Tuesday, January 18, 2022
HomeUttar Pradeshयूपी विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ के बजट का कितना पड़ेगा असर:...

यूपी विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ के बजट का कितना पड़ेगा असर: uttar pradesh ke vidhan sabha chunav me yogi adityanath ke budget ka kitna asar padega


लखनऊ
योगी सरकार ने गुरुवार को विधासनभा सत्र में तोहफों की बारिश की। अनुपूरक बजट का आकार यूं तो 8,479 करोड़ रुपये का है, लेकिन इसका चुनावी विस्तार बहुत बड़ा है। योगी का अनुपूरक बजट पूरी तरह से यूपी विधानसभा चुनाव 2022 को फोकस करते हुए गढ़ा गया है। जिस तरह तोहफों की बारिश हुई है उससे 45 फीसदी से ज्यादा वोटरों को खींचने का प्रयास किया गया है।

सामाजिक सुरक्षा पेंशन की बढ़ोतरी से लेकर भरण-पोषण भत्ते तक के दायरे में आने वालों की संख्या 4.25 करोड़ से अधिक है। यूपी में करीब 14.66 करोड़ वोटर हैं। ऐसे में लाभार्थियों का दायरा ही करीब 29 पर्सेंट है।

सीधे 45 फीसदी वोटरों पर प्रभाव
आम तौर पर विधानसभा चुनाव में 60 से 62 फीसदी के करीब वोटिंग होती है। इसके अनुपात में लाभार्थियों की संख्या करीब 45% के आस-पास होती है। जातीय गणित के इर्द-गिर्द घूमती यूपी की राजनीति में जातीय दीवार को गिराने के लिए वोटरों को लाभार्थी में बदलने के आजमाए नुस्खे को भाजपा ने एक बार फिर आजमाया है। ध्रुवीकरण के साथ मिलकर यह और धारदार हो जाता है।

किसकी कितनी संख्या
आंकड़े देखें तो यूपी में 30 लाख 34 हजार निराश्रित महिलाओं को पेंशन का लाभ मिलेगा। वृद्धावस्था पेंशन से 55 लाख 77 हजार लोग लाभांवित होंगे। वहीं आठ लाख दिव्यांगजनों को पेंशन मिलेगी। चार करोड़ के आसपास श्रमिकों को लाभ मिलेगा, यह संख्या सबसे ज्यादा है।

कामगारों को रुपये 500/माह
मुख्यमंत्री ने विधानसभा अनुपूरक बजट पर कहा कि असंगठित क्षेत्र के कामगार मजदूरों को जनवरी से अप्रैल तक 500 रुपये/ माह का भरण-पोषण भत्ता दिया जाएगा। चार महीने में श्रमिकों को 2,000 रुपये मिलेंगे। इसके लिए अब तक 2.50 करोड़ से अधिक कामगारों का रजिस्ट्रेशन करवाया जा चुका है। ये रकम सीधे कामगारों के खातों में पहुंचेगी। बजट में इसके 4,000 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है।

निराश्रित महिला पेंशन अब रु. 1000
सीएम ने कहा कि प्रदेश में अब निराश्रित महिला पेंशन 500 से बढ़ाकर 1000 रुपये की जाएगी। पिछली सरकार में 17.31 लाख महिलाओं को निराश्रित पेंशन मिलती थी। अब यह पेंशन 30.34 लाख महिलाओं को दी जा रही है। इसी तरह 11 लाख दिव्यांगजनों को भी दोगुनी पेंशन मिलेगी। पिछली सरकार में लाभार्थी दिव्यांगजनों की संख्या महज 8 लाख थी। कुष्ठावस्था पेंशन भी 2,500 से बढ़ाकर 3,000 रुपये/माह की जाएगी।

वृद्धावस्था पेंशन भी दोगुनी

राज्य सरकार वृद्धावस्था पेंशन को भी दोगुना करेगी। 55.77 लाख लोगों की पेंशन 500 से बढ़ाकर 1000 रुपये की जाएगी। इसका ऐलान करते हुए मुख्यमंत्री ने तंज किया कि हम बुर्जुगों का सम्मान करते हैं। हम उन लोगों में नहीं कि पिता बुजुर्ग हो गए तो धक्का मारकर कुर्सी से हटा दें। उन्होंने कहा कि गरीबी रेखा से नीचे की महिलाओं को असाध्य रोग होने पर इलाज में अगर आयुष्मान कार्ड की सीमा पार हो जाती है। तो ऐसी महिलाओं के लिए राज्य सरकार 5 लाख रुपये का अतिरिक्त कवर देगी।

इनका भी बढ़ सकता है मानदेय
आशा 750
आशा संगिनी 750
आंगनबाड़ी कार्यकत्री 500
मिनी आंगनबाड़ी कार्यकत्री 500
शिक्षा मित्र 2,000
एमडीएम रसोइया 500
अल्पकालिक अनुदेशक 2,000
पीआरडी जवान 1500



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments