Saturday, September 19, 2020
Home Desh मुनव्वर राना ने पीएम मोदी से अपील की कि अयोध्या में मस्जिद...

मुनव्वर राना ने पीएम मोदी से अपील की कि अयोध्या में मस्जिद की जमीन पर राजा दशरथ के नाम पर एक अस्पताल बनाया जाए – अयोध्या में मस्जिद की जगह राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बने: मुनव्वर राणा


अयोध्या में मस्जिद की जगह राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बना: मुनव्वर राना

मशहूर शायर मुनव्वर राना ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कई मांगे की हैं।

नई दिल्ली:

मशहूर शायर मुनव्वर राना ने उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को अयोध्या के धन्नीपुर गांव में दी गई पांच एकड़ जमीन पर मस्जिद की जगह राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनाये जाने की मांग की है। साथ ही, उन्होंने इस सिलसिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मस्जिद बनाने के लिए यह जमीन दी गई है। राना ने मंगलवार को '' भाषा '' से बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आठ अगस्त को लिखित पत्र में उन्होंने कहा है कि धन्नीपुर गांव में वक्फ बोर्ड को मिली जमीन पर राजा दशरथ के नाम से अस्पताल बनवा दिया जाएगा। उन्होंने कहा, "यूं भी सरकार द्वारा दी गई या जबरदस्त हासिल की गई जमीनों पर मस्जिदों का निर्माण नहीं होता है।" राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल का निर्माण क्यों होना चाहिए, इस बारे में पूछे जाने पर राना ने कहा, 'लंबे समय से मुसलमानों के खिलाफ यह बात प्रचारित की जा रही है कि उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनाई थी, लेकिन सच्चाई यह है कि मुसलमान किसी भी अवैध कब्जे की जमीन पर मस्जिद नहीं बनाते हैं। '

यह भी पढ़ें

उन्होंने कहा कि भारत के मुस्लिम हमेशा से अपने वतन, यहां रहने वाले लोगों और उनके आस्था का पूरा सम्मान करते हैं। यह संदेश देने के लिए वक्फ बोर्ड को मिली जमीन पर मस्जिद के बजाय भगवान राम के पिता राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनवाया जाए। उन्होंने कहा कि जहां तक ​​मस्जिद का सवाल है, तो वह इसके निर्माण के लिए रायबरेली में सई नदी के किनारे अपनी साढ़े पांच बीघा जमीन देने को तैयार हैं। यह जमीन उनके बेटे तबरेज के नाम है। राना ने पत्र में कहा 'मैं चाहता हूं कि इस जमीन पर बाबरी मस्जिद की एक ऐसी शानदार इमारत बनाई जाए कि दुनिया के जो लोग इधर से गुजरें वे बाबरी मस्जिद का दीदार कर सकें।'

राना ने प्रधानमंत्री को लिखित लिखा पत्र में यह भी कहा कि जिस सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि के पक्ष में निर्णय दिया है, वह अपनी सम्मान बढ़ाने के लिए देश में वक्फ संपत्तियों के अवैध कब्जे को जल्द से जल्द खाली करवाए तो समुदाय उनका इस्तेमाल भलाई के लिए करे। । कर संभव है।

साहित्य अकादमी डिग्री से सम्मानित किए जा चुके शायर राना ने बाबरी मस्जिद संबंधी मुकदमे में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की भूमिका पर भी संदेह व्यक्त किया। शायर ने पत्र में प्रधान से यह भी मांग की कि एक नए वक्फ बोर्ड का गठन कर तमाम वक्फ संपूरकों को उससे संबद्ध कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि इसमें उनका कोई निजी विचार नहीं है और उन्हें बोर्ड में कोई पद भी नहीं चाहिए। वह सिर्फ जमीन देने वाला व्यक्ति ही बने रहना चाहते हैं।

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है, यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सेवा भारती झुग्गी बस्तियों में स्वरोजगार के मार्ग को सुविधाजनक बना रही है – मलम बस्तियों में स्वरोजगार का मार्ग सुलभ कर रही है,...

आरएसएस से जुड़े संगठन सेवा भारती लोगों को कर रही है जागरुक, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (फाइल फोटो)नई दिल्ली: हम नौकरी मांगने की...

सोने की कीमत आज 18 सितंबर 2020 को आज किस कीमत पर बिक रही है

सोने की कीमत आज 18 सितंबर 2020: सोने-चांदी के रेट में गिरावट आज हुई। आज देशभर के सर्राफा मैदान में सोने-चांदी की...

3 महीने से वेतन नहीं मिलने के कारण पिता ने 2 मासूम बच्चों को सड़क पर छोड़ दिया – 3 महीने से सैलरी नहीं...

पुलिस ने बच्चों को सुरक्षित माता-पिता का पास पहुंचा दियानई दिल्ली: दिल्ली के 5 शाम नाथ मार्ग पर एक पिता डेढ़ साल के...

Recent Comments