Saturday, September 19, 2020
Home Pradesh Uttar Pradesh यूपी में गैर-सरकारी पुलिसकर्मियों को सजा देने का इस अफसर ने निकाला...

यूपी में गैर-सरकारी पुलिसकर्मियों को सजा देने का इस अफसर ने निकाला ये अनोखा तरीका | आगरा – समाचार हिंदी में


यूपी में गैर-सरकारी पुलिसकर्मियों को सजा देने का इस अफसर ने अनोखा तरीका निकाला है

इसी तरह के मनसुखपुरा थाने में सांप-बिच्छू निकलते हैं।

लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों की पोस्टिंग आगरा के एक विशेष पुलिस स्टेशन (पुलिस स्टेशन) में कर दी जाती है। यह ऐसा पुलिस स्टेशन है जहां पुलिस वाले कुर्सी पर बैठकर पैर भी नहीं लटका सकते।

आगरा। किसी थाना इंचार्ज के इलाके में कोई बड़ी लूट या मर्डर (मर्डर) हो जाए तो इस पुलिस अफसर (पुलिस अधिकारी) को गिरफ्तार कर लिया जाता है। गसेट के दौरान सिपाहियों की लापरवाही को भी यह अफसर अनदेखा नहीं करते हैं। यही कारण है कि लापरवाह पुलिसकर्मियों (पुलिसकर्मियों) को चुपचाप रखने के लिए इस पुलिस अफसर ने एक अनोखा तरीका निकाला है। तरीका यह है कि लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों की पोस्टिंग आगरा के एक विशेष पुलिस स्टेशन (पुलिस स्टेशन) में कर दी जाती है। यह ऐसा पुलिस स्टेशन है जहां पुलिस वाले कुर्सी पर बैठकर पैर भी नहीं लटका सकते। कारण है हर हर रेंगने वाले सांप (सांप) – बिच्छू (बिच्छू)।

बीहड़ में शहर से 80 किमी दूर मनसुखपुरा थाना है

कभी इस थाने में बतौर दरोगा तैनात रहे रिटायर्ड डीएसपी वीके कुमार बताते हैं, “बीहड़ के डाकुओं पर नकेल कसने के लिए मनसुखपुरा थाने की स्थापना की गई थी। यह थाना यूपी के आगरा और राजस्थान के राजाखेड़ा के बॉर्डर पर है। डाकू तो अब नहीं रहा, लेकिन बीहड़ और जंगली इलाका होने के कारण इस थाने में सांप और बिच्छू बहुत निकलते हैं। रात की बात तो छोड़िए साहब दिन में भी पुलिस वाले अपराधियों के पीछे भागने की बजाए थाने में रेंगने वाले सांप-बिच्छू पकड़ने में ही लगे रहते हैं। ”

ये भी पढ़ें: – यूपी: दोस्त का मर्द करने के लिए 3 महीने में 25 बार खिलाई दावत, 26 वीं बार कहा तो …डराने वाले हैं हिरासत में मौत के आंकड़े, यहां औसतन हर रोज आते हैं 4-5 शिकायतें

सांप-बिच्छू पकड़कर मटके में करते हैं

मनसुखपुरा थाना में तैनात होमगार्ड से लेकर थाना प्रभारी तक उपस्थिति रहते हैं। अगर ज़रा भी सुस्ती दिखाई तो सही बिच्छू का डंक झेलना पड़ता है। पुलिस और थाने की हवालात में बंद बदमाशों को काट न लें इसके लिए एक या दो पुलिस के जवान सांप-बिच्छू पकड़ने में लगे रहते हैं। इसके लिए थाने के गेट पर ही एक मटका रखा हुआ है। सांप-बिच्छुओं को पकड़कर मटके में बंद कर देते हैं। बाद में उन्हें चंबल के बीहड़ इलाके में छोड़ने जाना पड़ता है।

बरसात के मौसम में रोज़ाना निकलते हैं औसतन 50 बिच्छू और 8 से 10 सांप

थाने पर मौजूद पुलिसकर्मियों के अनुसार आम दिनों में यहां एक-दो सांप और 5 से 6 बिच्छू निकलते हैं। लेकिन बरसात के मौसम में तो यह हाल हो जाता है कि एक बिच्छू पकड़कर मटके में डाला नहीं कि दूसरा निकल आता है। बिच्छू तो औसतन रोज़ाना 50 से 60 तक निकलते हैं। सांप भी 8 से 10 तक निकलते हैं। यही कारण है कि रात के वक्त ज्यादा चौकस रहना पड़ता है, क्योंकि उस समय बिच्छू या सांप देखना मुश्किल हो जाता है।

हवालात में बंद बदमाशों से किए गए निगरानी है

जानकारों के मुताबिक चंबल किनारे की काली मिट्टी है। इसी के कारण बारिश के मौसम में काले बिच्छू और सांप निकलते हैं। काला बिच्छू इतना जहरीला होता है कि उसके काटने पर दो दिन तक इंसान होश में नहीं आता है। शाम होते ही पुलिस के जवान चारपाई पर जूते पहनकर लेट जाते हैं। हवालात में बंद बदमाशों को हिदायत दी जाती है कि वह रात भर जागते रहें, वरना सांप-बिच्छू काट सकते हैं। उनकी मदद के लिए पुलिस वाले सिर्फ एक दीपक जला देते हैं, जिससे उसे दिखाई देता है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पीएम किसान सम्मान निधि सूची किस्त की स्थिति में अपने नाम की जाँच कैसे करें aadhar सही नाम अपडेट करें

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम के तहत मोदी सरकार किसानों के खाते में 6000 रुपये सालाना 2000...

पत्रकार राजीव शर्मा चीनी सरकारी अखबार के लिए लिखते थे, उन्हें चीन से बड़ी रकम मिलती थी – चीनी सरकार के पत्र के लिए...

पत्रकार राजीव शर्मा, एक चीनी महिला और एक नेपाली नागरिक को जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया गया है।नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस (दिल्ली...

Recent Comments