Sunday, December 6, 2020
Home Desh नीतीश कुमार ने अपने उम्मीदवार का विरोध करने वालों को क्यों चेतावनी...

नीतीश कुमार ने अपने उम्मीदवार का विरोध करने वालों को क्यों चेतावनी दी, मैं बुरा काम करूंगा .. – नीतीश कुमार ने अपने प्रत्याशी का विरोध करने वालों को क्यों गिनाया, बुरा हाल करेंगे।


नीतीश कुमार ने अपने प्रत्याशी का विरोध करने वालों को क्यों गिनाया,

पटना:

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (नीतीश कुमार) अपनी सभा में विरोध करने वालों को अमूमन नज़रअंदाज़ करते हैं, क्योंकि उन्हें इस बात का आभास होता है कि ऐसे लोगों को मीडिया में खूब जगह मिलती हैं ।लेकिन शनिवार को तेघड़ा विधानसभा में अपनी पार्टी के प्रत्याशी वीरेंद्र कुमार के समर्थन में जब वह प्रचार कर रहे थे। के बाद माला पहननेाने की निष्पक्षता पूरी कर रही थी, तभी कुछ लोगों ने नौकरी के सवाल पर उनका विरोध किया। इस पर नीतीश कुमार अचानक आप हार गए और उन्होंने कहा, "मत देना तुम लोग, पंद्रह-बीस लोग हो, यहाँ हज़ारों लोग हैं।"

यह भी पढ़ें

उन्होंने अपने समर्थकों को फिर से हाथ उठाने के लिए कहा और विरोधियों को कहा, "देख लो, देख लो, अरे देखो ना, पीछे अगल-बग़ल देखो ना, देख लो … तुम लोगों को समझ में आ जाएगा। जिसके लिए कर रहे हैं। रहे, ये सब लोग आप लोगों का पूरा जवाब दे देंगे और उन लोगों का हाल ठीक-ठाक कर देंगे, बुरा हाल कर देंगे। "

यह भी पढ़ें- बिहार: तेजस्वी यादव ने CM नीतीश को किया खुला चैलेंज, कहा- एक भी थाने का नाम बताएं, जहां …

नीतीश ने फिर इतना कहने के बाद लोगों के ताली बजने पर कहा, "आप लोगों ने स्वपोषक किया है, तो आप किस जीत का माला पहना दें?" फिर उन्होंने प्रत्याशी आनंद कुमार को माला पहनाई और मंच पर मौजूद अन्य ज़िले के प्रत्याशियों का नाम लिया और फिर जनता की इजाज़त लेकर अन्य नेताओं को भी जीत की माला पहनाई। लेकिन नीतीश की प्रतिक्रिया से मंच पर उनके समर्थक भी हैरान थे।

दरअसल जनता दल यूनाइटेड के प्रत्याशी वीरेंद्र कुमार जो नीतीश के कॉलेज के ज़माने के मित्र रहे हैं, उनके पिछले बार राष्ट्रीय जनता दल के टिकट पर विधायक बनने के बाद इलाक़े से नदारद रहने की काफ़ी शिकायत आती थी। इसलिए इस बार उनकी उम्मीदवारी को लेकर Ziyoo के कार्यकर्ता ही बहुत ज्यादा उत्साह में नहीं हैं और इसी पृष्ठभूमि में नीतीश कुमार ने शनिवार को वहां पर सभा को संबोधित करने का कार्यक्रम रखा था। लेकिन उन्हें भी इस बात का अंदाज़ा हो गया कि उनकी जीत इतनी आसान नहीं है।

केंद्र में मोदी को चाहतें हैं बिहार में नीतीश को नहीं



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फाइजर ने भारत में आपातकालीन उपयोग के लिए कोविड -19 टीके को मंजूरी देने का आवेदन किया

प्रतीकात्मक फोटो।नई दिल्ली: दवा निर्माता कंपनी फाइजर की भारतीय इकाई ने उसके द्वारा विकसित कोविड -19 टीके के आपातकालीन उपयोग की औसत मंजूरी...

त्योहारों के समय ई-कॉमर्स पर मांग 56 प्रतिशत बढ़ी, पहली बार ऑनलाइन खरीदारी करने वालों की संख्या में इजाफा

ई-कोरिया उद्योग को इस त्यौहारी मौसम में पिछले साल के मुकाबले 56 प्रतिशत अधिक संख्या प्राप्त हुई। वहाँ उनके मंच पर बिके...

पश्चिम बंगाल: जेल में बंद सारदा के मालिक ने कई लोगों के पैसे लेने का आरोप लगाया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (फाइल फोटो)।कोलकाता: पश्चिम बंगाल में सारदा पोंजी संगठनों के मुख्य आरोपी सुदंत सेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...

पीएम-कुसुम योजना के तहत फीडर स्तर के सौर संयंत्र लगाने के लिए दिशानिर्देश जारी

सरकार ने पीएम-कुसुम योजना के तहत फीडर स्तर के सौर संयंत्र (सोलराइजेशन) लगाने को लेकर राज्यों के साथ परामर्श के बाद शुक्रवार को...

Recent Comments