Wednesday, April 14, 2021
Home Pradesh Uttar Pradesh नवरात्रि 2021: चैत्र नवरात्रि पर माता की पूजा इन तत्वों के बिना...

नवरात्रि 2021: चैत्र नवरात्रि पर माता की पूजा इन तत्वों के बिना अधूरी है, नोट कर लें सम्पूर्ण पूजा सामग्री सामग्री


नवरात्रि 2021 पूजा सामरी सूची (नवरात्रि पूजा सामग्री लिस्ट / नवरात्रि पूजा थाली सामग्री): चैत्र नवरात्रि (चैत्र नवरात्रि 2021) 13 अप्रैल, मंगलवार से शुरू हो रहे हैं। नवरात्रि में मां दुर्गा (माँ दुर्गा) के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के शैलपुत्री (माता शैलपुत्री) स्वरूप की पूजा अर्चना करने का विधान है। मां शैलपुत्री को यह नाम पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण मिला। नवरात्रि में प्रतिपदा (नवरात्रि का पहला दिन) यानी कि पहले दिन प्रात: जौ-बोने, कलश स्थापना और दिए गए प्रज्वलित करने के साथ मां नव दुर्गा की पूजा का पाठ आरंभ होता है। नवरात्रि पूजा में अलग-अलग तरह की पूजा सामग्री का विशेष महत्व है।

यदि पूजा सामग्री पूरी न हो तो नवरात्रि का व्रत और पूजा भी अधूरी मानी जाती है। ऐसे में अगर आप नवरात्रि से पहले ही संपूर्ण सामग्री की लिस्ट तैयार कर लेते हैं तो आपकी पूजा में कोई विघ्न नहीं होगा और पूजा भी पूर्ण होगी। और आप पर माताणी (माता रानी) का आशीर्वाद बना रहेगा। आइए जानते हैं नवरात्रि पर पूजा सामग्री की लिस्ट …।

यह भी पढ़ें: चैत्र नवरात्रि 2021: नवरात्रि में इस दिन करें घट स्थापना, जानें शुभ मुहूर्त, विधि और महत्व

नवरात्रि पूजा सामग्री लिस्ट / नवरात्रि पूजा थाली सामग्री:श्रीदुर्गा की सुंदर प्रतिमा या फोटो, सिंदूर, केसर, कपूर, धूप, वस्त्र, दर्पण, कंघी, कंगन-चूड़ी, सुगंधित तेल, बंदनवार आम के पत्तों का, पुष्प, दूर्वा, कादी, बिंदी, सुपारी साबुत, हल्दी की गांठ और पिसी। हुई हल्दी, पटरा, आसन, चौकी, रोली, मौली, पुष्पहार, बेलपत्र, कमलगट्टा, दीपक, दीपबत्ती, नैवेद्य, मधु, शकर, पंचमेवा, गोफल, लाल रंग के गोटेदार चुनरीलाल रेशमी चूड़ियाँ, सिन्दूर, – आम के पत्ती, लाल वस्त्र , लंबी बत्ती के लिए रुई या बत्ती, धूप, अगरबत्ती, माचिस, चौकी, चौकी के लिए लाल कपड़ा, पानी वाला जटायुक्त नारियल, दुर्गासप नीलाशती किताब, कलश, साफ चावल, कुकुम, मौली, श्रृंगार का सामान, दीपक, घी / तेल,। फूल, फूलों का हार, पान, सुपारी, लाल झंडा, लौंग, इलायची, बताशे या मिसरी, असली कपूर, उपले, फल / मिठाई, दुर्गा चालीसा व आरती की किताब, कलावा, मेवे, हवन के लिए आम की लकड़ी, जौ पांच मेवा, घी, लोबान, गुग्गुल, लौंग, कमल गट्टा, सुपारी, कपूर। और हवन कुंड आदि। (अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारी और सूचना सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। हिंदी समाचार 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है। ये पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।)





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments