Thursday, October 22, 2020
Home Desh राज्यसभा में कृषि विधेयकों पर निर्णय के बाद NDA के साथ संबंध...

राज्यसभा में कृषि विधेयकों पर निर्णय के बाद NDA के साथ संबंध पर विचार करने के लिए SAD: स्रोत – राज्यसभा में कृषि पर्यवेक्षकों के निर्णय के बाद NDA से राहत पर विचार करेगा SAD: सूत्र


राज्यसभा में कृषि प्रधानों के फैसले के बाद एनडीए से राहत पर विचार करेगा SAD: सूत्र

सुखबीर सिंह बादल (फाइल फोटो)

चंडीगढ़:

राज्य सभा में कृषि से संबंधित संगठनोंयकों के भविष्य पर निर्णय होने और अपने कार्यकर्ताओं से परामर्श करने के बाद शिरोमणि अकाली दल (शिअद) इस बारे में विचार करेगा कि वह भाजपा नीत राजग गठबंधन में शामिल रहेगा या नहीं। पार्टी सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। ये विधेयक बृहस्पतिवार को लोकसभा में पारित किए गए और जल्द ही वे राज्य सभा में भी पेश किए जाने की संभावना है। इन समर्थकों के विरोध में शिअद नेता हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय राजनीति से इस्तीफा दे दिया है।

यह भी पढ़ें

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इस वक्त पार्टी की प्राथमिकता किसानों के हितों की रक्षा करना है, ना कि गठबंधन के विषय पर विचार करना। पार्टी के कोर समूह ने यहां आगे की रणनीति और कदमों पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार दोपहर बैठक की, जिसमें कई नेता वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से पंजाब से भी जुडे़। यह पूछे जाने पर कि क्या शिअद राजग से बाहर हो जाएगा, हरसिमरत ने कहा कि इस बारे में पार्टी को निर्णय लेना है और सभी वरिष्ठ नेता इस मुद्दे पर कोई सामूहिक निर्णय नहीं लेंगे।

राज्यसभा सदस्य नरेश गुजराल ने कहा, '' शादी में भी खींचतान होती है … हर राजनीतिक दल को अपने अधिकारों की रक्षा करनी है। '' यह पूछे जाने पर कि क्या शिअद, राजग में बना रहेगा, गुजराल ने कहा, '' अकाली दल इस तथ्य से अवगत है कि आज हमारी सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पीव (चीनी सेना) के सामने खड़ी है। पाकिस्तान, पंजाब में माहौल खराब करने की कोशिश कर रहा है। '' उन्होंने कहा कि पार्टी ऐसा कोई फैसला नहीं करेगी जो सीमावर्ती राज्य पंजाब में माहौल खराब करे। पार्टी के नेता प्रेम सिंह चंदमजरा ने कहा कि शिअद के लिए अभी गठबंधन का मुद्दा प्राथमिकता नहीं है, क्योंकि पंजाब में विधानसभा चुनाव में काफी लंबा है।

वहीं, शिअद सूत्रों ने कहा कि पार्टी राजग में बने रहने के बारे में कोई अंतिम फैसला करने से पहले राज्य सभा में इन सभाओं के भविष्य पर निर्णय को नजरगी है। गौरतलब है कि पंजाब और हरियाणा जैसे राज्यों के किसान इन हमलोंयकों का विरोध कर रहे हैं।

VIDEO: मैं उस कानून का हिस्सा नहीं बन सकता जो किसान विरोधी हो: हरसिमरत कौर बादल

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है, यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

महाराष्ट्र: मुंबई पुलिस ने राजद्रोह के मामले में कंगना रनौत और बहन रंगोली को समन भेजा महाराष्ट्र: राजद्रोह केस में मुंबई पुलिस ने कंगना...

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बांद्रा पुलिस ने राजद्रोह मामले में बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल को समन भेजा।]दोनों...

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास कहते हैं, भारत के दरवाजे पर खड़ा है – रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को कहा कि सरकार और केंद्रीय बैंक की उदार और अनुकूल मौद्रिक एवं...

सब कुछ के बावजूद, लोग अभी भी 'वृक्षारोपण स्थलों पर शादियाँ करते हैं

ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन के पुनरुत्थान ने इस वसंत को कई संघात्मक प्रतीकों के लिए समाप्त कर दिया। वोट और बल से स्मारक...

Recent Comments