Monday, September 27, 2021
Home Pradesh Bihar विश्व स्तनपान सप्ताह: स्वास्थ्यकर्मी स्तनपान को लेकर कर रहे जागरूक

विश्व स्तनपान सप्ताह: स्वास्थ्यकर्मी स्तनपान को लेकर कर रहे जागरूक

संवाददाता – धर्मेंद्र रस्तोगी

एनएफएचएस—5 की रिपोर्ट जिला में 42.4 फीसदी शिशु ही कर पाते हैं पहले घंटे में स्तनपान:
नियमित स्तनपान से शिशुओं को गंभीर बीमारियों सहित डायरिया व निमोनिया से होता है बचाव:

गया,
विश्व स्तनपान सप्ताह के मद्देनजर जिले के विभिन्न प्रखंडों में आंगनबाड़ी सेविकाओं, आशा तथा स्वास्थ्यकर्मियों की मदद से शिशुओं के स्तनपान कराने के लाभ के विषय में लोगों को जानकारी दी जा रही है। घर घर जाकर नवजात शिशुओं सहित 2 साल तक के उम्र के सभी बच्चों को नियमित स्तनपान कराने के लिए माताओं को प्रेरित किया जा रहा है। स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा पूरे जिले में व्यापक जागरूकता अभियान चलाकर नियमित स्तनपान से शिशुओं को बीमारियों और कुपोषण से दूर रखने का हरसंभव प्रयास किया गया है।

वीएचएसएनडी पर महिलाओं को किया गया जागरूक:
आईसीडीएस जिला समन्वयक सबा सुल्ताना ने बताया बुधवार को जिले के इमामगंज सहित अन्य प्रखंडों में ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता तथा पोषण दिवस पर गर्भवती महिलाओं सहित धात्री महिलाओं को स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा नियमित स्तनपान की जानकारी दी गई। वहीं आंगनबाड़ी सेविकाओं को शिशु के जन्म से एक घंटे के अंदर स्तनपान कराने के लिए माताओं को प्रेरित करने के लिए कहा गया है। साथ ही छह माह तक नियमित रूप से मां का दूध पिलाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। छह माह से अधिक उम्र के बच्चों को अनुपूरक आहार प्रारंभ करने के साथ उन्हें दो साल तक स्तनपान कराने के लिए कहा गया है। लोगों से डिब्बाबंद दूध नहीं पिलाने के लिए कहा जा रहा है। इस बात की भी जानकारी दी जा रही है कि कोविड संक्रमित माताएं भी श्वसन स्वच्छता के नियमों को अपनाते हुए चिकित्सीय परामर्श के साथ स्तनपान करा सकती हैं। माताओं को स्तनपान कराने से पूर्व हाथों को साबुन पानी से धोकर तथा मास्क लगाकर स्तनपान कराने के लिए कहा गया है।

42.4 फीसदी शिशु ही कर पाते हैं पहले घंटे में स्तनपान:
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे—5 की रिपोर्ट के मुताबिक जिला में तीन साल से कम उम्र के 42.4 फीसदी शिशुओं को ही जन्म के पहले घंटे में स्तनपान कराया जाता है। हालांकि यह आंकड़ा पूर्व की तुलना में बढ़ा है लेकिन अभी भी स्तनपान कराये जाने के प्रति और अधिक जागरूकता लाये जाने की जरूरत है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे—4 के मुताबिक यह महज 29 प्रतिशत ही था| वहीं छह माह से कम आयुवर्ग के 67 फीसदी शिशुओं को सिर्फ नियमित स्तनपान कराया जाता है। सर्वे के अनुसार स्तनपान कर रहे छह से 23 माह के 10.4 फीसदी शिशुओं को स्तनपान के साथ पर्याप्त आहार मिल पाता है। शिशु के लिए माता का दूध सर्वोत्तम आहार है। स्तनपान से शिशु का शारीरिक व मानसिक विकास होता है। साथ ही नियमित स्तनपान बच्चों को डायरिया, निमोनिया तथा कुपोषण से बचाता है। यह शिशु के रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

kapil sibal taunts on pm modi un speech: kapil sibal taunts bjp over pm modi speech at un but badly troll on twitter :...

नई दिल्लीसंयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर तंज कसा लेकिन...

Photos: सुहाना खान ने दोस्तो संग न्यू यॉर्क में किया नाइट आउट, ग्लैमरस ड्रेस देख फैन्स के उड़े होश

बॉलिवुड ऐक्टर शाहरुख खान (Shahrukh Khan) की बेटी सुहाना खान (Suhana Khan) ने बीते शनिवार, 25 सितंबर को न्यूयॉर्क में अपने दोस्तों के...

वरिष्ठ स्तर पर महिलाओं की नियुक्ति लैंगिक रूढ़ियों को बदल सकती है: न्यायमूर्ति नागरत्ना

न्यायमूर्ति नागरत्ना 2027 में भारत की पहली महिला प्रधान न्यायाधीश बन सकती हैं. उन्होंने कहा, ‘‘न्यायिक अधिकारियों के रूप में महिलाओं की भागीदारी,...

Latest Hindi News: कांग्रेस पार्टी का फरमान, किसान यूनियन के भारत बंद में शामिल हों कार्यकर्ता – party workers state unit chief congress join...

नयी दिल्लीकांग्रेस ने रविवार को अपने सभी कार्यकर्ताओं, प्रदेश इकाई प्रमुखों और पार्टी से जुड़े संगठनों के प्रमुखों को केंद्र के तीन कृषि...

Recent Comments