Thursday, November 26, 2020
Home Desh दिल्ली में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए, अग्निशमन विभाग ने पानी...

दिल्ली में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए, अग्निशमन विभाग ने पानी का छिड़काव शुरू कर दिया है – दिल्ली में प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए फायर डिपार्टमेंट ने कसी कमर, पानी की निकासी शुरू की


दिल्ली में प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए फायर डिपार्टमेंट ने कसी कमर, पानी का छिड़काव शुरू किया

दिल्ली के वजीग्राम में पानी का छिड़काव करते हुए फायर डिपार्टमेंट में कर्मचारी।

नई दिल्ली:

दिल्ली प्रदूषण: दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर फायर डिपार्टमेंट ने कमर कस ली है। दिल्ली के 13 पोल में दो डिस्प्ले में पानी का छिड़काव किया जाएगा। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली फायर डिपार्टमेंट ने प्रदूषण की रोकथाम के लिए एक अभियान की शुरुआत की है।

यह भी पढ़ें

दिल्ली दमकल विभाग के डायरेक्टर अतुल गर्ग के मुताबिक दिल्ली में कुल 13 ऐसे हॉट डिस्प्लेरिट किए गए हैं जो सबसे ज्यादा प्रदूषित हैं। इनही 13 हॉट डिस्प्ले में से एक वजीग्राम इलाके में शनिवार को फायर विभाग ने पानी का छिड़काव शुरू कर दिया। यह मुहिम लगातार जारी रहेगी।

दूसरी ओर दिल्ली में प्रदूषण को लेकर राजनीतिक विवाद भी शुरू हो गया है। दिल्ली सरकार ने खुले में कूड़ा जलाने के लिए बीजेपी शासित उत्तरी दिल्ली नगर निगम पर एक करोड़ का दबाव डाला है। करने सवाल ये है कि उल्लंघन करने वाले क्या वास्तव में ये भालू भरेंगे? दिल्ली के किरारी इलाक़े में रोक के बावजूद धड़ल्ले से कूड़ा जलाया जा रहा है। यह इलाका बीजेपी शासित उत्तरी दिल्ली के अंतर्गत आता है। आप आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार ने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के जरिए निगम पर एक करोड़ का घाटा लगाने का आदेश दिया है।

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्ढा का कहना है कि '' यह एक करोड़ भी कम है। ये आपराधिक काम किया है। हम ये वसूल करेंगे चाहे हमें क्यों न अटैच करना पड़े। ’’ कड़ा संदेश देने के लिए हर हाल में एक करोड़ रुपये का हिसाब वसूल करने की बात कर रही दिल्ली सरकार पर उत्तरी नगर निगम ने उल्टा ही आरोप लगा दिया है। निगम ने कहा है कि उसे बदनाम करने के लिए आम आदमी पार्टी के ही लोगों ने कूड़े में आग लगाई और फिर फंसाने के लिए शिकायत दर्ज कराई। उत्तरी नगर निगम के मेयर जय प्रकाश ने कहा कि '' हमने उनके खिलाफ़ FIR की है। आप का विधायक हमें बदनाम कर रहा है। ''

यानी अब पुलिस कचहरी के चक्कर लगेंगे, राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप होंगे, पर ये हमले वसूला नहीं जा पाएगा। अगर इस एक करोड़ को जोड़ लें तो इस साल अब तक एक करोड़ 20 लाख का घाटा हो चुका है।

वहीं दूसरी तरफ़ पंजाब के कई इलाकों में जमकर पराली जलाई जा रही है। मोहाली और अमृतसर में पराली जलाई जा रही है। यही कारण है कि दिल्ली में सिर्फ़ 24 घंटे में प्रदूषण में पराली का योगदान 6% से बढ़कर 19% हो गया है।

सवाल यही है कि हर साल प्रदूषण नियंत्रण पर काम करने वाली एजेंसियां ​​करोड़ों का संयोजन काटती हैं लेकिन उल्लंघन करने वाले दोष देने के बजाय कोर्ट पहुंच जाते हैं और फिर ये मामले सालों तक चलते हैं। सील लगाने और प्राथमिकी करने के तमाम आदेश सिर्फ़ अख़बार और टीवी चैनलों की सुर्ख़ियों में ही सिमट कर रह जाते हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

1 दिसंबर से नए कोरोनोवायरस दिशा-निर्देश, राज्यों ने रोकथाम के कदमों को लागू करने, COVID-19-उपयुक्त व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए कहा – कोरोना...

गृह मंत्रालय (एमएचए) ने निगरानी, ​​रोकथाम और सावधानी के लिए दिशानिर्देश के साथ आज एक आदेश जारी किया, जो 1 दिसंबर, 2020 से...

यूपी: 28 विदेशी कंपनियां करेंगी नौ हजार करोड़ का निवेश | उप्र: 28 विदेशी कंपनियां नौ हजार करोड़ का करेंगी निवेश

लखनऊ, 24 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में जब वैश्विक स्तर पर संदेह छाई थी, उस समय उत्तर प्रदेश देशी-विदेशी कंपनियों की...

फारूक अब्दुल्ला ने भूमि घोटाले के आरोपों पर प्रतिक्रिया दी, 10 अंक – भूमि संरक्षण के आरोपों पर फारुक अब्बीदुल्ला बोले-झूठ फैलाया जा रहा...

फारुक अब्सीदुल्ला ने आरोपों को उनकी छवि प्रदान करने के समझौते पर दिया हैश्रीनगर: जम्ममू -श्सिर (जम्मू और कश्मीर)...

भोपल गैस पीड़ितों के लिए घातक COVID-19, यूनियन कार्बाइड से अधिक मुआवजा चाहता है – भोपाल के गैस पीड़ितों के लिए जानलेवा साबित हो...

भोपाल गैस त्रासदी के शिशु अभी भी कई आत्मसात नई समसयाओं का सामना कर रहे हैं (प्रतीकात्मक शब्द)खास बातेंगैस पीडिआतों के लिए कन्फरत...

Recent Comments