India

स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं’ के तहत ध्यान शिविर का आयोजन

भारतीय प्राणी सर्वेक्षण ने मिशन लाइफ ‘स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं’ के तहत ध्यान शिविर का आयोजन किया

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने मिशन लाइफ पर विशेष जोर देते हुए विश्व पर्यावरण दिवस 2023 मनाने की तैयारी की है। 2021 यूएनएफसीसीसी सीओपी26 ग्लासगो में आयोजित दुनिया के नेताओं के शिखर सम्मेलन में माननीय प्रधानमंत्री ने पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली यानी लाइफ (एलआईएफई) की अवधारणा सामने रखी थी। उन्होंने स्थायी जीवनशैली और पद्धति को अपनाने के लिए वैश्विक पहल को फिर से शुरू करने का आह्वान किया था। समारोह के उपलक्ष्य में मिशन लाइफ पर देशभर में कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

1. राष्ट्रीय सतत तटीय प्रबंधन केंद्र (एनसीएससीएम)

राष्ट्रीय सतत तटीय प्रबंधन केंद्र (एनसीएससीएम) ने मन्नार की खाड़ी जीवमंडल आरक्षित क्षेत्र में मछली पकड़ने के बंदरगाह थूथुकुडी में मिशन लाइफ के विषयों को बढ़ावा देने की दिशा में एक और पहल की है। मछली पकड़ने का यह थूथुकुडी बंदरगाह तमिलनाडु के सबसे बड़े और व्यस्ततम फिशिंग हार्बर में से एक है। इस बंदरगाह में 250 से अधिक मशीनी ट्रॉलर काम कर सकते हैं। इस अभियान के जरिए एनसीएससीएम के वैज्ञानिकों ने करीब 60 मछुआरों और नेट दुरुस्त करने वालों को मिशन लाइफ के विषयों के बारे में जागरूक किया। उन्हें जिम्मेदार और स्थायी रूप से मछली पकड़ने, स्वास्थ्य के लिए हितकर तरीका और प्रसंस्करण विधि अपनाने का महत्व समझाने के साथ ही ऊर्जा एवं जल संरक्षण के बारे में जागरूक किया गया। इस पहल के तहत खराब, खोए या अन्य छोड़े गए मछली पकड़ने के गियर (एएलडीएफजी) को फिर से निकालकर रखने और रीसाइकल करने आदि पर विशेष जोर दिया गया क्योंकि एक एएलडीएफजी समुद्र में 600 वर्षों तक बिना नष्ट हुए पड़ा रह सकता है। एनसीएससीएम के वैज्ञानिकों ने प्लास्टिक प्रदूषण खासतौर से समुद्री वातावरण में माइक्रोप्लास्टिक्स के साथ-साथ खाद्य श्रृंखला में उनके जैव संचयन के खतरों के बारे में जानकारी दी। मछुआरों को समझाया गया कि वे मछली पकड़ने के दौरान और घर पर भी कचरे के पृथक्करण का अभ्यास करें। इस अभियान के तहत एनसीएससीएम के कर्मचारियों ने इस समुदाय को मछली पकड़ने से संबंधित कूड़े (एफआरएल) को नियंत्रित करने के लिए प्रबंधन रणनीतियों की जरूरत के बारे में बताया। उन्होंने मछुआरों को एफआरएल (मछली पकड़ने से संबंधित अपशिष्ट) वापस लाने के लिए प्रोत्साहित किया। मछली पकड़ने के बंदरगाह पर उत्पादक की जिम्मेदारी बढ़ाकर खराब होने वाले फिशिंग गियर को इकट्ठा कर समुद्री वातावरण में प्लास्टिक बढ़ने से रोका जा सकता है। कूड़े इकट्ठा करना ‘स्वच्छ भारत, स्वच्छ समुद्र’ और स्वच्छ भारत मिशन पहल के अनुरूप है। एनसीएससीएम के वैज्ञानिकों ने इस बात पर जोर दिया कि इस तरह के कदमों से एफआरएल मूल्य श्रृंखला बढ़ सकती है जो मछली पकड़ने पर प्रतिबंध की अवधि के दौरान आय का स्रोत भी बन सकती है। इसके अलावा यह सुझाव दिया गया कि मछली पकड़ने पर बैन के दौरान मछुआरा समुदाय अतिरिक्त आय और आजीविका में विविधता लाने के लिए मछली के उप-उत्पादों का इस्तेमाल कर सकता है। इस अभियान के जरिए मछुआरों को सरल तरीके से समुद्री ठिकाने की संवेदनशीलता, जलवायु परिवर्तन और प्रकृति के साथ समन्वय बनाकर रहने की आवश्यकता के बारे में समझाया गया। बंदरगाह पर स्थायी एवं पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली को बढ़ावा देने के लिए पोस्टर और पर्चों के जरिए लाइफ थीम प्रदर्शित की गई। लाइफ संकल्प और हस्ताक्षर अभियान में सक्रिय रूप से शामिल होकर मछुआरा समुदाय ने लाइफ मिशन के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया।

 

2. जीबी पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण संस्थान (एनआईएचई)

24 मई 2023 को जीबी पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण संस्थान (एनआईएचई) के भूमि एवं जल संसाधन प्रबंधन केंद्र (सीएलडब्ल्यूआरएम) ने मिशन लाइफ के तहत अल्मोड़ा जिले के कयाला गांव में एक जागरूकता और कार्रवाई अभियान का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में कुल 70 लोगों ने हिस्सा लिया जिसमें पंचायत सदस्यों, गांववालों खासतौर से महिलाओं और बच्चों के अलावा, शोधकर्ता, वैज्ञानिक और सीएलडब्ल्यूआरएम के कर्मचारी मौजूद रहे। प्रतिभागियों को लाइफ थीम के विषयों- जैसे पानी बचाओ, स्वस्थ जीवनशैली अपनाओ, कचरा कम करो, स्थायी खाद्य प्रणाली अपनाओ, ऊर्जा बचाइए और सिंगल यूज प्लास्टिक को ना, के बारे में जागरूक किया गया। गांववालों को पीने और घरेलू उद्देश्यों के लिए उनके मुख्य जल स्रोत (स्प्रिंग) के पानी की गुणवत्ता का भी प्रदर्शन किया गया। इसके अलावा ‘प्रयास से प्रभाव तक’ का संदेश देते हुए ग्रामीणों की भागीदारी के साथ नष्ट होने और नष्ट न होने वाले कचरे को अलग-अलग इकट्ठा करने के लिए स्वच्छता अभियान चलाया गया। आखिर में प्रतिभागियों ने सत्र के दौरान समझी बातें साझा कीं, साथ ही उन कदमों के बारे में बताया जो वे अपने क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए उठाएंगे। सभी प्रतिभागियों ने पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली अपनाने के लिए लाइफ संकल्प लिया।

 

3. भारतीय प्राणी सर्वेक्षण

मिशन लाइफ रीक्रिएशन क्लब के लिए बड़ी संख्या में लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए, भारतीय प्राणी सर्वेक्षण ने महत्वपूर्ण पहल की है। जेडएसआई कोलकाता में मिशन लाइफ ‘स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं’ के तहत अपने कर्मचारियों के लिए 24 मई 2023 को एक ध्यान शिविर आयोजित किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन जेडएसआई की निदेशक डॉ. धृति बनर्जी ने किया, जिसमें दो बैच में करीब 100 कर्मचारियों ने रोजमर्रा के जीवन में अभ्यास के लिए सरल प्राणायाम और ध्यान का तरीका सीखा। प्रशिक्षित मेडिटेशन कोच देबाश्री ने इस ध्यान शिविर का संचालन किया।

 

4. राष्ट्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय

आरएमएनएच, मैसूर ने 24 मई 2023 को मिशन लाइफ (पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली) के हिस्से के रूप में ‘स्टोरी टेलिंग-पपेट शो एक्टिविटी के साथ’ का आयोजन किया। इसमें 55 विद्यार्थी/सामान्य आगंतुकों के लिए नैतिक एवं पर्यावरण मूल्यों वाली कहानियां सुनाई गईं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button