Tuesday, January 31, 2023
HomeUttar Pradeshभारतीय संस्कृति में प्रकाश को ज्ञान के प्रतीक के रूप में माना...

भारतीय संस्कृति में प्रकाश को ज्ञान के प्रतीक के रूप में माना गया-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने आजादी के अमृत महोत्सव की श्रृंखला में
लोक भवन पर डायनमिक फसाड लाइटिंग का लोकार्पण किया
आज का दिन अत्यन्त महत्वपूर्ण, दुनिया में हर्षोल्लास के साथ
क्रिसमस का आयोजन, पूरा देश पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्धेय अटल जी
की जयन्ती सुशासन दिवस के रूप में मना रहा, महान शिक्षाविद व
समाजसेवी पं0 मदन मोहन मालवीय जी की भी आज जयन्ती: मुख्यमंत्री
11 अगस्त, 2022 को विधान भवन में फसाड लाइटिंग का कार्य पूरा हो
जाने से पर्यटकों व नागरिकों के लिए विधान भवन आकर्षण का केन्द्र बना
फसाड लाइटिंग की व्यवस्था भवनों का सौन्दर्य बढ़ाती है, इससे आम जनमानस में शासन की सकारात्मक छवि बनती, लोगों में सकारात्मक भाव जागृत होता
लोक महत्व व शासन-प्रशासन से जुड़े भवनों व पर्यटक स्थलों
को फसाड लाइटिंग से जोड़कर आकर्षक बनाया जाए
इन भवनों को सकारात्मक ऊर्जा के केन्द्र के रूप में विकसित करके आम जनमानस
के मन में उ0प्र0 की छवि को विकासोन्मुख प्रदेश के रूप में आगे बढ़ाएंगे
डायनमिक फसाड लाइटिंग के लोकार्पण अवसर पर नेपथ्य
में राष्ट्रगीत और श्रद्धेय अटल जी की कविताएं गुंजायमान रहीं
लखनऊ:  
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां आजादी के अमृत महोत्सव की श्रृंखला में लोक भवन पर डायनमिक फसाड लाइटिंग का लोकार्पण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज का दिन अत्यन्त महत्वपूर्ण है। दुनिया में क्रिसमस का आयोजन हर्षोल्लास के साथ किया जा रहा है। आज पूरा देश पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्धेय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयन्ती को सुशासन दिवस के रूप में मना रहा है। महान शिक्षाविद व समाजसेवी पं0 मदन मोहन मालवीय जी की भी आज जयन्ती है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 11 अगस्त, 2022 को विधान भवन में फसाड लाइटिंग का कार्य पूरा हुआ था। तब से लखनऊवासियों और लखनऊ आने वाले पर्यटकों व नागरिकों के लिए उत्तर प्रदेश का विधान भवन आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। उत्तर प्रदेश विधान भवन के बाद लोक भवन प्रदेश की व्यवस्था के संचालन का केन्द्र बिन्दु है। लोक भवन मुख्य रूप से मुख्यमंत्री कार्यालय और सचिवालय के रूप में कार्य करता है। लोक भवन में फसाड लाइटिंग राष्ट्रीय पर्वों पर की जाती रही है। फसाड लाइटिंग की व्यवस्था न केवल इन भवनों के सौन्दर्य को बढ़ाती है, बल्कि इससे आम जनमानस के मन में शासन की सकारात्मक छवि भी बनती है, लोगों के मन में सकारात्मक भाव जागृत होता है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारतीय संस्कृति में प्रकाश को ज्ञान के प्रतीक के रूप में माना गया है। प्रकाश, हमेशा हमें आगे बढ़ने व सकारात्मक सोच के साथ कार्य करने के लिए प्रेरित करता है। प्रदेश सरकार का प्रयास है कि लोक महत्व व शासन-प्रशासन से जुड़े भवनों व पर्यटक स्थलों को फसाड लाइटिंग से जोड़कर आकर्षक बनाया जाए। इन भवनों को सकारात्मक ऊर्जा के केन्द्र के रूप में विकसित करके आम जनमानस के मन में उत्तर प्रदेश की छवि को विकासोन्मुख प्रदेश के रूप में आगे बढ़ाएंगे।
डायनमिक फसाड लाइटिंग के लोकार्पण अवसर पर नेपथ्य में राष्ट्रगीत और श्रद्धेय अटल जी की कविताएं गुंजायमान रहीं।
इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, केन्द्रीय आवासन एवं शहरी कार्य राज्यमंत्री श्री कौशल किशोर, प्रदेश के जल शक्ति मंत्री श्री स्वतंत्र देव सिंह, मत्स्य मंत्री श्री संजय निषाद, सहकारिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री जे0पी0एस0 राठौर, नगर विकास राज्यमंत्री श्री राकेश राठौर गुरु, लोक निर्माण राज्यमंत्री श्री बृजेश सिंह, ग्राम्य विकास राज्यमंत्री श्रीमती विजय लक्ष्मी गौतम, पूर्व मंत्री श्री आशुतोष टण्डन, लखनऊ की महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, मुख्य सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्र, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री मनोज कुमार सिंह, सलाहकार मुख्यमंत्री श्री अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सचिवालय प्रशासन श्री हेमन्त राव, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह व सूचना श्री संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव नगर विकास श्री अमृत अभिजात, सूचना निदेशक श्री शिशिर, अपर सूचना निदेशक श्री अंशुमान राम त्रिपाठी सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी तथा स्कूली बच्चे उपस्थित थे।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments