Friday, March 5, 2021
Home Pradesh Uttar Pradesh बरेली: NEET एग्जाम में रैंक आई कम तो एमबीबीएस एडमिशन के नाम...

बरेली: NEET एग्जाम में रैंक आई कम तो एमबीबीएस एडमिशन के नाम पर ठगी 34 लाख, जानिए पूरा मामला


बरेली में एक रिटायर्ड टीचर से उनके पोते-पोती के एमबीबीएस में एडमिशन के नाम पर फर्जीवाड़ा किया गया है।

बरेली में एक रिटायर्ड टीचर से उनके पोते-पोती के एमबीबीएस में एडमिशन के नाम पर फर्जीवाड़ा किया गया है।

बरेली न्यूज़: नीट (NEET) की परीक्षा में कम रैंकिंग आने के कारण एडमिशन नहीं ले पा रहे छात्र-छात्राओं को ठगी का शिकार बनाया जा रहा है। ऐसे ही एक मामले में नान बरेली के रिटायर्ड शिक्षक से 34 लाख रुपए की ठगी कर ली गई। मामले में अब एफआईआर दर्ज कर जांच की जा रही है।

बरेली। उत्तर प्रदेश के बरेली (बरेली) में इन दिनों ऐसे जालसाज़ो का आतंक फैला हुआ है, जो ऐसे छात्र-छात्राओं को अपना शिकार बना रहे हैं, जो नीत के एग्जाम में खराब ग्रेड आने के कारण एडमिशन नहीं ले पा रहे हैं। ऐसे ही एक मामले में यूपी के दो नामचीन संस्थानों पर बरेली में एफआईआर दर्ज की गई है। आरोप है कि बरेली में राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षामित्र ने अपने पोते-पोती का एमबीबीएस (एमबीबीएस) में एडमिशन के करवाने के लिए 34 लाख रुपये दिए थे। अब सुभाषनगर थाने में 8 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

सुभाषनगर के करगैना निवासी 80 वर्षीय गोवर्धन लाल श्रीवास्तव राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षक हैं। उनके पोते और पोती ने इसी वर्ष इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की। दोनों बच्चों ने नीत का एग्जाम दिया था लेकिन रैंक अच्छी नहीं आने की वजह से दोनों का एडमिशन एमबीबीएस में नहीं हो पाया। इसी तरह उनके पास नोएडा से एक फोन आया। फोन करने वाले ने दोनों बच्चों का सरकारी कॉलेज में एमबीबीएस में एडमिशन कराने का झांसा दिया और दोनों को नोएडा बुलाया।

इस तरह जाल बिछाकर फंसाया

इसके बाद दोनों बच्चे अपने बुजुर्ग बाबा के साथ नोएडा पहुंचे। यहां दोनों की बाकायदा काउंसलिंग की गई। फिर काउंसलिंग के बाद बताया गया कि दोनों सलेक्शन हो गए हैं। आपकी पोते अलंकृत का मोतीलाल नेहरू विश्वविद्यालय, इलाहाबाद और पोती का बांदा मेडिकल कालाज में एडमिशन का हो जाएगा। दोनों के एडमिशन के लिए 34 लाख रुपये देने होंगे।कक्षा शुरू करने का भी आश्वासन

इसके बाद बाबा ने सचिन नाम के जालसाज को 34 लाख रुपये दे दिए। बच्चे को इलाहाबाद बुलाया गया और जालसाज उन्हें इलाहाबाद के स्वरूपरानी अस्पताल ले गए। बताया गया कि ये अस्पताल मोतीलाल नेहरू विश्वविद्यालय इलाहाबाद से संबंध है। उसके बाद जालसाजों ने बुजुर्ग टीचर और बच्चों को डॉ। हर्षवर्धन और एसके शर्मा से मिलवाया। उनके कमरे के बाहर पल्मोनरी मेडिसिन विभाग का बोर्ड लगा हुआ था और दोनो डॉक्टरों के नाम लिखे हुए थे। सभी बच्चों से फार्म भरवाए उनके डॉक्यूमेंट चेक किए और 2 फरवरी से कक्षाएं शुरू होने का आश्वासन दिया।

31 जनवरी से बदली कहानी

16 फरवरी को सचिन का फोन आया कि उनके पोते अलंकृत का एडमिशन हो गया है और पोती के एडमिशन प्रदान के लिए 31 जनवरी को बांदा मेडिकल कालाज चलना है। 31 जनवरी को सचिन ने बताया कि किसी वकील ने सुप्रीम कोर्ट में केस कर दिया है, जिस कारण से इस तरह के सभी एडमिशन पर रोक लगा दी गई है। आपका 12 रुपये प्रति मिनट कर दिया जाएगा। लेकिन 12 फरवरी से सभी ठगों के फोन स्विच ऑफ है।

पुलिस जांच में और भी पीड़ितों की मिली जानकारी

रिटायर्ड टीचर गोवर्धन लाल श्रीवास्तव ने सुभाषनगर थाने में इलाहाबाद निवासी स्वरूप रानी बक्शी अस्पताल के पल्मोनरी मेडिसन विभाग के डॉ हर्षवर्धन, एसके शर्मा, नोएडा निवासी सचिन, पंकज, आदेश, वीरेंद्र सहित 8 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस की विवेचना के दौरान जालसाजों पर पूर्व खाद्य इंस्पेक्टर और स्कूल संचालक को भी ठगने का मामला जानकारी में आया था।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

भारत में पहली बार एक दिन में 10 लाख से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन शुरू किया गया

कोरोना वैक्सीनेशन की अप देश में तेजी से बढ़ रही है।नई दिल्ली: भारत में पहली बार एक दिन में 10 लाख से अधिक...

दिल्ली रेलवे स्टेशन पर 1 साल बाद प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री शुरू, चुकाने की 3 गुना कीमत होगी

प्लेटफार्म टिकट की बिक्री पिछले साल लॉकडाउन में ट्रेनों के बंद होने के बाद से ही ठप थीनई दिल्ली: रेलवे ने दिल्ली रेलवे...

शेयर बाजार: सेंसेक्स 598 अंकों की गिरावट, 15000 के पार बंद हुआ निफ्टी

आज सप्ताह के चौथे दिन गुरुवार को शेयर बाजार में गिरावट के साथ लाल निशान पर बंद हुआ। बीएसई इंडेक्स सेंसेक्स 598.57...

PF डिपॉजिट पर 8.5 प्रतिशत ब्याज, शेफ लेबर कमिश्नर बोले- 5 करोड़ खाताधारकों को फायदा मिलेगा

वित्त मंत्रालय की मंजूरी के बाद निर्णय को लागू किया जाएगा। (प्रतीकात्मक चित्र)खास बातेंपीएएफ डिपोजिट पर 8.5 प्रतिशत ब्याज'5 करोड़ अकाउंटर्स को...

Recent Comments