Monday, May 17, 2021
Home Desh योगी आदित्यनाथ ने कहा- गोरखपुर के रामगढ़ ताल में उतारेंगे सी-प्लेन

योगी आदित्यनाथ ने कहा- गोरखपुर के रामगढ़ ताल में उतारेंगे सी-प्लेन


योगी आदित्यनाथ ने कहा- गोरखपुर के रामगढ़ ताल में उतारेंगे सी-प्लेन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

गोरखपुर:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गोरखपुर में हो रही महत्वाकांक्षी परियोजना के तहत रामगढ़ ताल में ‘सी प्लेन’ भी गिरेगी। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी ने बुधवार को दो दिवसीय गोरखपुर महोत्सव के समापन समारोह को संबोधित करते हुए गोरखपुर के रामगढ़ ताल में ‘सी प्लेन’ उतारने संबंधी ऐलान किया और कहा कि जल्द ही इस संबंध में प्रक्रिया कर दी जाएगी। । सी-प्लेन हवाई अड्डे के साथ-साथ पानी में भी बंद हो सकेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि गोरखपुर से आज देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए नौ उड़ानें हैं।

यह भी पढ़ें

न्यूज़बीप

कुशीनगर से जल्द ही आंतरिक उड़ान शुरू हो जाएगी और आने वाले दिनों में यदि किसी को आवश्यकता पड़ेगी तो वह सर्किट हाउस के पास से सी-प्लेन पकड़ कर देश के किसी भी कोने में पहुंच जाएगी। मुख्यमंत्री ने लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि कोरोना से लड़ने और बचने के लिए जो संयम, मर्यादा और अनुशासन का पालन किया गया उसी तरह का धैर्य रखते हुए कोरोना के टीके के लिए अपनी बारी का इंतजार करें। उन्होंने कहा, ” मकर संक्रांति के बाद 16 जनवरी से कोरोना पर अंतिम प्रहार के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में कोरोना टीकाकरण का महाभियान शुरू हो रहा है। यह सब के लिए होगा लेकिन टीके के लिए उतावलापन न दिखाएँ, भीड़ न खोजें बल्कि संयम के साथ अपनी बारी की प्रतीक्षा करें। ”

समारोह के दौरान ही मुख्यमंत्री ने रामगढ़ ताल के तट पर प्रदेश के सबसे ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज का समूह लोकार्पण किया। तिरंगे की ऊंचाई 246 फीट (75 मीटर) है और ऊंचाई के लिहाज से यह पूरे देश में 10 वें सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज है। इसके साथ ही उन्होंने नए सवेरा के प्रवेश द्वार और गद्लेगंज के पास स्थित बुध द्वार का वर्ग लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने समारोह की स्मारिका का भी विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वाधीनता आंदोलन को निर्णायक दिशा देने वाली आगामी चार फरवरी की चौरीचौरा की घटना के शताब्दी वर्ष पर पूरे वर्ष के कार्यक्रम होंगे ताकि आजादी दिलाने वाले महापुरुषों के प्रति श्रद्धा निवेदित हो सके। साथ ही इन महापुरुषों के स्मरण को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जाएगा।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है। यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments