Friday, May 27, 2022
HomeIndiaश्री श्री रविशंकर अमेरिकी राज्य डेलावेयर के दोनों हाउस को संबोधित करने...

श्री श्री रविशंकर अमेरिकी राज्य डेलावेयर के दोनों हाउस को संबोधित करने वाले पहले भारतीय आध्यात्मिक नेता बने


Image Source : TWITTER.COM/SRISRI
Sri Sri Ravi Shankar addressed the Delaware State Senate and the House of Representatives.

Highlights

  • आध्यात्मिक नेता श्री श्री रविशंकर ने अमेरिकी राज्य डेलावेयर के सीनेट और हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स दोनों को संबोधित किया।
  • डेलावेयर महासभा में श्री श्री का संबोधन मानसिक स्वास्थ्य की चुनौतियों से निपटने और शांति स्थापित करने पर केंद्रित था।
  • श्री श्री ने आंतरिक शांति और मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए अपनी श्वासों का उपयोग करने के महत्व पर प्रकाश डाला।

बेंगलुरु: आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक, वैश्विक मानवीय और आध्यात्मिक नेता श्री श्री रविशंकर ने अमेरिकी राज्य डेलावेयर के सीनेट और हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स दोनों को संबोधित किया। वह दोनों सदनों में आमंत्रित होने वाले पहले भारतीय आध्यात्मिक नेता बन गए। डेलावेयर महासभा में श्री श्री का संबोधन मानसिक स्वास्थ्य की चुनौतियों से निपटने और शांति स्थापित करने पर केंद्रित था। उन्होंने आंतरिक शांति और मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए अपनी श्वासों का उपयोग करने के महत्व पर प्रकाश डाला।

श्री श्री समुदाय के सभी वर्गों में मानसिक स्वास्थ्य की समस्याओं से निपटने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जिसमें छात्र, पूर्व सैनिक, जेल के कैदी, चिकित्सक, पेशेवर और अन्य कई शामिल हैं। रोचक बात यह है कि डेलावेयर अमेरिका के संविधान को मान्यता देने वाला पहला राज्य है और यह अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन का चुनावी क्षेत्र भी है। बैठक के दौरान, प्रत्येक सदस्य ने शांति, आघात राहत, संघर्ष समाधान, महिला सशक्तिकरण और सामुदायिक विकास की दिशा में विश्व स्तर पर आर्ट ऑफ लिविंग के व्यापक कार्य को स्वीकार करते हुए आभार व्यक्त किया।

इराक, श्रीलंका, कोलंबिया, कैमरून जैसे देशों में मध्यस्थता और संघर्ष समाधान में श्री श्री की लंबे समय से चली आ रही भूमिका को भी मान्यता दी। श्री श्री ने अपने संबोधन में उन समुदायों के निर्माण के महत्व पर जोर दिया जहां मानवीय मूल्यों को सम्मानित और पोषित किया जाता है। उन्होंने सभी हितधारकों को बलों में शामिल होने और ‘आई स्टैंड फॉर पीस’ अभियान का हिस्सा बनने के लिए प्रोत्साहित किया, जो शांतिपूर्ण प्रगति, एकता और सद्भाव पर ध्यान केंद्रित करने के लिए एक आंदोलन है।

‘हमें श्री श्री रविशंकर के मानवतावाद, आध्यात्मिक नेतृत्व और यहां संयुक्त राज्य अमेरिका व दुनिया भर में शांति के लिए प्रतिबद्धता का सम्मान और धन्यवाद करते हुए गर्व हो रहा है।’ आर्ट ऑफ लिविंग के कार्यों को मान्यता देते हुए, श्री श्री के प्रति संयुक्त आभार प्रदर्शन में गवर्नर जॉन कार्नी और लेफ्टिनेंट गवर्नर बेथानी हॉल-लॉन्ग ने उल्लेख किया। इस साल गुरुदेव के पहले अमेरिका दौरे के हिस्से के रूप में, उन्होंने महामारी के बाद के समय में मानसिक स्वास्थ्य और आरोग्य के महत्व पर एक महत्वपूर्ण बातचीत शुरू की है, जब विश्व में अवसाद, थकान और चिंता सहित मानसिक स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों की घटनाएं बढ़ रही हैं।

श्री श्री ने लेखकों, नीति निर्माताओं, देश के शीर्ष स्वास्थ्य विशेषज्ञों और कलाकारों सहित प्रमुख हितधारकों से मुलाकात की और सार्थक चर्चा की। उनका 2022 का यूएस दौरा मियामी में शुरू हुआ जहां उन्होंने मानसिक स्वास्थ्य और समग्र आरोग्य के लिए ध्यान की भूमिका पर चिकित्सकों के एक सम्मेलन को संबोधित किया। वहां से वे बोस्टन गये जहां उन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में मानसिक स्वास्थ्य के विनष्ट होने के बारे में अपने विचार साझा किए। इसके बाद स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं और प्रशासकों के साथ चिल्ड्रन नेशनल हॉस्पिटल और नेशनल ज्योग्राफिक सोसाइटी द्वारा आयोजित स्वास्थ्य सेवा कर्मचारियों के स्वास्थ्य को प्राथमिकता देने पर बातचीत हुई।

इसके बाद श्री श्री ने जॉर्ज वॉशिंगटन विश्वविद्यालय में यू.एस. सर्जन जनरल के साथ युवा मानसिक स्वास्थ्य के संकट पर बात की। डेलावेयर पहुंचने से पहले, श्री श्री ने 6 मई को वॉशिंगटन, डी.सी. में ‘आई स्टैंड फॉर पीस’ अभियान की शुरुआत की। उन्होंने 8 मई को फिलाडेल्फिया को ‘पीस सिटी’ बनाने की प्रतिज्ञा और हमारे समुदाय के भीतर मानसिक स्वास्थ्य, लचीलापन और समग्र कल्याण संकेतकों को मजबूत करने के लिए कार्यक्रमों की शुरुआत के साथ पहल की। दोनों आयोजनों में 2,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया।

श्री श्री ने अपील की, ‘अक्सर यह पाया जाता है कि नकारात्मक मानसिकता वाले लोग सकारात्मक मानसिकता वाले लोगों की तुलना में अधिक सक्रिय होते हैं। समय आ गया है कि शांति की आवाज को जोर से और स्पष्ट रूप से सुना जाए और हमें उस कार्रवाई पर गर्व महसूस करना चाहिए।’





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments