Thursday, November 26, 2020
Home Business पेट्रोल की मांग पूर्व कोरोना वायरस महामारी तक पहुँच जाती है

पेट्रोल की मांग पूर्व कोरोना वायरस महामारी तक पहुँच जाती है


देश में गैस की बिक्री में लॉकडाउन के बाद पहली बार सितंबर के पहले पखडिंग में वृद्धि दर्ज की गई। इससे ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि पेट्रोल की मांग कोरोनावायरस महामारी से पहले के स्तर पर पहुंच गई है। उद्योग जगत के प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार, एक सितंबर से 15 सितंबर के बीच पेट्रोल की बिक्री सालाना आधार पर 2.2 प्रतिशत और पिछले महीने की तुलना में सातवें बढ़ी है। हालांकि, डीजल की बिक्री में गिरावट जारी हो रही है।

यह भी पढ़ें: बड़ी राहत: गैसोलीन की कीमतों में भारी कटौती, जानें आज का मौसम

सितंबर महीने में यह सालाना आधार पर छह प्रतिशत और मासिक आधार पर 19.3 प्रतिशत कम रहा है। यह पहली बार है जब दुनिया के तीसरे सबसे बड़े तेल उत्पादक देश में पेट्रोल की बिक्री में 25 मार्च से देश भर में लागू लॉकडाउन के बाद हल्की वृद्धि दर्ज की गई है। लॉकडाउन के कारण आर्थिक गतिविधियों के चरमरा गयीं और मांग में भारी गिरावट दर्ज की गई। आंकड़ों के अनुसार, सितंबर के पूर्वार्द्ध में पेट्रोल की बिक्री 9,65,000 टन हो गई, जबकि एक साल पहले इसी अवधि में यह 9,45,000 टन रही थी। एक महीने पहले एक से 15 अगस्त 2020 के दौरान पेट्रोल की खपत 9,00,000 टन रही थी।

मांग बढ़ने की ये वजह है

देश में डीजल की मांग हालांकि, इस दौरान पिछले साल के 22.5 लाख टन से कम होने के साथ 21.3 लाख टन रही। महीने भर पहले की समान अवधि यानी अग के पूर्वार्द्ध में डीजल की मांग 17.8 लाख टन रही। उद्योग जगत के सूत्रों ने कहा कि जून से भारतीय अर्थव्यवस्था में लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील देने की शुरुआत हुई। हालांकि, राज्यों के स्तर पर लॉकडाउन जारी रहने से पेट्रोल की मांग तेजी से बढ़ी नहीं है। सार्वजनिक वाहनों के बजाय निजी वाहनों को तरजीह दिए जाने से पेट्रोल की मांग बढ़ गई है। इससे पहले अगस्त महीने में डीजल और पेट्रोल की मांग में तेज गिरावट देखने को मिली थी। अगस्त 2020 में डीजल और गैस की मांग सालाना आधार पर क्रमश: 21 प्रतिशत और 7.4 प्रतिशत कम रही।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में नौकरी गंवाने वाले बेरोजगारी भत्ता पाने के लिए जल्द ही आवेदन करें

सितंबर महीने के पहले 15 दिन में विमानन ईंधन की बिक्री साल भर पहले की तुलना में 60 प्रतिशत कम रही लेकिन पिछले महीने की तुलना में 15 प्रतिशत बढ़कर 1,25,000 टन रही। इस दौरान रसोई गैस की बिक्री साल भर पहले की तुलना में 12.5 प्रतिशत और महीने भर पहले की तुलना में 13.5 प्रतिशत बढ़कर 11.3 लाख टन रही। कारों की बिक्री अगस्त महीने में एक साल पहले के मुकाबले 14 प्रतिशत बढ़ी है जबकि दुपहिया वाहनों की बिक्री तीन प्रतिशत बढ़ी है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यूपी: 28 विदेशी कंपनियां करेंगी नौ हजार करोड़ का निवेश | उप्र: 28 विदेशी कंपनियां नौ हजार करोड़ का करेंगी निवेश

लखनऊ, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर संदेह छाई थी, उस समय उत्तर प्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की...

फारूक अब्दुल्ला ने भूमि घोटाले के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी, 10 अंक – भूमि संरक्षण के आरोपों पर फारुक अब्बीदुल्ला बोले-झूठ फैलाया जा रहा...

फारुक अब्सीदुल्ला ने आरोपों को उनकी छवि प्रदान करने के समझौते पर दिया हैश्रीनगर: जम्ममू -श्सिर (जम्मू और कश्मीर)...

भोपल गैस पीड़ितों के लिए घातक COVID-19, यूनियन कार्बाइड से अधिक मुआवजा चाहता है – भोपाल के गैस पीड़ितों के लिए जानलेवा साबित हो...

भोपाल गैस त्रासदी के शिशु अभी भी कई आत्मसात नई समसयाओं का सामना कर रहे हैं (प्रतीकात्मक शब्द)खास बातेंगैस पीडिआतों के लिए कन्फरत...

कोरोनावायरस के मामले बढ़ने से एयलाइंस कंपनियों की बढ़ी मुश्किलें

यूरोप और अमेरिकी में कोरोनावायरस के मामलों में वृद्धि के साथ ही दुनिया भर की विमानन कंपनियों का वित्तीय परिदृश्य खराब हो रहा...

Recent Comments