Saturday, January 16, 2021
Home Desh पत्नी को आधा किमी दूर से पानी ढोने से निजात मिलने के...

पत्नी को आधा किमी दूर से पानी ढोने से निजात मिलने के लिए खोदा 31 फीट गहरा कुआं


पत्नी को आधा किमी दूर से पानी ढोने से निजात मिलने के लिए खोदा 31 फीट गहरा कुआं

प्रतीकात्मक तस्वीर

गुना:

पत्नी को रोजाना आधा किलोमीटर दूर से पीने का पानी सिर पर ढोकर लाने से दुखी 46 वर्षीय एक गरीब मजदूर ने उसे तोहफा देने के लिए 15 दिन में अपनी झूठा के पास खुद का कुआं खोद दिया और उसे पानी ढोने की समस्या से निजात दिलाई। यह तोहफा मध्यप्रदेश के गुना जिले के चाचौड़ा तहसील के भानपुर बावा गांव में रहने वाले भरत सिंह ने अपनी पत्नी सुशीला को दो महीने पहले द दीया है। इससे न केवल उसकी पत्नी को आधा किलोमीटर दूर से सिर पर पानी ढोकर लाने से निजात मिली, बल्कि उसकी आधी बीघा जमीन की सिंचाई करने की व्यवस्था भी गयी। सिंह ने बुधवार को बताया, ” हमारे घर में पीने के पानी की व्यवस्था नहीं थी। मेरी पत्नी को आधा किलोमीटर दूर एसएमएसपंप पर पानी लेने जाना पड़ता है। इसमें उसे कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार हैंडपंप खराब हो जाने के कारण के बिना पानी के ही रहना पड़ता था। ”

यह भी पढ़ें

उन्होंने कहा कि एक दिन जब हैंडसेटपंप खराब होने के कारण पत्नी सुशीला के बिना पानी के लौटी और उसने मुझे बताया, तो पत्नी की इसी परेशानी को देखते हुए मैंने अपने घर पर ही कुआं खोदने की ठान ली। सिंह ने बताया, ” शुरुआत में तो मेरी पत्नी ने मुझे उलाहना देते हुए कहा कि यह संभव नहीं है, आप कुआं नहीं खोद सकते हैं और उसका यही उलाहना मेरे लिए प्रेरणादायी बना और मैंने घर में ही लगभग ढाई महीने पहले कुँआ खोदने की शुरुआत की। । ”

न्यूज़बीप

उन्होंने कहा कि 15 दिन की लगातार कड़ी मेहनत के बाद मैंने छह फीट व्यास वाला गोल 31 फीट गहरा कुआं खोद दिया और इस कुएं को ईंट, सीमेंट और रेत से पक्का भी कर दिया। उन्होंने कहा कि इस कुएं को बने हुए अब लगभग दो महीने हो गए हैं। सिंह ने बताया, ने आ कुआं बनने से इससे मिलने वाले पानी से न केवल हमारे पेयजल की समस्या दूर हुई, बल्कि आधा बीघा जमीन की सिंचाई करने की व्यवस्था भी हो गयी। ’’ उन्होंने कहा कि मैं अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) का हूं। और मेरे परिवार में बूढ़ी मां, पत्नी और एक बच्चा सहित चार लोग हैं। मेरा परिवार झूठा में रहता है और गरीबी रेखा से नीचे आता है। सिंह ने बताया कि मेरे द्वारा पूरे प्रयास करने के बाद भी मेरे परिवार को राशन कार्ड अब तक नहीं मिला है।

गुना जिले के कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने भी भरत सिंह द्वारा 15 दिन में कुएं खोदे जाने के कार्य की तारीफ की है। पुरुषोत्तम ने जिला पंचायत के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि उसके बेहतर जीवन के लिए उसे प्रधानमंत्री आवास योजना और अन्य विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ मुहैया कराएं।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने साझा नहीं किया है। यह सिंडीकेट ट्वीट से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोरोनाकैनीकरण के लिए हिमाचल प्रदेश तैयार, वैक्लाइन की खेप मिली: सीएम जयराम ठाकुर

नई दिल्ली: कोरोना टीकाकरण: कोरोना के खिलाफ देश का टीकाकरण अभियान शनिवार, 16 जनवरी से प्रारंभ हो रहा है। देश के...

कोरोना की मार, बीते साल घरेलू उड़ानों पर यात्रियों की संख्या में 56.29 प्रतिशत की गिरावट

घरेलू उड़ानों के यात्रियों की संख्या में बीते साल यानी 2020 में भारी गिरावट आई है। नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) द्वारा शुक्रवार...

“इविशील्ड की प्रभावशीलता काफी होगी अगर खुराक में अंतराल 28 दिन से ज्यादा हो: सीरम इंस्टीट्यूट ने एनडीटीवी को बताया

सीरम इंस्टीट्यूट के सुरेश जाधव ने कहा कि परिणामजे और बेहतर होते हैं अगर खुराक के बीच कुछ साप्ताहिक ज्यादा होता है। नई...

Recent Comments