Sunday, November 29, 2020
Home Desh शोधकर्ताओं ने थार रेगिस्तान में बहने वाली नदी का पता लगाया। 1.72...

शोधकर्ताओं ने थार रेगिस्तान में बहने वाली नदी का पता लगाया। 1.72 लाख साल पहले – शोधकर्ताओं ने थार मरूस्थल में 1.72 लाख साल पहले बहने वाली नदी का पता लगाया।


शोधकर्ताओं ने थार मरूस्थल में 1.72 लाख साल पहले बहने वाली नदी का पता लगाया

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

शोधकर्ताओं ने एक लाख 72 हजार साल पुरानी एक नदी का पता लगाया है जो रेटेड में बीकानेर के पास थार रेगिस्तान में बहती थी और संभव है कि वह नदी आसपास के क्षेत्रों में मानव आबादी के लिए जीवन-रेखा रही हो और वहां लोगों के बसने में। सहायक हो सकता है। ये तथ्य तथ्य क्वाटर्नेरी साइंस रिव्यूज़ ’नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए हैं। इसमें थार के रेगिस्तान क्षेत्र में नाल गांव के पास नदी के बारे में जानकारी दी गयी है। जर्मनी के द मैक्स प्लांक इंस्टीट्यूट फॉर द साइंस ऑफ ह्यूमैन हिस्ट्री, TN के अन्ना विश्वविद्यालय और कोलकाता के आईआईएसईआर जैसे संस्थानों के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन से संकेत मिलता है कि पाषाण युग में उस क्षेत्र में आबादी थी जो अब सूअर रेगिस्तान बन गई है।

अध्ययन में मिले साक्ष्य से संकेत मिलता है कि लगभग एक लाख 72 हजार साल पहले तक रेज के बीकानेर के पास एक नदी बहती थी जो कि आधुनिक नदी से लगभग 200 किलोमीटर की दूरी पर है। शोधकर्ताओं ने कहा कि ये निष्कर्ष थार रेगिस्तान क्षेत्र में आधुनिक नदी और सूख चुके घग्गर-हकरा नदी के रास्ते के बारे में सबूत पेश करते हैं। उन्होंने कहा कि मध्य थार रेगिस्तान में बहने वाली नदी उस युग में आबादी के लिए जीवन-रेखा रही होगी। शोधकर्ताओं ने रेखांकित किया कि थार रेगिस्तान के पहले के निवासियों के लिए 'सूख चुकी ’नदियों के संभावित महत्व की अनदेखी की गयी है।

मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के जिम्बोब ब्लिंकहॉर्न ने कहा कि थार रेगिस्तान का एक एक समृद्ध प्रागितिहास रहा रहा है और हम सबूतों की एक विस्तृत श्रृंखला पेश कर रहे हैं कि कैसे पाशाण युग में लोग वहां रहते हैं और उनकी बस्तियां विकसित हुयीं। उन्होंने कहा, "हम जानते हैं कि इस क्षेत्र में रहने वाले के लिए नदियां बहुत महत्वपूर्ण हो सकती हैं लेकिन प्रागितिहास जैसी प्रमुख अवधि के दौरान नदियों की प्रणाली के बारे में हमें बहुत कम जानकारी है। '' शोधकर्ताओं के अनुसार, उपग्रह से मिला है। के अध्ययन से पता लगता है कि थार रेगिस्तान में बहने वाली नदियों का घना जाल था।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है। यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद का नाम बदलने के लिए कहा – योगी आदित्यनाथ के हैदराबाद का नाम बदलने के बयान पर असदुद्दीन ओवैसी का...

हैदराबाद: योगी आदित्यनाथ पर असदुद्दीन ओवैसी: हैदराबाद नगर निकाय चुनाव में बीजेपी के मैराथन प्रचार अभियान के दौरान योगी आदित्यनाथ द्वारा हैदराबाद का...

Q2 GDP: अर्थव्यवस्था में सुधार के बीच बुनियादी उद्योगों की कठिनाइयाँ

देश की अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेतों के बीच बुनियादी क्षेत्रों के प्रमुख उद्योगों का उत्पादन इस बार अक्टूबर महीने में एक साल...

Recent Comments