नई समसयाओं का सामना कर रहे हैं (प्रतीकात्मक शब्द)खास बातेंगैस पीडिआतों के लिए कन्फरत...

Recent Comments