Tuesday, January 31, 2023
HomeUttar Pradeshसरकार विश्व बैंक समूह-आई.एफ.सी. के साथ मिलकर किसानों की बेहतरी के कार्य

सरकार विश्व बैंक समूह-आई.एफ.सी. के साथ मिलकर किसानों की बेहतरी के कार्य

सरकार विश्व बैंक समूह-आई.एफ.सी. के साथ मिलकर किसानों की बेहतरी के कार्य करना चाहती है
सरकार किसानों के हित में कार्य  कर रही ।हज्मबी कम्पनियों को हर प्रकार से सहयोग प्रदान करेगी

लखनऊ:
यूपीडास्प-समन्वय विभाग, उ0प्र0 तथा अंतर्राष्ट्रीय वित्त  निगम (आई.एफ.सी.) के इंडिया एगटेक एडवाइजरी प्रोडक्ट ;प्।।च्द्ध के सहयोग से 1ेज ैवसनजपवदे  त्वनदकजंइसम थ्वत ।हज्मबीे पद न्जजंत च्तंकमेीए ष्ज्ीमउंजपब चतमेमदजंजपवदे वद प्ददवअंजपअम ज्मबीदवसवहपमे –  डवकमसेष् सम्मेलन का आयोजन किया गया।
कृषि उत्पादन आयुक्त, उ0प्र0 श्री मनोज कुमार सिंह द्वारा कहा गया कि राज्य सरकार, प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन करने व किसानों की आय को दोगुनी करने के उद्देश्य से कृषि कार्यों में नवीन तकनीक का प्रयोग करते हुए कृषि गतिविधियों को सुलभ बनाने  एवं कृषक परिवारों को आत्मनिर्भर करने हेतु कृत संकल्प है। प्रदेश के कृषक प्रगतिशील है तथा कृषि में उपयोगी नवीनतम तकनीक को अपनाने हेतु इच्छुक है। कृषि निवेश के तरीकों पर फोकस करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार विश्व बैंक समूह-आई.एफ.सी. के साथ मिलकर किसानों की बेहतरी के कार्य करना चाहती है। सरकार किसानों के हित में कार्य  कर रही ।हज्मबी कम्पनियों को हर प्रकार से सहयोग प्रदान करेगी। खाद्य प्रसंस्करण तथा कृषक  उत्पादन संगठनों को बढ़ावा देने हेतु सरकार प्राथमिकता से कार्य कर रही है जिसके माध्यम से लघु सीमान्त किसानों की आय में वृद्वि तथा बेरोजगारी दूर करने में सहायक होगी।
प्रस्तुतिकरण के दौरान आई.एफ.सी. के प्रतिनिधि ने अवगत कराया कि आईएएपी का उद्देश्य प्रदेश में किसानों के आय में वृद्धि करना, एगटेक की पहुंच को अधिकतम किसानों तक  पहुँचाना, निजी क्षेत्र के विकास हेतु अनुकूलित समाधान करना, प्रौद्योगिकियों की पहचान करना,  वाणिज्यिक निवेश आकर्षित करना और कृषि क्षेत्र में व्यापार सम्बन्धी गतिविधियों में बाधाओं को दूर करना है।
सम्मेलन में प्रतिभाग करने वाली 24 ।ळ.ज्मबी ेजंतज नचे द्वारा कृषि क्षेत्र में किसानों को  फसल उगाने, सिंचाई, तुड़ाई उपरान्त प्रबन्ध में सहयोग व सलाह देने, जल प्रबन्धन तथा मौसम की जानकारी, सैटेलाइट इमेजिंग, रिमोट संेसिंग, ड्रोन टेक्नोलॉजी, जियो टैगिंग, जियो मैपिंग, कोल्ड स्टोरजे सोल्यूशन्स, अर्टिफिशियल इन्टेलिजेंस, खाद्य प्रसंस्करण, मशीनीकरण, सूक्ष्म स्तर पर भंडारण, एग्री डाटा एनालिटिक्स, बाजार तक पहुँच, एप्लीकेशन सॉफ़्टवेयर, ई-मार्केटप्लेस जैसी  तकनीकों के माध्यम से कृषि क्षेत्र में समस्याओं को दरू करने सम्बन्धी विषयों पर प्रस्तुतीकरण किया गया।
सम्मेलन में श्री सैमुएल प्रवीण कुमार,  संयुक्त सचिव, कृषि एवं कृषक कल्याण म ंत्रालय, भारत सरकार, श्री अनुराग यादव, सचिव, कृषि,  श्री जी.एस. प्रियदर्शी, आयुक्त ग्राम्य विकास, श्री योगेश कुमार विशेष सचिव, समन्वय, श्री अन्जनी  कुमार सिंह, निदेशक, मण्डी परिषद, श्री विजय शेखर कलावकोंडा, सीनियर ऑपरेशनस ऑफिसर,  आई.एफ.सी., श्री अनिल सिन्हा, सीनियर एडवाइजर (आई.ए.ए.पी-आई.एफ.सी.), श्री युवराज आहूजा एवं अन्य विभागीय अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments