Monday, May 17, 2021
Home Pradesh Uttar Pradesh यूपी पंचायत चुनव परिणाम 2021: काशी, अयोध्या और मथुरा में बीजेपी की...

यूपी पंचायत चुनव परिणाम 2021: काशी, अयोध्या और मथुरा में बीजेपी की करारी शिकंजा, सपा-बसपा का प्रदर्शन


वाराणसी / मथुरा / अयोध्या। उत्तर प्रदेश में पिछले महीने चार चरणों में हुए पंचायत चुनाव की मतगणना का सिलसिला अभी जारी है और लगातार चौंकाने वाले परिणामजे (यूपी पंचायत चुनव परिणाम 2021) सामने आ रहे हैं। इस बीच भारतीय जनता पार्टी को वाराणसी, अयोध्या और मथुरा में (वाराणसी, मथुरा और अयोध्या) करारी विवादित है। जबकि इन जिलों पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (सीएम योगी) ने अपने अब तक के चार साल के कार्यकाल में खासी मेहरबानी दिखाई है। भाजपा सरकार के एजेंडे में शामिल इन तीनों जिलों में समाजवादी पार्टी और बसपा को मिली जीत एक बड़ा सियासी संदेश दे रही है। रामनगरी अयोध्या में भाजपा को जिला पंचायत चुनाव में करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है। अयोध्या में जिला पंचायत की 40 सीटें हैं, जिसमें से 24 पर समाजवादी पार्टी को जीत मिली है, तो भाजपा के खाते में सिर्फ छह सीट आयी हैं। यह नहीं है, यहाँ 12 सीटों पर निर्दलीय प्रकृतयाशी जीतने में सफल रहे हैं। इसी अयोध्या में भाजपा का खेल बागियों ने बिगाड़ा है, इस्की पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर 13 सीटों पर बागी मैदान में थे। हैरानी की बात है कि एक तरफ अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो रहा है, तो दूसरी तरफ जनता ने भाजपा को जिला पंचायत अधिनक्ष की रेस से लगभग बाहर कर दिया है। पीएम मोदी की काशी में सपा का वोट अयोधियन के बाद काशी में भी जिला पंचायत चुनाव के नतीजे भाजपा के लिए भयानक साबित हो रहे हैं। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जिला पंचायत की 40 सीट हैं, जिसमें से सपा ने 14, भाजपा ने 8, अपना दल (एस) ने तीन, आम आदमी पार्टी और यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव समाज पार्टी ने एक -एक सीट पर कब्ज़ा किया है। जबकि तीन पर निर्दलीय जीते हैं। यही नहीं, पिछली बार यानी 2015 में भाजपा को काशी में हार मिली थी, लेकिन योगी सरकार बनने के बाद जिला पंचायत अधिनक्ष की कुर्सी भाजपा ने सपा से छीन ली थी।मथुरा में ऐसा हाल है मथुरा की भगवान श्रीकृष्ण की वजह से जीवित में खासी पहचान है। यही नहीं, यूपी की योगी सरकार मथुरा के विकास के लिए भी लगातार काम कर रही है, लेकिन जिला पंचायत चुनाव में नतीजे विपरीत आए हैं, जो कि भाजपा सरकार के लिए एक बड़ा सियासी संदेश है। मथुरा में बसपा ने 12 सीट पर बाजी मारकर अपना दम दिखाया है, तो आरएलडी ने 9 सीट पर जीत दर्ज की है। भाजपा ने यहां सिर्फ 8 सीट पर कब्ज़ा कर सकी है। इसके अलावा सपा ने एक सीट तो तीन पर निर्दलीय अपना परचम लहराने में सफल रही हैं। हालांकि, काशी, अयोध्या और मथुरा भाजपा सरकार के एजेंडे में शीर्ष पर हैं और उन्होंने धार्मिक कारण से महत्वपूर्ण इन जिलों में विकास के लिए कोई कोताही नहीं रखी, लेकिन पंचायत चुनाव में भाजपा की विरोधी चर्चा में हैं। यही नहीं, यूपी पंचायत चुनाव को 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल माना जा रहा है और समाजवादी पार्टी ने जोरदार टक्‍कर देकर अपनी ताकत का एहसास कर दिया है। कई जगह बसपा ने भी दम दिखाया है, लेकिन कांग्रेस ज्यादातर जगह बेदम दिख रही है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

2021 वोक्सवैगन टी-आरओसी की भारत में लॉन्च करने के लिए,…

डिजिटल नई दिल्ली। संचार के मामले में नियामक वोक्सवैगन (क्वाक्सवेगन) ने मार्च 2021 में टी-रॉक (टी-रोक) को भारत में इस्तेमाल किया...

छोटे कद का बड़ा धमाल, इन स्‍तंभों में कैमरा ने कहा कि कम माटा

बाजार में तेज गति से चलने वाला ने धमाल मचाते हुए अपने दिमाग को हल्का कर दिया।'' ऐरान ने जहां 20...

Recent Comments