Thursday, August 5, 2021
Home Pradesh Bihar सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नारदीगंज में सुरक्षित गर्भपात को लेकर प्रशिक्षण

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नारदीगंज में सुरक्षित गर्भपात को लेकर प्रशिक्षण

संवाददाता – धर्मेंद्र रस्तोगी

असुरक्षित गर्भपात के संबंध में चिकित्सकीय सलाह की दी गई जानकारी:
20 सप्ताह तक के गर्भ को कानूनी रूप से समाप्त करने की है इजाज़त: प्रशिक्षक
प्रशिक्षित चिकित्सकों की मौजूदगी में गर्भपात कराना होता है सुरक्षित: सीमा

नवादा,
कोरोना संक्रमण काल के दौरान गर्भवती महिलाओं को कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। सुरक्षित गर्भपात करना भी एक तरह से सबसे ज़्यादा चुनौती है। इसको लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नारदीगंज में 32 आशा कार्यकर्ताओं एवं एएनएम के लिए आई पास डेवलपमेंट फाउंडेशन एवं साझा प्रयास द्वारा सुरक्षित गर्भ समापन को लेकर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। साथ ही सुरक्षित गर्भ समापन एवं परिवार नियोजन विषय को लेकर एक प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। जिसमें आशा एवं एएनएम शामिल हुईं। इन सभी सफ़ल प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया गया। जिसमें 32 आशा कार्यकर्ताओं को आई पास डेवलपमेंट फाउंडेशन की ओर से सुरक्षित गर्भ समापन और एमटीपी एक्ट-1971 के विषय में विस्तृत रूप से बताया गया। इस अवसर पर नारदीगंज के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अखिलेश प्रसाद व बीएचएम राहुल कुमार सहित लगभग 3 दर्जन आशा कार्यकर्ता मौजूद रहीं।

असुरक्षित गर्भपात के संबंध में चिकित्सकीय सलाह की दी गई जानकारी: सीमा सोनल
प्रशिक्षक सीमा सोनल ने बताया कोरोना संक्रमण काल के समय महिलाओं को कई विषम परिस्थितियों से भी गुजरना पड़ा है। इस दौरान कई ऐसी महिलाएं हैं जो अनचाहे रूप से गर्भवती हो गईं। संक्रमण काल होने के कारण वह अपना सुरक्षित रूप से गर्भपात भी नहीं करा सकीं हैं। जिस कारण वह सरकारी अस्पतालों में चिकित्सकीय सुविधा का लाभ लेने से वंचित रह गई। लिहाजा उन महिलाओं का गर्भ अब 2 से 3 माह का हो चुका है। इसलिए उनका सुरक्षित रूप से चिकित्सकीय परामर्श अतिआवश्यक है। ताकि उनका सुरक्षित रूप से गर्भ समापन किया जा सके। इसको लेकर हम सभी को प्रयास करने की जरूरत है। खासकर सामाजिक रूप में इसे लेकर जागरूकता लाने की बहुत ज़्यादा जरूरी है।

20 सप्ताह तक के गर्भ को कानूनी रूप से समाप्त करने की है इजाज़त: सीमा
प्रशिक्षक सीमा सोनल ने बताया एमटीपी (मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ़ प्रेग्नेंसी) एक्ट-1971 में निहित कुछ शर्तों के आधार पर कोई भी महिला 20 सप्ताह तक के गर्भ को कानूनी रूप से गर्भपात करा सकती है। लेकिन एमपीटी एक्ट में कुछ शर्तों का जिक्र भी किया गया है। जिसका अनुपालन अनिवार्य रूप से करना जरूरी होता है। इसके लिए कुछ जरूरी दस्तावेज का होना भी नितांत आवश्यक होता है। लेकिन इस दौरान गर्भपात कराने वाली महिला का विशेष ध्यान रखना होगा ताकि उनका सुरक्षित रूप से गर्भपात हो सके। इसके लिए उनके परिजनों को खास ध्यान रखने की आवश्यकता है।

प्रशिक्षित चिकित्सकों की मौजूदगी में गर्भपात कराना होता हैं सुरक्षित: सोनल
प्रशिक्षक सीमा सोनल ने यह भी बताया कानूनी रूप से सरकारी अस्पतालों में निःशुल्क गर्भपात कराने की सुविधा उपलब्ध है। इस दौरान विशेष परिस्थिति होने पर एंबुलेंस की मदद से महिला मरीज को नि:शुल्क रूप से हायर सेंटर भेजने की सरकारी सुविधा भी उपलब्ध है। जिसका लाभ सभी को लेना चाहिए। कानूनी तौर पर 20 सप्ताह तक गर्भ समापन कराना वैध माना जाता है। लेकिन 12 सप्ताह के अंदर एक प्रशिक्षित महिला रोग विशेषज्ञ एवं 12 सप्ताह से ऊपर तथा 20 सप्ताह के अंदर तक में 2 प्रशिक्षित चिकित्सकों की उपस्थिति में सरकारी अस्पताल या सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त अस्पतालों में प्रशिक्षित चिकित्सकों की मौजूदगी में गर्भपात कराना चाहिए। इस दौरान माहवारी को लेकर विशेष रूप से सफाई के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गयी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

1993 से भगवान राम को लेकर करोड़ों रुपये चंदा इकट्ठा किया, अब फिर पहुंच रहे घर-घर: सतीश चन्द्र मिश्रा

बरेली. यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Elections 2022) में को लेकर बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने तैयारी शुरू कर दी...

PM मोदी और योगी से मीटिंग, क्या UP चुनाव में फायदा लेने की कोशिश कर रहे जीतन राम मांझी !

पटना. लोजपा की आपसी फूट के बाद क्या बिहार में सत्तारूढ़ जीतन राम मांझी खुद को दलितों का सबसे बड़ा नेता दिखाने की कोशिश...

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा- ‘महिलाएं आनंद की वस्तु हैं’ पुरुष वर्चस्व की इस मानसिकता से सख्ती से निपटना जरूरी, पढ़ें मामला

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक महत्वपूर्ण आदेश में कहा है कि शादी का झूठा वादा कर यौन संबंध बनाना कानून में दुराचार का अपराध...

2020 से बेहतर हुई यूपी के खजाने की स्थिति, जुलाई में 12655 करोड़ आए : सुरेश खन्ना

प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण का सकारात्मक असर राज्य की आर्थिक गतिविधियों में नजर आने लगा है। चालू वित्तीय वर्ष के...

Recent Comments