Monday, May 17, 2021
Home Desh पूर्व जम्मू कश्मीर के जगमोहन का निधन संक्षिप्त बीमारी के बाद हो...

पूर्व जम्मू कश्मीर के जगमोहन का निधन संक्षिप्त बीमारी के बाद हो गया।


जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के आदेश में तत्कालीन गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने जगमोहन से मुलाकात की और फिर संपर्क अभियान की शुरुआत की थी।

जगमोहन

आतंकवाद के दौर में कश्मीरी पंडितों के लिए खूब काम किया। (फोटो क्रेडिट: न्यूज नेशन)

हाइलाइट

  • जम्म-कश्मीर में आतंकवाद की रोकथाम में प्रभावी भूमिका
  • दिल्ली के सौदर्यीकरण में भी बेहतरीन योगदान दिया
  • पीएम मोदेई ने निधन को बताया क्षणिक क्षति

नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल जगमोहन मल्होत्रा ​​का सोमवार को संक्षिप्त बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 94 वर्ष के थे। देर रात ट्वीट में, उनके परिवार के सदस्यों ने कहा, ‘गहरा शोक के साथ, हम पूर्व केंद्रीय मंत्री और पूर्व राज्यपाल जम्मू-कश्मीर जगमोहन के निधन के बारे में संकेत कर रहे हैं। उमा जगमोहन, बच्चा – दीपिका और राजीव कपूर, नूतन और जस्टिस जगमोहन। ‘ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल जगमोहन के निधन पर शोक व्यक्त किया और उनकी मौत को देश् के लिए एक बड़ा नुकसान बताया।

जगमोहन ने 1984 से 89 तक, और फिर जनवरी से मई 1990 तक, जम्मू और कश्मीर के तत्कालीन राज्य में दो कार्यकालों में राज्यपाल के रूप में कार्य किया। 1998 में जब भाजपा के अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री बने, तब जगमोहन ने संचार, शहरी विकास और पर्यटन सहित कई विभागों में अपने कार्यों में काम किया। 1990 के दशक के दौरान, जगमोहन ने 1990-96 में राज्यसभा में मनोनीत सांसद के रूप में कार्य किया और नई दिल्ली (1996, 1998 और 1999) से लोकसभा चुनावों में जीत हासिल की। वह दिल्ली और गो के उपराज्यपाल भी थे। उन्हें 1971 में पद्म श्री, 1977 में पद्म भूषण और 2016 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

मोदी ने एक ट्वीट में कहा कि जगमोहन जी का निधन हमारे राष्ट्र के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है। वह एक अनुकरणीय प्रशासक और प्रसिद्ध विद्वान थे। उन्होंने हमेशा भारत की भलाई के लिए काम किया। उनके मंत्री शब्द को नव नीति निर्माण द्वारा चिह्न्ति किया गया। उनके परिवार और फोंस के प्रति संवेदना ओम शांति। ‘

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के आदेश में तत्कालीन गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने जगमोहन से मुलाकात की और फिर संपर्क अभियान की शुरुआत की थी। बता दें कि जम्मू कश्मीर में अहम रोल निभाने वाले जगमोहन का लुटियन दिल्ली के सौंदर्यीकरण में भी अहम योगदान रहा है। दरअसल, 1975-77 में डीडीए के वाइस चेयरमैन का पद संभालते हुए उन्होंने वहां झूठेगीस को विचलित कर दिया था। आतंकवाद का सामना करने वाले जम्मू कश्मीर में पूर्व राज्यपाल के तौर पर जगमोहन ने कई सख्त फैसले लिए। घाटी में कश्मीरी पंडितों पर अत्याचार का मामला हो या आतंक से बचाव में रणनीति का मुद्दा जगमोहन कभी पीछे नहीं रहे।



संबंधित लेख

पहली प्रकाशित: 04 मई 2021, 02:22:56 अपराह्न

सभी के लिए नवीनतम भारत समाचार, न्यूज नेशन डाउनलोड करें एंड्रॉयड तथा आईओएस मोबाईल ऐप्स।




Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments