Sunday, December 6, 2020
Home Uttar Pradesh सीएम योगी ने की महागौरी की आराधना, 'पीठाधीश्वर' की वेशभूषा में कल...

सीएम योगी ने की महागौरी की आराधना, 'पीठाधीश्वर' की वेशभूषा में कल नज़र आए


सीएम योगी ने की महागौरी की आराधना की

सीएम योगी ने की महागौरी की आराधना की

बता दें कि गोरखनाथ मंदिर में शारदीय नवरात्र भव्य रूप में मनाया जाता है। शारदीय नवरात्र में सीएम योगी (सीएम योगी) नौ दिन तक व्रत रखते हुए माता की पूजा-अर्चना करते हैं।

  • News18Hindi
  • आखरी अपडेट:
    24 अक्टूबर, 2020, 3:08 PM IST

गोरखपुर। गोरखनाथ मंदिर (गोरखनाथ मंदिर) के मठ के पहले तल पर स्थित शक्ति मंदिर में शनिवार को मुख्यमंत्री व गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ (सीएम योगी आदित्यनाथ) ने माता दुर्गा के आठवें स्वरूप मां महागौरी की विधि-विधान से आराधना की। इस दौरान गोरक्षपीठाधीश्वर ने सभी देव विग्रहों का षोडशोपचार पूजन भी किया। पूजनोपरांत योगी ने गोरखनाथ मंदिर में उन्हें मिलने वाले समाज के कई गणमान्य लोगों से उनकी मित्रता का पता पूछा। विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारियों ने उन्हें भारत माता की छवि प्रस्तुत की।

सीएम योगी होंगे विजयादशमी जुलुस में शामिल

रविवार को सुबह अनुष्ठानिक कार्यकर्मो के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर में दोपहर 12 बजे कन्या पूजन होगा। शाम चार बजे विजयादशमी का जुलुस निकलेगा जिसमें परम्परा वेशभूषा में शामिल होकर वह मानसरोवर मंदिर जाएगी। यहां जा रही रामलीला में वह भगवान राम का तिलक करेंगे। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विजयदशमी के दिन गोरखनाथ मंदिर में न्यायिक दंडाधिकारी की भूमिका में नजर आएंगे। विजयदशमी की देर रात होने वाली पात्र पूजा में नाथ पंथ के संतों के लिए अदालत लगेगी।

ये भी पढ़ें- यूपी: बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद कराएंगे भदोही की घायल युवती का इलाजअदालत में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बतौर गोरक्षपीठाधीश्वर संतों की समस्याओं को सुलझाएंगे। पारंपरिक पात्र पूजा नाथ पंथ में अनुशासन बनाने रखने के लिए की जाती है। बता दें कि गोरखनाथ मंदिर में शारदीय नवरात्र भव्य रूप में मनाया जाता है। शारदीय नवरात्र में सीएम योगी नौ दिन तक व्रत रखते हुए माता की पूजा-अर्चना करते हैं। शारदीय नवरात्र में योगी अपने भवन से बाहर नहीं निकलते हैं। अष्टमी के दिन शस्त्र की पूजा की जाती है।

क्या है नाथ पीठ की परंपरा

परंपरा है कि गोरक्षपीठाधीश्वर को कलश स्थापना के बाद पूरे नवरात्र अपने आवास में ही निवास करना होता है। हालांकि मुख्यमंत्री पद के दायित्व को देखते हुए योगी आदित्यनाथ के लिए ऐसा करना संभव नहीं है लेकिन वे जब तक मंदिर में रहेंगे अपने आवास से बाहर निकलेंगे।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पश्चिम बंगाल: जेल में बंद सारदा के मालिक ने कई लोगों के पैसे लेने का आरोप लगाया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (फाइल फोटो)।कोलकाता: पश्चिम बंगाल में सारदा पोंजी संगठनों के मुख्य आरोपी सुदंत सेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...

पीएम-कुसुम योजना के तहत फीडर स्तर के सौर संयंत्र लगाने के लिए दिशानिर्देश जारी

सरकार ने पीएम-कुसुम योजना के तहत फीडर स्तर के सौर संयंत्र (सोलराइजेशन) लगाने को लेकर राज्यों के साथ परामर्श के बाद शुक्रवार को...

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बीजेपी के आगेप्रिंटन किया: सुखबीर बादल

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (फाइल फोटो)।चंडीगढ़: शिरोमणि अकाली समूह (एसएडी) के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल (सुखबीर सिंह बादल) ने...

सरकार के साथ बैठक में किसान नेता अपना भोजन और चाय के साथ पहुंचे

सरकार के साथ बैठक में किसान संगठनों के नेताओं ने अपने साथ लंगर से लाया गया भोजन किया।नई दिल्ली: कृषि कानूनों (फार्म कानून)...

Recent Comments