Saturday, October 24, 2020
Home Desh हाथरस गैंग रेप केस पीड़ित परिवार ने 5 घंटे तक CBI से...

हाथरस गैंग रेप केस पीड़ित परिवार ने 5 घंटे तक CBI से पूछताछ की – हाथरस कांड: CBI ने पीड़ित परिवार से पूछे 5 घंटे पूछताछ की, ये सवाल


हाथरस कांड: सीबीआई ने पीड़ित परिवार से पूछताछ 5 घंटे की पूछताछ की, यह सवाल

सीबीआई ने हैंड्रास में कैंप ऑफिस बनाया है।

खास बातें

  • हाथरस कांड की जांच कर रही सी.बी.आई.
  • सीबीआई ने पीड़ित परिवार से पूछताछ की
  • जांच एजेंसी के साथ ले गए पीड़िता के कपड़े

हाथरस:

हाथरस गैंगरेप मामला (हाथरस गैंग रेप केस) की जांच सीबीआई कर रही है। शनिवार को जांच एजेंसी ने पीड़िता के परिवार से लगभग 5 घंटे तक पूछताछ की। पीड़िता की भाभी ने बताया कि सीबीआई ने उनसे संबंधित सवाल पूछे हैं। उन्होंने कहा, 'जांच दल ने मुझसे ज्यादा सवाल नहीं पूछे। उसने मुझसे छोटू के बारे में पूछा लेकिन मैं उसे जानती नहीं। वे अपने साथ पीड़िता के कपड़े ले गए। वे कई घंटे तक सवाल पूछते रहे। हमने किसी तरह का का प्रस्ताव महसूस नहीं किया। '

यह भी पढ़ें

सीबीआई ने हाथरस में एक कैंप ऑफिस बनाया है। कृषि विभाग की संपत्ति में यह दफ्तर बनाया गया है। पीड़ित परिवार केस की सुनवाई दिल्ली में चाहता है। वह लोग भी दिल्ली में शिफ्ट होना चाहते हैं। पीड़िता के भाई ने कहा कि वह चाहते हैं कि परिवार जहां भी रहे, सुरक्षित रहे। वहीं AAP के सांसद संजय सिंह (संजय सिंह) ने शनिवार को कहा कि वह हाथरस पीड़िता के परिवार को दिल्ली में स्थित अपने आवास में रखने के लिए तैयार हैं।

पीड़िता कम से कम धार्मिक रीति-रिवाजों के अनुसार अंतिम संस्कार की पात्र थी: हाथरस मामले पर हाईकोर्ट ने कहा

बता दें कि हाथरस के एक गांव में 14 सितंबर को 19 वर्षीय दलित लड़की से चार लड़कों ने कथित रूप से बलात्कार किया था। 29 सितंबर को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई थी। 30 सितंबर को रात के अंधेरे में उसके घर के पास ही कथित तौर पर पुलिस ने जबरन अंतिम संस्कार कर दिया था। परिवार का आरोप है कि पुलिस ने जल्द ही उससे अंतिम संस्कार करने के लिए मजबूर किया था। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि परिवार की इच्छा के मुताबिक ही अंतिम संस्कार किया गया है।

हाथरस मामला: AAP सांसद संजय सिंह का आरोप, 'दोषियों को बचाने के लिए झूठा शपथ पत्र दे रही यूपी सरकार'

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कहा है कि हाथरस केस की जांच की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट को करने को दी जाएगी। प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमणियन की पीठ इस मामले को लेकर दायर जनहित याचिका और कार्यकर्ताओं और वकीलों के हस्तक्षेप के आवेदनों पर सुनवाई कर रही थी। पीठ से कहा गया कि उत्तर प्रदेश में निष्पक्ष परीक्षण संभव नहीं है क्योंकि पहले ही जांच कथित रूप से चौपट कर दी गई है।

VIDEO: हैंड्रास केस: पीड़िता के भाई ने कहा- जांच में सहयोग हो रहा है

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है, यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यूरोपीय संघ के घरेलू पर्यटन में विदेशियों की तुलना में तेजी से वृद्धि हुई है ईयू का घरेलू पर्यटन विदेशियों की तुलना में तेजी...

ब्रसेल्स, 24 अक्टूबर (आईएएनएस)। यूरोपीय संघ के (ईयू) घरेलू पर्यटन में विदेशी पर्यटकों की तुलना में तेजी से वृद्धि हुई है,...

मैसूर के दशहरा, हाथी की सवारी पर कोरोना का प्रभाव इस बार शहर की सड़कों पर नहीं पड़ेगा। – मैसूर के दशहरी की भव्यता...

mysore dussehra 2020: दशहरा में जंबोइडिंग मैसूर राजमहल परिसर में ही निकाली जाएगीमैसूर: मैसूर के प्रसिद्ध शाही दशहरा (mysore dussehra) की भव्यता पर...

निर्मला सीतारमण ने कहा कि बिहार चुनावों में नि: शुल्क कोविद वैक्सीन का वादा 2020 मेनिफेस्टो बिल्कुल सही क्रम में – बिहार चुनाव: निर्मला...

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा पत्र जारी किया था। (फाइल फोटो)खास बातेंबीजेपी ने मुफ्त वैक्सीन का प्रोमो किया बीजेपी के घोषणा पत्र में...

Recent Comments