Thursday, November 26, 2020
Home Pradesh Uttar Pradesh स्वच्छ रामिंग मुहीम से जुड़ी संतों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, खनन...

स्वच्छ रामिंग मुहीम से जुड़ी संतों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, खनन माफियाओं से कहा गया था का जीवन


महंत रामदास की फाइल फोटो

महंत रामदास की फाइल फोटो

मुरादाबाद समाचार: पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह की पुष्टि नहीं हुई है, जबकि गले और शरीर पर चोट के निशान थे। जिसके बाद उनका विसरा सुरक्षित रख लिया गया है।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:
    18 अक्टूबर, 2020, सुबह 8:11 बजे IST

मुरादाबाद। अवैध खनन माफ़ियाओं (खनन माफियाओं) के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने वाले नगर नगर रामदास (संत रामदास) का शव शनिवार को मुरादाबाद के गलशहीद थाना क्षेत्र के एक मंदिर में मिला। मृतक संत रामदास रामंगे प्रदूषण मुक्त समिति से जुड़े थे। वे लगातार रामंगे को बचाने के लिए संघर्षरत थे। शनिवार सुबह पुलिस को सूचना मिली कि गलशहीद क्षेत्र स्थित एक मंदिर में नगर संत रामदास का शव पड़ा है, जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले की जांच शुरू की। बता दें कि संत रामदास ने खुद को खनन माफियाओं से जान का खतरा बताया था।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह साफ नहीं है

उधर पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु की वजह की पुष्टि नहीं हुई है, जबकि गले और शरीर पर चोट के निशान थे। जिसके बाद उनका विसरा सुरक्षित रख लिया गया है। पुलिस अधीक्षक नगर अमित कुमार आनंद ने बताया कि शुक्रवार की रात को संत रामदास मंदिर में पहुंचे थे। उन्होंने वहां अपनी तबीयत खराब बताई। इसके बाद वह चादर ओढ़ कर सो गए थे। शनिवार सुबह वह मृत पाए गए थे। शव का पोस्टमार्टम करा दिया गया है। पीएम रिपोर्ट में कोई अंक का निशान नहीं हैं। मृत्यु की वजह भी स्पष्ट नहीं हो पाई है। विसरा सुरक्षित रखा गया है। उनके मोबाइल व पर्स के बारे में जांच की जा रही है।

वीडियो वायरल कर बताया गया था जान को खतराबता दें कि संत रामदास द्वारा रामांज को प्रदूषण मुक्त करने की मुहीम की वजह से उन्हें नगर संत की उपाधि से नवाजा गया था। कुछ दिन पहले ही उन्होंने एक वीडियो वायरल कर खुद को खनन माफियाओं से जान का खतरा बताया था। वे काफी लंबे समय से खनन माफियाओं के खिलाफ मुहीम गए हुए थे।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यूपी: 28 विदेशी कंपनियां करेंगी नौ हजार करोड़ का निवेश | उप्र: 28 विदेशी कंपनियां नौ हजार करोड़ का करेंगी निवेश

लखनऊ, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर संदेह छाई थी, उस समय उत्तर प्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की...

फारूक अब्दुल्ला ने भूमि घोटाले के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी, 10 अंक – भूमि संरक्षण के आरोपों पर फारुक अब्बीदुल्ला बोले-झूठ फैलाया जा रहा...

फारुक अब्सीदुल्ला ने आरोपों को उनकी छवि प्रदान करने के समझौते पर दिया हैश्रीनगर: जम्ममू -श्सिर (जम्मू और कश्मीर)...

भोपल गैस पीड़ितों के लिए घातक COVID-19, यूनियन कार्बाइड से अधिक मुआवजा चाहता है – भोपाल के गैस पीड़ितों के लिए जानलेवा साबित हो...

भोपाल गैस त्रासदी के शिशु अभी भी कई आत्मसात नई समसयाओं का सामना कर रहे हैं (प्रतीकात्मक शब्द)खास बातेंगैस पीडिआतों के लिए कन्फरत...

कोरोनावायरस के मामले बढ़ने से एयलाइंस कंपनियों की बढ़ी मुश्किलें

यूरोप और अमेरिकी में कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि के साथ ही दुनिया भर की विमानन कंपनियों का वित्तीय परिदृश्य खराब हो रहा...

Recent Comments