Saturday, September 24, 2022
HomeIndiaदिल्ली NCR में बारिश ने बढ़ाई परेशानी, पूरी रात बरसे बदरा, गिरा...

दिल्ली NCR में बारिश ने बढ़ाई परेशानी, पूरी रात बरसे बदरा, गिरा तापमान


नई दिल्ली. दिल्ली NCR में हो रही बारिश ने लोगों की परेशान बढ़ा दी है। अक्टूबर के महीने में इतनी बारिश अरसे बाद देखी गई है। रविवार दोपहर के बाद शुरू हुई बारिश का सिलसिला लगातार जारी है। बारिश पूरी रात होती रही। दिल्ली और आसपास के इलाकों में कभी रिमझिम तो कभी मूसलाधार बारिश होती रही। मौसम विभाग ने दिल्ली एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत के लिए बारिश का अलर्ट जारी किया था, लेकिन दिल्ली में जो बारिश हो रही है वो मौसम विभाग के अनुमान से भी ज्यादा है।

उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट, रोकी गई बद्रीनाथ यात्रा

न्यूज एजेंसी ANI ने जानकारी दी है कि उत्तराखंड के चमोली जिले में बारिश की शुरुआत हो चुकी है। IMD ने यहां बारिश के लिए रेड अलर्ट जारी किया है, जिसके बाद एहतियातन बद्रीनाथ यात्रा को रोक दिया है। इससे पहले उत्तराखंड में रविवार से अगले दो-तीन दिन भारी बारिश के अलर्ट को देखते हुए पर्यटकों और श्रद्धालुओं को फिलहाल यात्रा टालने का सुझाव दिया गया है जबकि एहतियात के तौर पर सोमवार के लिए शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने संवाददाताओं को बताया कि सभी जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है और यात्रियों से अगले दो दिन तक यात्रा टालने का अनुरोध किया गया है। दशहरा की छुटि्टयों के कारण इस समय प्रदेश में हजारों की संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु चारधाम यात्रा तथा अन्य पर्यटक स्थलों में आए हुए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, “चारधाम में भी बडी संख्या में यात्री आए हुए हैं। उनसे भी हमने अनुरोध किया है कि एक-दो दिन भारी बारिश होने की आशंका है और इसलिए अभी यात्रा को टाल दें।”

धामी ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में जिलाधिकारियों तथा पुलिस अधीक्षकों को जिलों में पूरी सतर्कता बरतने तथा राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) और अन्य संबंधित विभागों के कर्मचारियों को संवेदनशील स्थानों पर हाई अलर्ट मोड पर रखने के निर्देश दिए हैं। चमोली, उत्तरकाशी और रूद्रप्रयाग जिलों के प्रशासन को अतिरिक्त सतर्कता बरतने को कहा गया है जहां इस समय चारधाम यात्रा चल रही है। उन्होंने कहा कि कहीं भी कोई घटना होती है तो प्रतिक्रिया समय कम से कम होना चाहिए तथा जरूरत होने पर प्रभावितों को तत्काल राहत मिलनी चाहिए। 

केरल में अबतक 22 की मौत

केरल के दो जिलों में भारी बारिश और भूस्खलन की घटनाओं में मृतकों की संख्या रविवार को बढ़कर 22 हो गयी। बारिश प्रभावित विभिन्न इलाकों से 22 शव बरामद किए गए। इनमें कोट्टायम से 13 और इडुक्की से नौ शव बरामद हुए। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम ने बचाव अभियान जारी रखा है। अधिकारियों ने बताया कि कोट्टायम और इडुक्की जिलों के पर्वतीय इलाकों में शनिवार को भारी बारिश के बाद अचानक आई बाढ़ एवं भूस्खलन से लोगों की मौत हुई।

इडुक्की की जिलाधिकारी शीबा जॉर्ज ने बताया कि खराब मौसम के कारण इडुक्की के पहाड़ी इलाकों में यात्रा पर प्रतिबंध है। उन्होंने बताया, “अब तक नौ शव बरामद किए गए हैं। दो लोग लापता हैं।” इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन से फोन पर बात की और बारिश के कारण उत्पन्न स्थिति पर चर्चा की। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन से बातचीत की और केरल में भारी बारिश तथा भूस्खलन के मद्देनजर स्थिति पर विचार-विमर्श किया। अधिकारी घायलों और प्रभावितों की सहायता के लिए काम कर रहे हैं।”

ओडिशा और बंगाल में 20 अक्टूबर तक भारी वर्षा होने के आसार

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने रविवार को बताया कि उत्तरी तेलंगाना के ऊपर निम्न दबाव का क्षेत्र बनने एवं बंगाल की खाड़ी से तेज दक्षिण-पूर्वी हवा चलने के कारण पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 20 अक्टूबर तक भारी वर्षा होने के आसार हैं। IMD ने मछुआरों को मंगलवार तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है। निम्न दबाव क्षेत्र के प्रभाव के कारण उत्तरी बंगाल की खाड़ी में गहरे समुद्री क्षेत्रों में 19 अक्टूबर तक हवा की गति 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से 60 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की प्रबल संभावना है। 

मौसम विभाग ने वर्षा के कारण नदियों में जलस्तर बढ़ने, निचले इलाकों में जलभराव होने तथा दार्जिलिंग एवं कलीमपोंग जिलों में भूस्खलन की चेतावनी दी है। भारी बारिश के कारण पहले से ही परेशान ओडिशा में सरकार ने जिला अधिकारियों को हालात पर कड़ी नजर रखने के लिए सतर्क रहने को कहा है। क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के उपनिदेशक संजीव बंदोपाध्याय ने कहा कि बारिश से राज्य में खेतों में धान की फसल को नुकसान पहुंच सकता है। राज्य के कई जिलों में धान की फसल कटने को तैयार है। हावड़ा, हुगली और पूर्वी मेदिनीपुर समेत राज्य के दक्षिणी जिलों में हाल में वर्षा के कारण बाढ़ आयी है।

बंदोपाध्याय ने कहा कि कोलकाता समेत राज्य के दक्षिण जिलों में रविवार से भारी से अत्यधिक भारी वर्षा हो सकती है। उत्तरी बंगाल के जिलों में सोमवार से वर्षा संबंधी गतिविधि तेज होगी। भुवनेश्वर के मौसम विभाग कार्यालय के सूत्रों ने कहा कि शनिवार से ही सुंदरगढ़, क्योंझर, मयूरभंज, बालासोर, भद्रक, केंद्रपाड़ा और जगतसिंहपुर के कुछ हिस्सों में रुक-रुक कर बारिश हो रही है। आईएमडी ने सोमवार से सुंदरगढ़, क्योंझर, मयूरभंज, बालासोर, भद्रक और जाजपुर जैसे जिलों में भारी बारिश होने और गरज के साथ बौछारें पड़ने का अनुमान लगाया है। विशेष राहत आयुक्त ने सभी जिलाधिकारियों को स्थिति पर नजर रखने का निर्देश दिया है।





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments