Thursday, November 26, 2020
Home Desh प्याज की कीमतें ion 500 प्रति किलोग्राम, चेन्नई में लोगों को रोना...

प्याज की कीमतें ion 500 प्रति किलोग्राम, चेन्नई में लोगों को रोना – 150 रुपये / किलो तक प्याज का भाव, चेन्नई में लोग रो रहे प्याज के आंसू


150 रुपये / किलो तक प्याज का भाव, चेन्नई में लोग रो रहे प्याज के आंसू तक पहुंच गए

TN में प्याज के बढ़ते मूल्य से लोग परेशान हैं। तीन गुना कीमत बढ़ने से लोग प्याज के आंसू रो रहे हैं

चेन्नई:

TN में प्याज के बढ़ते मूल्य से लोग परेशान हैं। तीन गुना कीमत बढ़ने से लोग प्याज के आंसू रो रहे हैं। चेन्नई में तो 105 से 150 रुपये प्रति किलो तक बिक रहे हैं। बारिश की वजह से महाराष्ट्र में प्याज की फसलों को बारी नुकसान पहुंच गया है, इसकी वजह से बाजार में प्याज की कम सप्लाई हो रही है।

चेन्नई के निराशालापुर इलाके में एक सब्जी की दुकान पर, कल्पना नाम की एक युवा माँ ने प्याज की बढ़ी कीमतों की वजह से अपने साप्ताहिक खरीद में प्याज नहीं खरीदने का फैसला किया, क्योंकि वह इसे सहन नहीं कर सकती हैं। कल्पना, जिनके दो बच्चे हैं, एक सैलून में काम करता था लेकिन लॉकडाउन के दौरान उनकी नौकरी छूट गई थी। उनके पति को भी वेतन में कटौती का सामना करना पड़ रहा है।

कल्पना ने कहा, "हमें प्याज के बिना ही सब कुछ करना होगा। पिछले सात महीने से मैं घर पर ही हूं। मुझे कोई नौकरी मिल रही है। मेरे दो बच्चे हैं और उन्हें पालना-पोषण बहुत मुश्किल हो रहा है। हमें। का किराया भी देना है। जब प्याज के दाम गिर जाएंगे, तब ही हम इसकी खरीद करेंगे। "

दिल्ली में प्याज 100 रुपये प्रति किलो, मुंबई-चंडीगढ़ सहित अन्य शहरों में भी लोग अंकल हैं

दस मिनट बाद ही स्टोर पर लक्ष्मी नाम की एक महिला आती है, उसने भी अपनी जरूरत से आधा ही प्याजा खरीदा। लक्ष्मी एक टेक कंपनी में काम करती हैं। उन्होंने कहा कि वे और उनके पति, दोनों कोरोनावायरस संक्रम की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के बाद से ही 50 फीसदी सैलरी कट की मार झेल रहे हैं।

लक्ष्मी ने कहा, "सैलरी कटौती के साथ मूल्य वृद्धि एक साथ दोहरा झटका है लेकिन हमें केवल यह करना पड़ता है। हमने सभी प्रमुख खर्चों में कटौती की है। हम प्याज से बच नहीं सकते हैं इसलिए हम इसे कम मात्रा में खरीद रहे हैं। "

पीयूष गोयल ने कहा- उपभोक्ताओं को सस्ती कीमत पर प्याज उपलब्ध कराने के लिए कदम पिके गए हैं

व्यापारियों का कहना है कि कम आपूर्ति होने के कारण ही मशीनें बढ़ी हैं। महाराष्ट्र में भारी बारिश के कारण, खड़ी खरीफ की फसल को भी नुकसान पहुंचा है, इससे आपूर्ति बाधित हुई है। कई लोग इसके लिए राज्य की एएएएडीएमके सरकार को दोषी ठहरा रहे हैं जो चेन्नई के कैम्बेडु सब्जी बाजार की 80 फीसदी दुकानों को खोलने की अनुमति नहीं दे रही है। यह सब्जी मंडी में 2000 दुकानें हैं। इस मंडी में मई में 3500 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

वीडियो: प्याज ने फिर सेलेले आंसू, कई राज्यों में कीमत 100 रुपये पार



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यूपी: 28 विदेशी कंपनियां करेंगी नौ हजार करोड़ का निवेश | उप्र: 28 विदेशी कंपनियां नौ हजार करोड़ का करेंगी निवेश

लखनऊ, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर संदेह छाई थी, उस समय उत्तर प्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की...

फारूक अब्दुल्ला ने भूमि घोटाले के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी, 10 अंक – भूमि संरक्षण के आरोपों पर फारुक अब्बीदुल्ला बोले-झूठ फैलाया जा रहा...

फारुक अब्सीदुल्ला ने आरोपों को उनकी छवि प्रदान करने के समझौते पर दिया हैश्रीनगर: जम्ममू -श्सिर (जम्मू और कश्मीर)...

भोपल गैस पीड़ितों के लिए घातक COVID-19, यूनियन कार्बाइड से अधिक मुआवजा चाहता है – भोपाल के गैस पीड़ितों के लिए जानलेवा साबित हो...

भोपाल गैस त्रासदी के शिशु अभी भी कई आत्मसात नई समसयाओं का सामना कर रहे हैं (प्रतीकात्मक शब्द)खास बातेंगैस पीडिआतों के लिए कन्फरत...

कोरोनावायरस के मामले बढ़ने से एयलाइंस कंपनियों की बढ़ी मुश्किलें

यूरोप और अमेरिकी में कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि के साथ ही दुनिया भर की विमानन कंपनियों का वित्तीय परिदृश्य खराब हो रहा...

Recent Comments