Thursday, August 6, 2020
Home Desh सीएम नीतीश कुमार सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला सीबीआई को...

सीएम नीतीश कुमार सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला सीबीआई को सौंप सकते हैं


सुशांत सिंह राजपूत केस: सीबीआई को केस सौंपने की सिफारिश कर रहे हैं नीतीश कुमार

बुधवार को होने वाली सुनवाई से पहले सीबीआई जांच के दिए जा सकते हैं

पटना:

बिहार सरकार (बिहार सरकार) किसी भी समय फिल्म अधिकारी सुशांत सिंह राजपूत की मौत (सुशांत सिंह राजपूत डेथ केस) के मामले को CBI को देने की विधिवत घोषणा कर सकती है। इस बात का संकेत ख़ुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (सीएम नीतीश कुमार) ने शनिवार को उस समय दिया जब उन्होंने कहा कि अगर परिवार के लोग बिहार सरकार को इस मामले की जांच की अनुशंसा सीबीआई को देते हैं तो इसमें कोई हर्ज नहीं है। वो परिवार वालों के इस मामले पर स्टैंडबाई के इंतज़ार कर रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुरू से इस मामले में स्टैंड लिया है कि जब तक सुशांत के परिवार के लोग (सुशांत का परिवार) नहीं सगागे तब तक पटना में उनके पिता द्वारा दर्ज सनमिकी के आधार पर जांच चलती रहेगी।

यह भी पढ़ें

बॉलीवुड एक्ट्रेस ने की दिशा सालियन के निधन की जांच की मांग, बोलीं- यह सुशांत की हत्या की जानकारी से जुड़ी …

इधर इस मामले में मुंबई में जांच कर रही पटना पुलिस की टीम के साथ अनिश्चितयोग का मामला उठा था। इस पर बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पाण्डेय ने साफ किया कि इस संबंध में जो वीडियो फुटेज सामने आए थे, वहां मुंबई पुलिस ने पटना पुलिस के अनुरोध पर उन्हें वाहन में जाने की मदद की थी ताकि उन्हें मीडिया से लगभग मदद मिल सके। ऐसा माना जा रहा है कि बिहार सरकार ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के अनुरोध पर सक्रिय हुए हैं और पिता के बयान पर आलमिकी दर्ज हुई है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कोटव ठाकरे "बॉलीवुड माफिया" के वेश में हैं: सुशील मोदी

लेकिन पेंच ये है कि अब सबको लग रहे हैं कि मामला सुप्रीम कोर्ट में चला गया है। जहां पटना पुलिस की जांच पर सवाल खड़े हो सकते हैं। क्योंकि घटना उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं हुई है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के पहले परिवार के लोग करेंगे कि मामले की जांच सीबीआई से हुई है। ऐसे में नीतीश कुमार, जो गृह विभाग के मुखिया भी हैं। वे ये सलाह देते हैं कि अगले चौबीस घंटे में कर सकते हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई बुधवार को होनी है।

एक तीर से कई शिकार

नीतीश कुमार या उनके सहयोगी भाजपा के लिए ये कदम इसलिए भी राजनीतिक रूप से फ़ायदेमंद हैं क्योंकि न केवल सरकार बल्कि विपक्षी राजद और सहयोगी लोक जनशक्ति की भी मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रही है। ऐसे में नीतीश कुमार के इस कदम से उनके मुद्दे को भी ठंडा किया जा सकता है। साथ ही कांग्रेस जो महाराष्ट्र में सत्ता में सहयोगी हैं उससे घेर सकते हैं। नीतीश कुमार अब हर हाल में सुशांत के परिवार के साथ दिखना चाहते हैं क्योंकि चुनावी वर्ष में वे युवा और राजपूत जाति के लोगों का आक्रोश नहीं झेलना चाहते हैं। जो इस मुद्दे पर काफ़ी आक्रोश में है।

वीडियो: सुशांत की खुदकुशी पर सियासत जारी



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जम्मू और कश्मीर: वैष्णो देवी यात्रा, जो मार्च से बंद है, 16 अगस्त से फिर से शुरू होगी – जम्मू-कश्मीर: मार्च से बंद वैष्णो...

वैष्णो देवी यात्रा 16 अगस्त से फिर शुरू होगी।नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कहर से बचने के बंद पड़ी माता वैष्णो देवी की...

Recent Comments