Saturday, December 5, 2020
Home Business मंडी दर आज त्योहारी मांग के कारण सरसों मूंगफली की कीमतों सहित...

मंडी दर आज त्योहारी मांग के कारण सरसों मूंगफली की कीमतों सहित सभी तेल तिलहन में तेजी है


त्योहारी मांग के साथ साथ एक्सप मांग बढ़ने के बीच दिल्ली तेल तिलहन बाजार में शनिवार को लगभग सभी तेल तिलहनों में तेजी दिख रही है। बाजार सूत्रों ने कहा कि विदेशी विमानों में मूंगफली दाना के साथ साथ मूंगफलीाइल्स की भारी मांग है और मू नंबर एक गुणवत्ता वाले मूंगफली दाने की एक्स के लिए मांग में भारी वृद्धि होने के कारण मूंगफली तेल तिलहन की कीमतों में पर्याप्त सुधार आया है।

सूत्रों ने कहा कि पूरी दुनिया में हल्के हल्के की भारी मांग है। हल्के रोगों में सबसे सस्ता होने के कारण भी सोयाबीन की खपत में पिछले साल के मुकाबले 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। सूरजमुखी फसल के कम उत्पादन होने, सरसों जैसे हल्के तेल में 'ब्लेंडिंग की मांग बढ़ने और उत्तर भारत के मौसम की वजह से सोयाबीन तेल की मांग के बढ़ने से इसके तेल की कीमतों में तेजी आई है।

यह भी पढ़ें: सब्जियों के साथ दालें भी हुईं गंध, प्याज के भाव में सबसे ज्यादा उछाल

उन्होंने कहा कि सरसों दाना की जम्मू-कश्मीर की मांग बढ़ी है जहां हरियाणा से 6,250 रुपये क्विंटल के भाव सरसों दाना की बिक्री की गई है। जयपुर की मंडी में सरसों का भाव 6,000 रुपये प्रति क्विंटल चल रहा है। इस मांग के साथ साथ विशेष रूप से उत्तर भारत में त्यौहारी मांग के कारण सरसों तेल तिलहन के भाव में पर्याप्त लाभ दर्ज हुआ। बेपड़ता कारोबार के कारण CPCO और पामोलीन के भाव में भी सुधार दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें: शिशु क्लिक दाखिल करने की समय-सीमा 31 दिसंबर तक बढ़ी

सूत्रों ने कहा कि सूरजमुखी का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य के हिसाब से 150 रुपये किलो बैठता है जबकि शैलपी के हिसाब से मूंगफली तेल का भाव भी 150 रुपये किलो बैठता है और सरसों तेल जीएमपी के हिसाब से लगभग 120-125 रुपये प्रति किलो बैठता है। दूसरी ओर विदेशों से आयात होने वाली सीपीओ का भाव नगंगे 81 रुपये और आगे होने वाले सोयाबीन डीगम का भाव 93.20 रुपये बैठता है।

उन्होंने कहा कि जब सीपीओ और सोयाबीन डीगम जैसे कर्मचारियों के भाव घ्ररेलूओं के मुकाबले काफी सस्ते बैठे हैं तो फिर आत्मनिर्भरता के बारे में भी नहीं सोचना चाहिए। आत्मनिर्भरता के लिए सरकार को सस्ते सौदे को घरेलू बीमारियों के मुकाबले प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए कदम उठाना चाहिए और साथ ही घरेलू तेल तिलहनों के बाजार विकसित करने की ओर ध्यान देना चाहिए। यह काम सस्ता होने को हतोत्साहित करने, तिलहनों का स्टॉक निर्मित करने से ही होगा। इस ओर ध्यान न दिये जाने के कारण ही आज लगभग 70 प्रतिशत तेल मिलें बंद होने की कगार पर हैं।

तेल तिलहन बाजार में थोक भाव इस प्रकार रहा- (भाव-क्विंटल प्रति क्विंटल)

  • सरसों तिलहन – 5,900 – 5,950 (42 प्रतिशत का भाव) रु।
  • मूंगफली दाना – 5,475- 5,525 रुपये।
  • मूंगफली तेल मिल डिलीवरी (गुजरात) – 13,750 रुपये।
  • मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,120 – 2,180 रुपये प्रति टिन।
  • सरसों तेल दादरी- 12,000 रुपये प्रति क्विंटल।
  • सरसों पक्की घानी- 1,815 – 1,965 रुपये प्रति टिन।
  • सरसों कढ़ी घणी- 1,935 – 2,045 रुपये प्रति टिन।
  • तिल मिल डिलीवरी तेल- 11,000 – 15,000 रुपये।
  • सोयाबीन तेल मिल डिलीवरी दिल्ली- 10,500 रुपये।
  • सोयाबीन मिल डिलीवरी इंदौर- 10,200 रुपये।
  • सोयाबीन तेल डीगम- 9,320 रुपये।
  • सीपीओ एक्स-कांडला- 8,100 रुपये।
  • बिनौला मिल डिलीवरी (हरियाणा) – 9,280 रुपये।
  • पलोलीन आरबीडी दिल्ली- 9,500 रुपये।
  • पालोलीन कांडला- 8,700 रुपये (बिना जीएसटी के)।
  • सोयाबीन तिलहन मिल डिलीवरी भाव 4,300 – 4,325 लुज में 4,170 – 4,200 रुपये।
  • मक्का खल (सरिस्का) – 3,500 रुपये



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

एयर इंडिया के स्थानीय यूनियनों ने सदस्यों को दी बोली से दूर रहने की सलाह दी

नई दिल्ली / मुंबई, 5 दिसंबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया के पायलट यूनियनों ने अपने सदस्यों को सलाह दी...

कुछ इस तरह की संसद भवन की नई भागीदारी होगी, 10 दिसंबर को पीएम मोदी भूमि पूजन करेंगे

नए संसद भवन का डिजाइन त्रिभुज आकार का होगा।नई दिल्ली: भारत ने नए संसद भवन की पहली तस्वीर सामने आ गई है। ...

Recent Comments