Sunday, September 20, 2020
Home Business सोना 2300 रुपये टूटकर रिकॉर्ड ऊंचाई पर, 6000 रुपये प्रति किलो चांदी...

सोना 2300 रुपये टूटकर रिकॉर्ड ऊंचाई पर, 6000 रुपये प्रति किलो चांदी में गिरावट | रिकॉर्ड ऊंचाई से 2300 रुपये टूटा सोना, 6000 रुपये प्रति किलो लुढ़की चांदी



डिजिटल डेस्क, मुंबई, 11 अगस्त (आईएएनएस)। डॉलर में रिकवरी आने से मंगलवार को एक बार फिर सोने और चांदी की तेजी पर ब्रेक लग गया। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सुगंधित धातुओं की चाल मंद पड़ने से भारत में भी सोने और चांदी की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई। घरेलू वायदा बाजार में सोना रिकॉर्ड ऊंचाई से 2,300 रुपये प्रति 10 ग्राम टूट गया है और चांदी के दाम में 6000 रुपये प्रति किलो से ज्यादा की गिरावट आ गई है।

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर मंगलवार को दोपहर 13.14 बजे सोने के अक्टूबर वायदा अनुबंध में पिछले सत्र से 1,043 रुपये यानी 1.90 प्रतिशत की गिरावट के साथ 53,903 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले कारोबार के दौरान सोने का भाव 53,820 रुपये तक था। टूटा। बीते शुक्रवार को #X पर सोने का रिकॉर्ड 56,191 रुपये प्रति 10 ग्राम तक उछला था, तब से 2,300 रुपये प्रति 10 ग्राम से ज्यादा की गिरावट आ गई है।

वहीं, एक्सएक्स पर चांदी के सितंबर एक्पायरी अनुबंध में पिछले सत्र से 2,649 रुपये यानी 3.51 प्रतिशत की गिरावट के साथ 72,745 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था, जबकि कारोबार के दौरान चांदी का भाव 71,791 रुपये प्रति किलो तक बढ़ गया था। बीते शुक्रवार को सुश्रीएक्स पर चांदी का भाव 77949 रुपये प्रति किलो तक उछला था, जिसके बाद अब चांदी 6000 रुपये प्रति किलो से ज्यादा लुढ़क चुकी है।

एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने बताया कि सोने और चांदी की तेजी पर पर डॉलर में रिकवरी के कारण ब्रेक लगा है। साथ ही, मुनाफा वसूली के कारण कीमतों पर दबाव आया है। गुप्ता ने कहा कि तंत्रिका धातुओं में तेजी के फैक्टर्स अभी भी मौजूद हैं और यह नरमी क्षणिक है।

दुनिया की छह मुद्राओं के डॉलर की ताकत का सूचक डॉलर इंडेक्स बीते गुरुवार को लुढ़ककर 92.74 पर आ गया था जो मंगलवार को 93.70 तक चढ़ गया। उन्होंने कहा कि अमेरिका और चीन के बीच तकरार से सोने की तेजी का पूरक मिलेगा। केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने भी कहा कि सोने के घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में रिकॉर्ड ऊंचाई पर चली गई थी, जहां से कीमतों का टूटना स्वाभाविक था, लेकिन यह महज एक करेक्शन है और तेजी के फंडामेंटल्स अभी भी मौजूद हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच: एम्स की फॉरेंसिक टीम के मंगलवार को CBI से मिलने की संभावना | SSR मृत्यु प्रकरण: AIIMS...

डिजिटल डेस्क, मुंबई। सुशांत केस में AIIMS डाक्टरों की जो बैठक सीबीआई के साथ होने वाली थी, अब वह मंगलवार तक...

कोरोना की पहली तिमाही की कमाई में एविएशन का कारोबार 86 प्रतिशत कम रहा

कोरोना महामारी के दौर में विमानन उद्योग का न सिर्फ कारोबार प्रभावित हुआ है, बल्कि हजारों लोगों की नौकरी भी चली गई...

शिरोमणि अकाली दल ने बीजेपी को दी चेतावनी, पंजाब के किसानों को नहीं लगता कमजोर – अकाली दल की बीजेपी को चेतावनी- पंजाब के...

नई दिल्ली: कृषि क्षेत्र के तीन भाषायकों को लेकर पंजाब और हरियाणा सहित विभिन्न राज्यों में प्रदर्शन के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)...

Recent Comments