Monday, September 27, 2021
Home Pradesh Bihar शिशुओं के सम्पूर्ण विकास के जरूरी है स्तनपान

शिशुओं के सम्पूर्ण विकास के जरूरी है स्तनपान

संवाददाता – धर्मेंद्र रस्तोगी

शिशुओं के लिए मां का दूध सर्वोत्तम आहार- सिविल सर्जन

सुपौल,
नवजात से लेकर दो वर्ष तक के बच्चों को उनकी मां से मिलने वाला दूध उनका सर्वोत्तम आहार है। महिलाओं को सलाह दी जाती है कि शिशु जन्म के समय उनमें बनने वाला पहला पीला गाढ़ा दूध कैलेस्ट्रोम अपने बच्चों को अवश्य पिलायें। यह शिशु की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है जो आगे चलकर शिशु मृत्यु दर में कमी लाने में काफी सहायक सिद्ध होता है। यही नहीं अपने शिशु को मां द्वारा स्तनपान कराने से मां को स्तन कैंसर होने का खतरा कम तो होता ही है साथ में माताओं के प्रसवोत्तर शारीरिक पुनगर्ठन में काफी सहायता मिलती है। इस प्रकार स्तनपान यानि अपने बच्चों को उनकी माता द्वारा दूध पिलाया जाना सभी प्रकार से लाभदायक है।

पूर्णतः प्राकृतिक है मां का दूध-
सिविल सर्जन डा. इन्द्रजीत प्रसाद ने कहा मां के शरीर में दूध का बनना पूर्णतः प्राकृतिक प्रक्रिया है। इसमें किसी बाहरी कारणों का कोई हस्तक्षेप नहीं है। इस कारण मां के शरीर में उनके ही शिशु के लिए बनने वाला दूध पर सिर्फ और सिर्फ उस शिशु का ही अधिकार है। इससे उसे वंचित न करें। अपने शिशु को अपना दूध अवश्य पिलायें। शिशु अपने जन्म से 6 माह तक केवल अपने मां के दूध पर ही निर्भर रहता है। इस 6 माह में शिशु के सम्पूर्ण शारीरिक एवं मानसिक विकास की नींव पड़ती है। मां का दूध शिशुओं के लिए एक सुपाच्य आहार है जिससे बच्चों को डायरिया नहीं होता है। वहीं मां का दूध बच्चों की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती प्रदान करने में अपनी अहम भूमिका निभाता है जिससे आने वाले समय में शिशु अन्य कई प्रकार की बीमारियों से ग्रसित नहीं हो पाता है। 6 माह बाद ही शिशुओं को अनुपूरक आहार दिया जाना आरंभ कर दिया जाता है। यह भी शिशुओं के शारीरिक सहित अन्य प्रकार के विकास का एक महत्वपूर्ण पड़ाव होता है। इस दौरान बच्चों को अतिसुपाच्य एवं पौष्टिक तत्वों से भरपूर अनुपूरक आहार दिया जाता है। जैसे- दाल का पानी, अच्छी तरह से पकायी हुई खिचड़ी व खीर आदि। इस प्रकार अनुपूरक आहार के साथ बच्चों को दो साल या उससे अधिक समय तक मां के दूध का मिलना उसके सम्पूर्ण विकास के लिए जरूरी है।

जीवन रक्षक है मां का दूध, अवश्य करायें स्तनपान-
डा. इन्द्रजीत प्रसाद ने बताया शिशुओं को दूध पिलाते रहने से मां के शरीर में दूध बनता रहता है। ऐसा देखा गया है कि बच्चे के दूध पीना छोड़ने के कुछ समय बाद मां के शरीर में दूध बनने की प्रक्रिया अपने-आप बंद हो जाती है। जिन बच्चों को अपने बचपन में मां का दूध पर्याप्त रूप से नहीं मिलता है उनमें बचपन में मधुमेह की बीमारी से ग्रसित हो जाने की प्रवल संभावना रहती है| उन बच्चों का बौद्धिक विकास भी काफीशिशुओं के सम्पूर्ण विकास के जरूरी है स्तनपान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मधुपुर-अहमदाबाद ट्रेन को रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दिखाई हरी झंडी, बैद्यनाथ धाम को सोमनाथ धाम से जोड़ेगी

मधुपुर-अहमदाबाद ट्रेन को रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दिखाई हरी झंडी. (फाइल फोटो)नई दिल्ली: झारखंड (Jharkhand) के मधुपुर (Madhupur) से गुजरात (Gujarat) के...

narendra modi secret of not getting tired: PM Modi Time Management Secret, How Prime Minister Narendra Modi manages his time: बिजी शेड्यूल, मीटिंग्‍स की...

नई दिल्लीविदेश यात्राओं के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम अमूमन व्यस्त रहता है। इसे देखते हुए अक्सर उनके प्रशंसकों में यह जानने...

Movies Calendar: बॉक्स ऑफिस पर झमाझम बरसी फिल्में, दो दिन में इन 18 मूवीज की रिलीज डेट आई सामने

फिल्म का नामरिलीज डेटस्टारकास्टसूर्यवंशीदिवाली, 2021अक्षय कुमार, कटरीना कैफ, रणवीर सिंह, अजय देवगनबंटी और बबली 219 नवंबर, 2021सैफ अली खान, रानी मुखर्जी, सिद्धांत चतुर्वेदी...

Farmers Protest: किसानों का भारत बंद आज, कांग्रेस समेत कई दल आए समर्थन में

कृषि कानूनों के खिलाफ आज 27 सितंबर को 'भारत बंद' का आह्वान. (फाइल फोटो)नई दिल्ली: केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ देश...

Recent Comments