Saturday, December 5, 2020
Home Desh बिहार विधानसभा चुनाव २०२०: क्यों यह बिहार चुनाव में नीतीश कुमार बनाम...

बिहार विधानसभा चुनाव २०२०: क्यों यह बिहार चुनाव में नीतीश कुमार बनाम हर कोई – बिहार चुनाव में इस बार नीतीश कुमार बनाम आल क्यों है?


आधिकारिक तौर पर उनके लिए मुख्य चुनौती पूर्व उप मुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव हैं, जो कांग्रेस और वाम दल समर्थित महागठबंधन के सीएम पद के उम्मीदवार हैं। लेकिन तेजस्वी के अलावा कई सियासी खिलाड़ी हैं जो नीतीश का किला ढाहने के लिए चहुं और हमला कर रहे हैं। इनमें रालोसपा के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा हैं, जिन्होंने मायावती की पार्टी बसपा और एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी से हाथ मिलाया है। कुशवाहा के अलावा जन अधिकार पार्टी के मुखिया पप्पू यादव, जिन्होंने भीम आर्मी के चंद्रशेखर आजाद रावण से हाथ मिलाया है, भी नीतीश के खिलाफ हवा बनाने में जुटे हैं।

तेजस्वी यादव का बीजेपी पर पलटवार, पहले बताओ सीएम का चेहरा कौन? नीतीश ने तो हाथ खड़े कर दिए

उनके अलावा नीतीश कुमार के लिए सबसे ज्यादा 37 साल के चिराग पासवान हैं, जो प्रदर्शन की दुनिया छोड़ राजनीति में आए हैं। चिराग पिछले तीन साल से नीतीश के सहयोगी रहे हैं लेकिन ऐन चुनाव के जब बागी हो गए। लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान बिहार में पहले चुनाव अकेले अपने दम पर लड़ रहे हैं। इसमें उनका मुख्य मुकाबला उनके ही एनडीए सहयोगी से है। उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि उनका मुख्य एजेंडा नीतीश कुमार को पद से हटाने और बीजेपी के साथ मिलकर राज्य में सरकार बनाने का है।

नीतीश कुमार के पास तेजस्वी यादव के बारे में चिंता करने के कारण हैं, जो अपनी सभाओं में भारी भीड़ खींच रहे हैं। उनके 10 लाख सरकारी नौकरियों के वादे की वजह से राज्य के लोगों ने उन्हें मुख्यमंत्री के दावे से ज्यादा तवज्जो दी है लेकिन चिराग पासवान और भाजपा में छिपे हुए कथित विरोधी नेताओं ने पांच बार के मुख्यमंत्री की रातों की नींद हराम कर दी है।

बिहार: कन्हैया कुमार ने दुष्यंत की कविता के साथ किया प्रचार का आगाज '… कमल भी अब कुम्हल में लगे' '

पूरे बिहार में इस समय परिवर्तन ब्रिगेड दिखाई पड़ रहा है। ये सभी भाजपा कार्यकर्ता जो मानते हैं कि अब नीतीश कुमार को पद से हटना चाहिए। उनके लिए ये 'अभी या फिर कभी नहीं' का सवाल बन गया है। ये लोग चिराग पासवान को एक सहयोगी नहीं बल्कि विद्रोही के रूप में एक अवसर देख रहे हैं।

ऑन रिकॉर्ड भले ही भाजपा नेता चिराग पासवान पर हमला बोल रहे हों लेकिन भाजपा उसे एनडीए से बाहर करने पर चुप्पी साध लेती है, भले ही चिराग रोज-रोज नीतीश कुमार पर नए-नए तरीकों से हमला कर रहे हों, जो बिहार: एनडीए के अगुवा हैं।

बिहार चुनाव 2020: शराबबंदी को लेकर चिराग पासवान का सीएम नीतीश पर वार, बोले- बिहारियों को बनाया जा रहा है बक्सर

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दो दिनों में दो साक्षात्कारों में उनके बारे में कुछ भी नहीं कहा, यह उनसे अधिक खुलासा करता है। हालांकि, चिराग हैवान के कदम पर अमित शाह ने नाराजगी जाहिर की। रामविलास पासवान के निधन के बाद चिराग पासवान के केंद्रीय दलों में शामिल कराने के फैसले पर अमित शाह ने कहा कि इस पर फैसला बिहार चुनावों के बाद होगा। बीजेपी साफ तौर पर लोजपा से कन्नी नहीं काट रही है। बीजेपी के इस रुख से ज़ीयू के नेता नाराज हैं।

वीडियो: RJD ने जारी किया घोषणा पत्र, 10 लाख% का प्रोमो



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

एक्सक्लूसिव: केंद्र ने आईएनएस विराट को संग्रहालय में बदलने की योजना ठुकुराई, बताई ये वजह …

INS विराट: गुजरात के अलंग में नौसेना सेवा से हटाए जा चुके युद्धपोत को तोड़ा जाना हैनई दिल्ली: रक्षा मंत्रालय (रक्षा मंत्रालय) ने...

एयर इंडिया के स्थानीय यूनियनों ने सदस्यों को दी बोली से दूर रहने की सलाह दी

नई दिल्ली / मुंबई, 5 दिसंबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय एयरलाइन कंपनी एयर इंडिया के पायलट यूनियनों ने अपने सदस्यों को सलाह दी...

Recent Comments