Thursday, June 30, 2022
HomeBiharमुख्यमंत्री ने त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम...

मुख्यमंत्री ने त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम का किया शुभारंभ,मुजफ्फरपुर में भी हुआ सीधा प्रसारण

ध्रुव कुमार सिंहमुजफ्फरपुर

 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के नवनिर्वाचित जनप्रतिनिधियों के उन्मुखीकरण कार्यक्रम का शुभारंभ किया,जिसका प्रसारण मुजफ्फरपुर जिले के जिला स्तरीय, प्रखंड एवं ग्राम पंचायत में आयोजित कार्यक्रम में  वेबकास्टिंग के माध्यम की गई। जिला पदाधिकारी  प्रणव कुमार उप-विकास आयुक्त आशुतोष द्विवेदी, जिला परिषद अध्यक्ष, जिला परिषद सदस्य आदि भी मुजफ्फरपुर समाहरणालय सभा कक्ष में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में वेबकास्टिंग के माध्यम जुड़ें, वही प्रमुख,  उप-प्रमुख, पंचायत समिति के सदस्य एवं प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी, कर्मी प्रखंड मुख्यालय से कार्यक्रम में वेबकास्टिंग से जुड़ें, साथ ही ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम पंचायत मुखिया उप-मुखिया. सरपंच. पंच. ग्राम पंचायत सदस्य. वार्ड सदस्य एवं पंचायत स्तरीय कर्मी अपने पंचायत के पंचायत सरकार भवन,  सामुदायिक भवन अथवा अन्य सरकारी भवनों में कार्यक्रम में वेबकास्टिंग के माध्यम से जुड़ें एवं मुख्यमंत्री के संबोधन को सुना। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्मुखीकरण कार्यक्रम में त्रिस्तरीय पंचायती राज जनप्रतिनिधियों के उनके दायित्व,कर्तव्य एवं अधिकार के साथ-साथ योजनाओं की भी जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि त्रिस्तरीय पंचायती राज प्रतिनिधियों को शराबबंदी को प्रभावकारी रूप से लागू करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी चाहिये। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने भी हमेशा शराब का विरोध किया। गांधी जी का कहना था कि शराब आदमियों से ना सिर्फ उसका पैसा छीन लेता है है बल्कि उसकी बुद्धि भी हर लेता है। शराब पीने वाला इंसान हैवान हो जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार शराब लगभग 200 बीमारियों को बढ़ाती है। शराब का सेवन कैंसर एड्स हेपेटाइटिस, टीवी लीवर एवं दिल की बीमारियों, मानसिक बीमारी,माता शिशु से संबंधित बीमारियों के साथ-साथ हिंसक प्रवृत्ति को भी बढ़ाता है, साथ ही महिलाओं के साथ हिंसा में इसकी अहम भूमिका है।उन्होंने त्रिस्तरीय जनप्रतिनिधियों को सामाजिक बुराइयां यथा बाल विवाह उन्मूलन दहेज प्रथा उन्मूलन अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने का भी अपील किया। कहा कि यह एक महत्वपूर्ण चुनौती है,जिसे हम सभी को मिलकर समाधान करना है।  हम त्रिस्तरीय पंचायती राज प्रतिनिधि मिलकर ग्राम स्वराज के सपने को साकार कर सकते है। कार्यक्रम में उपस्थित जनप्रतिनिधियों को सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा नशा मुक्ति, दहेज प्रथा उन्मूलन एवं बाल विवाह उन्मूलन हेतु समाज सुधार अभियान से संबंधित लीफलेट फोल्डर भी वितरण किया गया। इसके पूर्व जिलाधिकारी, उप-विकास आयुक्त एवं जिला अध्यक्ष ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया. इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री कुमार ने कहा कि पंचायती राज संस्था समाज का एक अभिन्न अंग है। सभी तरह के कार्यो में, योजनाओं के क्रियान्वयन में उक्त संस्था का महत्वपूर्ण योगदान है। गांव का विकास से देश का विकास होता है। पंचायती राज संस्थाओं से चुने हुए प्रतिनिधियों के माध्यम से गांव के विकास का पथ प्रशस्त होता है। इससे समृद्ध राष्ट्र की संकल्पना को मूर्त रूप मिलती है। सरकार के महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन में पंचायती राज संस्थाओं की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है। पंचायत राज संस्थाओं को सुदृढ़ करने एवं उसके सशक्तिकरण के लिए सरकार प्रयासरत है.कार्यक्रम में जिला पंचायती राज पदाधिकारी सुषमा कुमारी, जिला जनसंपर्क अधिकारी कमल सिंह सहित सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Attachments area

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments