Friday, December 9, 2022
HomeBiharबारिश से मुजफ्फरपुर शहर में आयी मुसीबत की बाढ़, शहर के अधिकांश इलाकों में हुआ भारी जलजमाव, जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त

बारिश से मुजफ्फरपुर शहर में आयी मुसीबत की बाढ़, शहर के अधिकांश इलाकों में हुआ भारी जलजमाव, जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त

ध्रुव कुमार सिंहमुजफ्फरपुरबिहार,  

बारिश से मुजफ्फरपुर शहर में मुसीबतों की बाढ़ आ गई। मुजफ्फरपुर में कुछ ऐसा ही हुआ। पूरा शहर जलमग्न हो गया। मुजफ्फरपुर जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण जहां एक तरफ फिर से शहर जलमग्न हो गया है। बारिश की वजह से पुरानी गुदरी रोड,रामबाग,कच्ची सराय रोड,आमगोला, नया टोला,स्पीकर रोड,स्टेशन रोड, मोतीझील, सदर अस्पताल, इमलीचट्टी, बीबीगंज समेत अन्य कई मोहल्ले में भारी जलजमाव हो गया है। मुजफ्फरपुर शहर के मुख्य मार्ग पर स्थित वार्ड 39/40 के पुरानी गुदरी रोड में दर्जनों  घर जलमग्न है। कुछ घंटे की वर्षा में हीं पुरानी गुदरी रोड के दोनों ओर स्थित नालों व उसके दोनों ओर के इलाके की गलियों में लबालब पानी भरा है। जलजमाव के बदतर हालात ने मानसून पूर्व नगर निगम के इंतजामों की पोल फिर खोल दी। पुरानी गुदरी रोड में लोगों घरों में नाले का गन्दा पानी घुस गया। इस बारिश ने नगर निगम के उन तमाम दावों की सच्चाई उजागर कर दी, जिसमें ये कहा जा रहा था कि अब शहर नहीं डूबेगा। यदि बीते साल सितंबर से अब तक मुजफ्फरपुर नगर निगम प्रशासन गंभीर हुआ होता,तो ऐसी नारकीय स्थिति नहीं होती। क्योकि सड़क के दोनों स्थित नाला मिटटी से लबालब भरा हुआ है.जिसकी सफाई कई बार नगर निगम के भ्रष्ट कर्मियों/अधिकारियों द्वारा कागज पर हीं किया जा चूका है.मुजफ्फरपुर नगर निगम के अयोग्य,अकर्मण्य अधिकारियों के द्वारा संरक्षण प्राप्त भ्रष्ट कर्मियों के रहते बारिश के नाम पर कागज पर हीं नाला सफाई का ही खेला जाता रहा है। क्योंकि मुजफ्फरपुर नगर निगम के अधिकारी अपने वातानुकूलित कार्यालय में बैठकर केवल आदेश/निर्देश का पत्र जारी करते रहते है और उनका मातहत कर्मी उनके सभी निर्देशों की कागजी खानापूर्ति करके उसकी रिपोर्ट देता रहता है.वर्तमान जलजमाव कागज पर हीं नाला सफाई किये जाने का जीता जागता प्रमाण है. सदर अस्पताल के महिला वार्ड में पानी घुस गया। जलजमाव के बीच मरीज आते-जाते रहे और उनका इलाज भी चलता रहा। जिला अस्पताल से पानी को निकालने का कोई इंतजाम नहीं किया गया। अस्पताल में इलाजरत मरीजों का कहना है कि प्रशासन डिजिटल हो गया है। उसे तो मरीज से मतलब तक नहीं है। घोषणा करना आदत बन गई है। पैसों का बंदरबांट हो रहा है। फिलहाल जिला अस्पताल खुद जलजमाव की बीमारी से जूझ रहा है। सदर अस्पताल के उपाधीक्षक ने बताया कि बारिश के वजह से अस्पताल परिसर में जलमग्न हो गया है। स्टाफ क्वार्टर समेत अन्य कई जगह पानी दीवारों से टपक रहा है। पानी निकासी की व्यवस्था नहीं है। बारिश के छूटने के बाद ही पानी निकल पायेगा।सोनपुर मंडल में सबसे अधिक राजस्व देने वाली मुजफ्फरपुर जंक्शन पर भी बारिश की मार पड़ रही है।  बारिश की वजह से रेलवे जंक्शन पर भी जलजमाव शुरू हो गया है। जबकि, जंक्शन परिसर के कई दीवारों से पानी टपकने लगा है। इससे यात्रियों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। जंक्शन के प्लेटफॉर्म संख्या 1, 2, 6 समेत अन्य रेलवे ट्रैक पर बारिश का पानी चढ़ गया है। इसके अलावा, जंक्शन के यूटीएस हॉल के दीवारों से पानी टपकने लगा। उक्त पानी पूरे यूटीएस परिसर में फैलने लगा। जिसके कारण हॉल में बैठे यात्री काफी परेशान रहे। यही हाल रिज़र्वेशन काउंटर हॉल का रहा। जहां जर्जर छतों से पानी टपकने लगा। इस दौरान वहां बैठने वाली जगहों पर पानी टपकने लगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments