Thursday, October 22, 2020
Home Desh बिहार विधानसभा चुनाव २०२०: बिहार चुनाव में जातिगत समीकरण २०२०, बिहार के...

बिहार विधानसभा चुनाव २०२०: बिहार चुनाव में जातिगत समीकरण २०२०, बिहार के जातिगत आंकड़ों को जानिए – बिहार चुनाव: इस बार राजनीतिक दलों के जातीय समीकरण, जानें- कौन सा वर्ग किस तरफ?


इसी तरह की कोशिश में पहली बार राजद ने कुल 144 सीटों में से 24 सीटों पर अति पिछड़ी जाति (ईबीसी) और एक दर्जन सीटों पर उच्च जाति के नेताओं को टिकट दिया है। पिछले चुनावों में राजद ने ईबीसी को चार और उच्च जाति के दो उम्मीदवारों को ही टिकट दिया था। राजद ने 30 महिलाओं को भी टिकट दिया है। इसके अलावा राजद ने अपने परंपरागत वोट बैंक के दो वर्गों ज्ञापन और मुस्लिमों को क्रमशः: 58 और 17 टिकट दिए हैं।

बिहार चुनाव: तेजस्वी यादव के निशाने पर CM नीतीश कुमार, बोले- डबल इंजन सरकार से खफा लोग हैं

उधर, नीतीश कुमार की पार्टी ज़ीयू के लिए 2005 और 2010 के चुनावों से ही ईबीसी और महादलित परंपरागत वोट बैंक रहे हैं। पार्टी ने इस बार 19 ईबीसी, 15 कुशवाहा और 12 कुर्मी नेताओं को टिकट दिया है। नीतीश कुमार ने 17 अनुसूचित जाति के लोगों को भी चुनावी टिकट दिया है। Ziyoo ने 11 मुस्लिमों और 18 यादवों को टिकट देकर उचित समीकरण में टाइपिंग की कोशिश की है।

राज्य में 26 प्रतिशत ओबीसी और 26 प्रतिशत ईबीसी का वोट बैंक है। ओबीसी में बड़ा हिस्सा यादवों का है जो 14 प्रति के लगभग है। यादवों को राजद का परंपरागत वोट बैंक समझा जाता है। इसके अलावा ओबीसी में 8 प्रतिशत कुशवाहा और 4 प्रतिशत कुर्मी वोट बैंक है। इन दोनों पर नीतीश कुमार का प्रभाव है। इसी तरह उपेंद्र कुशवाहा भी आठ प्रतिशत कुशवाहा समाज पर प्रभाव का दावा करते हैं। उनके अलावा 16 प्रति वोट बैंक मुस्लिमों का है। मौजूदा सियासी समीकरण में इस वोट बैंक पर राजद का प्रभाव दिखता है, लेकिन ज़ीयू भी उसे अपने पाले में करने की कोशिशों में जुटी है। पहले भी वांछित समीकरण का बड़ा हिस्सा नीतीश को समर्थन दे चुका है।

बिहार: रोहतास जिले में नल जल योजना की हकीकत, महादलित पोखर का पानी पीने को मजहब

बिहार में अति पिछड़ी जाति के मतदाताओं का हिस्सा 26 प्रति के लगभग है। इसमें लोहार, कहार, सुनार, कुम्हार, ततवा, बढ़ई, केवट, मलाह, धानुक, माली, नोनी आदि जातियाँ आती हैं। पिछले चुनावों में ये अलग-अलग दलों को वोट करते रहे हैं लेकिन 2005 के बाद से इनका बड़ा हिस्सा नीतीश के साथ रहा है। अब तेजस्वी इसे तोड़ने की कोशिश में जुटे हैं। 2014 और 2019 के चुनावों में इस समूह का रुझान बीजेपी की तरफ था।

राज्य में दलितों का वोट परसेंट 16 प्रति के करीब है। ये पाँच प्रति के लगभग पासवान हैं बाकी महादलित जातियां (पासी, रावदास, धोबी, चमार, राजवंशी, मुशर, डोम आदि) आते हैं, जिनके लगभग 11 प्रतिशत वोट बैंक है। पासवान को छोड़कर अधिकांश महादलित जातियों का रुझान भी 2010 के बाद से ज़ीयू की तरफ रहा है। तेजस्वी इसे भी तोड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं। पासवान का रुझान लोजपा की ओर से शुरू से ही रहा है।

बिहार विधानसभा चुनाव: चिराग पासवान ने बीजेपी उम्मीदवार के लिए वोट मांगे

राज्य में 15 प्रतिशत वोट बैंक उच्च जातियों (भूमिहार, राजपूत, ब्राह्मण और कायस्थ) का है। भाजपा और कांग्रेस का फोकस सवर्णों पर रहा है लेकिन पहली बार राजद ने भी सेंधरी की कोशिश की है और दर्जन भर टिकट उच्च जाति के नेताओं को दिए हैं। ज़ीयू ने भी 10 भूमिहार, 7 राजपूत और दो ब्राह्मणों को टिकट दिया।उधर, भाजपा भी ईबीसी और यादवों को अधिक टिकट देकर रिझाने की कोशिशों में जुटी है। यानी सभी समूह एक-दूसरे के परंपरागत वोट बैंक में सेंधमारी कर रहे हैं। ऐसे में जो समूह मतदाताओं को लामबंद कर पाने में सफल रहेंगे, वही जीतेंगे।

वीडियो: महागठबंधन की सरकार बनते ही 10 लाख हो जाएंगे: तेजस्वी यादव



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बिहार चुनाव के लिए भाजपा के घोषणापत्र पर मनोरंजना भारती ब्लॉग

बीजेपी ने गुरुवार को बिहार विधानसभा चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी कियाबिहार विधानसभा चुनाव 2020: बिहार चुनाव में राजनैतिक दलों ने मुफ्त...

भारत ने वीजा में क्रमिक छूट दी, यात्रा प्रतिबंध | भारत ने वीजा, यात्रा प्रतिबंधों में क्रमिक छूट की अनुमति दी

नई दिल्ली, 22 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारत सरकार को विभाजित -19 महामारी की रोकथाम के लिए लगाए गए सभी प्रतिबंधों को लगभग...

Recent Comments